रिक्शाचालन से दलित साहित्य लेखन तक, वो TMC कैंडिडेट जिसकी सब तरफ है चर्चा

बालागढ़ विधानसभा सीट से टीएमसी प्रत्याशी मनोरंज ब्यापारी. (तस्वीर-Facebook )

बालागढ़ विधानसभा सीट से टीएमसी प्रत्याशी मनोरंज ब्यापारी. (तस्वीर-Facebook )

बालागढ़ विधानसभा सीट (Balagarh Assembly Seat) से टीएमसी के प्रत्याशी मनोरंजन ब्यापारी (Manoranjan Byapari) की कहानी न सिर्फ दिलचस्प है कि बल्कि संघर्षों की दास्तान भी है. कोई औपचारिक शिक्षा न लेने के बावजूद वो अब तक दर्जनों उपन्यास और सैंकड़ों लघु कहानियां लिख चुके हैं. इसके अलावा सामाजिक मुद्दों पर भी लगातार लेखन करते रहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 10:48 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election) पर पूरे देश की निगाहें हैं. एक तरफ बीजेपी सत्ता में आने का दावा कर रही है तो दूसरी तरफ टीएमसी भी तीसरी बार सरकार बनाने की कवायद में लगी है. दोनों पार्टियों की तरफ से कई दिलचस्प उम्मीदवारों को टिकट सौंपा गया है. लेकिन बालागढ़ विधानसभा सीट से टीएमसी के प्रत्याशी मनोरंजन ब्यापारी (Manoranjan Byapari) की कहानी न सिर्फ दिलचस्प है कि बल्कि संघर्षों की दास्तान भी है.

हर वक्त गले में गमछा डाले और एक बैग साथ में लिए दिखने वाले ब्यापारी रिक्शा चालक रह चुके हैं. फिर 23 साल तक कुक रहे, फिर मजदूरी की, उसके बाद बड़े लेखक बने और अब राजनीति के सफर पर निकल चुके हैं. हुगली जिले की बालागढ़ सीट को टीएमसी के लिए बेहद महत्वपूर्ण भी माना जा रहा है.

दलित साहित्य में बड़ी आवाज माना जाता है

मनोरंजन ब्यापारी को बंगाली दलित साहित्य में बड़ी आवाज माना जाता है. वे बड़े सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ता हैं. कोई औपचारिक शिक्षा न लेने के बावजूद वो अब तक दर्जनों उपन्यास और सैंकड़ों लघु कहानियां लिख चुके हैं. इसके अलावा सामाजिक मुद्दों पर भी लगातार लेखन करते रहते हैं.
मूल रूप से पूर्वी पाकिस्तान यानी बांग्लादेश के रहने वाले हैं ब्यापारी

मूल रूप से पूर्वी पाकिस्तान यानी बांग्लादेश के रहने वाले ब्यापारी ने नक्सल मूवमेंट के दौरान भी दिलचस्पी दिखाई थी. तकरीबन दिनभर प्रचार कार्यक्रमों व्यस्त रहने वाले ब्यापारी ममता बनर्जी के जबरदस्त समर्थक हैं. बालागढ़ के इलाके में मशहूर मनोरंजन ब्यापारी कहते हैं कि बीजेपी राज्य में सरकार बनाने के कितने भी दावे कर ले लेकिन टीएमसी की सत्ता में वापसी दोबारा होगी. वो कहते हैं कि राज्य की जनता ममता और बालागढ़ की जनता उन पर भरोसा दिखाएगी.

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव 8 चरणों में कराए जा रहे हैं. नतीजे 2 मई को घोषित होंगे. जिन पांच राज्यों चुनाव में हो रहे हैं उनमें सबसे ज्यादा चरण में चुनाव पश्चिम बंगाल में ही कराए जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज