Home /News /nation /

बोगीबील पुल: अरुणाचल प्रदेश पहुंचने में बचेंगे 10 घंटे, विकास होगा कई गुना तेज

बोगीबील पुल: अरुणाचल प्रदेश पहुंचने में बचेंगे 10 घंटे, विकास होगा कई गुना तेज

बोगीबील पुल (फाइल फोटो)

बोगीबील पुल (फाइल फोटो)

इस पुल से असम में डिब्रूगढ़ और अरूणाचल प्रदेश में पासीघाट के बीच आवाजाही आसान होगी. दिल्ली से डिब्रूगढ जाने वाली ट्रेन का समय भी तीन घंटे बचेगा. फिलहाल 37 घंटे लगते हैं इस मार्ग से 34 घंटे ही लगेंगे.

    (प्रांजल बरुआ)

    असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने बोगीबील ब्रिज का मंगलवार को पीएम मोदी उद्घाटन करेंगे. 4.9 किलोमीटर लंबे इस पुल की मदद से असम के तिनसुकिया से अरुणाचल प्रदेश के नाहरलगुन कस्बे तक की रेलयात्रा में लगने वाले समय में 10 घंटे से अधिक की कमी आने की उम्मीद है.

    सरकार लगातार इस ब्रिज की तारीफ कर रही है. सरकार का कहना है कि इससे न सिर्फ इससे आर्थिक विकास होगा बल्कि सुरक्षा बढ़ेगी और कनेक्टिविटी भी बढ़ेगी. लेकिन असम के कुछ लोग इससे नाखुश भी नज़र आ रहे हैं.

    यह भी पढ़ें: क्या बेटे अबराम के साथ शाहरुख की यह तस्वीर देखी! घर पर ही मना रहे क्रिसमस

    दरअसल, ब्रह्मपुत्र नदी पर इस पुल के बनने के बाद मछुवारे इसे अपनी रोजी-रोटी के लिए खतरा मान रहे हैं. ब्रह्मपुत्र नदी के उत्तरी और दक्षिणी तट से करीब 40 नौकाएं चलती हैं. इन नौकाओं के जरिए लोगों के साथ ही दोपहिया वाहनों और कार आदि सामान को भी नदी के दूसरी ओर पहुंचाया जाता है. दो नौकाओं का संचालन राज्य सरकार करती है जबकि बाकी का संचालन निजी तौर पर होता है. हर नौका के संचालन में तीन लोग लगे होते हैं. इन मछुवारों का मानना है कि बोगीबील ब्रिज के कारण उनकी रोजी रोटी छिन जाएगी.

    इसके अलावा ब्रिज के नाम को लेकर भी अलग अलग वर्गों में असंतोष है. असम के अलग- अलग वर्गों द्वारा करीब सात अलग अलग नाम सुझाए गए थे. जहां एक तरफ सुतिया समुदाय के लोग चाहते थे कि ब्रिज का नाम उनके राजवंश की रानी सती साधिनी के नाम पर रखा जाए वहीं ताई-अहोम समुदाय के लोग चाह रहे थे कि छह सौ साल पहले अहोम राजवंश की स्थापना करने वाले चाओलांग सिऊ-का-फा के नाम पर रखा जाए. देवरी और मिसिंग जनजातियों के लोग भी चाहते थे कि ब्रिज का नाम उनके नेताओं भीमबोर देउरी और स्वाहिद कमला मिरी के नाम पर रखा जाए.

    हालांकि सरकार का तर्क है कि ब्रिज के खुल जाने से वाहनों की सुगम आवाजाही के साथ ही धेमाजी के लोगों को बड़े अस्पताल, शैक्षणिक संस्थान और डिब्रूगढ़ एयरपोर्ट जाने में बहुत आसानी होगी. नौका से नदी पार करने पर 45 मिनट से दो घंटे तक का समय लगता है, लेकिन पुल के खुल जाने से एक ओर से दूसरी ओर जाने में महज दस मिनट का समय लगेगा. समय के साथ ही पैसे की भी बचत होगी.

    इस पुल से असम में डिब्रूगढ़ और अरूणाचल प्रदेश में पासीघाट के बीच आवाजाही आसान होगी. दिल्ली से डिब्रूगढ जाने वाली ट्रेन का समय भी तीन घंटे बचेगा. फिलहाल 37 घंटे लगते हैं इस मार्ग से 34 घंटे ही लगेंगे.

    यह भी पढ़ें:  GST पर मिल सकती है और राहत, इन चीजों पर कम हो सकते हैं रेट्स

    (भाषा इनपुट के साथ)

    Tags: Assam, BJP, Congress, Narendra modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर