गाजीपुर से चौथी कामयाबी नहीं हासिल कर सके मनोज सिन्हा

गाजीपुर से चौथी कामयाबी के लिए चुनाव मैदान में उतरे मनोज सिन्हा को अफजाल अंसारी से हार का सामना करना पड़ा है.

News18Hindi
Updated: May 23, 2019, 11:11 PM IST
गाजीपुर से चौथी कामयाबी नहीं हासिल कर सके मनोज सिन्हा
गाजीपुर से चौथी कामयाबी के लिए चुनाव मैदान में उतरे मनोज सिन्हा को अफजाल अंसारी से हार का सामना करना पड़ा है.
News18Hindi
Updated: May 23, 2019, 11:11 PM IST
उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के गठबंधन के बावजूद बीजेपी ने बड़ी कामयाबी हासिल की है. लेकिन पार्टी की इस प्रचंड जीत के बावजूद केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा गाजीपुर लोकसभा सीट से हार गए हैं. उन्हें बीएसपी प्रत्याशी अफजाल अंसारी ने हराया है. अफजाल संयुक्त गठबंधन के प्रत्याशी हैं. अफजाल अंसारी को 564144 वोट मिले. मनोज सिन्हा को 446960 वोट मिले.

चौथी जीत के लिए उतरे थे मनोज सिन्हा



गाजीपुर से चौथी जीत के लिए मैदान में उतरे बीजेपी प्रत्याशी मनोज सिन्हा छात्र जीवन से राजनीति में सक्रिय रहे हैं. 57 वर्ष के मनोज सिन्हा सूबे में ही नहीं बल्कि देश के तात्कालिक राजनीति में एक बहुत बड़ा नाम है. आईआईटी बीएचयू के पूर्व छात्र और छात्र संघ के नेता रहे मनोज सिन्हा का बचपन खेत और खलिहान में ही बिता. जिसकी वजह से आज भी किसान और गांव उनके दिल में बसता है.

मनोज सिन्हा का जन्म 1 जुलाई 1959 में उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के मोहनपुरा नमक स्थान पर हुआ. ये भूमिहार ब्राह्मण जाति से ताल्लुक रखते हैं. मनोज सिन्हा ने गाजीपुर से ही अपनी स्कूली शिक्षा हासिल की और फिर बीएचयू स्थित आईआईटी से सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक किया. इसके बाद मनोज सिन्हा ने एमटेक की डिग्री भी हासिल की. लोगों के सुख-दुख में शामिल होने वाले मनोज सिन्हा का रुझान छात्र जीवन से ही राजनीति की तरफ रहा. 1982 में मनोज सिन्हा बीएचयू छात्रसंघ के अध्यक्ष भी बने.

1996 में जीता पहला चुनाव


इसके बाद से मनोज सिन्हा ने राजनीति में पीछे मुड़कर नहीं देखा. 1996 में वे पहली बार गाजीपुर सीट से चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे. 1999 में उन्हें फिर जीत हासिल हुई. 2014 में मनोज सिन्हा तीसरी बार लोकसभा के लिए चुने गए और मोदी सरकार में रेल राज्य मंत्री बने. अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने गाजीपुर को कई ट्रेनों की सौगात दी.
Loading...

ईमानदार नेता की छवि


मनोज सिन्हा के लिए कहा जाता है कि इन्हें घूमने का शौक है. खेती-किसानी से जुड़े परिवार में जन्म लेने की वजह से इनका दिल हमेशा किसान और गांव के लिए धड़कता है. उनका लगाव पिछड़े गांवों की तरफ हमेशा से ही रहा है. मनोज सिन्हा की सबसे बड़ी उपलब्धि ये है कि उन्हें राजनीति में एक ईमानदार नेता के रूप में जाना जाता है.

देश की एक लीडिंग मैगजीन ने उन्हें वर्तमान के सबसे ईमानदार सांसद का ख़िताब दिया है. मैगजीन के मुताबिक वर्तमान में मनोज सिन्हा उन इमानदार नेताओं में शुमार हैं जिहोने अपने सांसद निधि का शत-प्रतिशत इस्तेमाल लोगों के विकास के लिए लगाया है. मनोज सिन्हा अब एक बार फिर मैदान में हैं. उनके सामने गठबंधन प्रत्याशी अफजाल अंसारी ताल ठोक रहे हैं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी ताजातरीन खबरों के लिए बने रहें न्यूज़18 हिंदी के साथ. 

यह भी पढ़ें-

रायबरेली में सोनिया गांधी की जीत, वहीं भोपाल में साध्वी ने मारी बाजी

मोदी ने ट्वीटर हैंडल से 'चौकीदार' शब्द हटाया, कहा- नाम से हटाया, लेकिन अब ये मेरा अभिन्न हिस्सा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...