Home /News /nation /

MapmyIndia: कौन है ये भारतीय जोड़ा, जिसने लिखी शून्य से 58 करोड़ डॉलर की संपत्ति तक की कहानी

MapmyIndia: कौन है ये भारतीय जोड़ा, जिसने लिखी शून्य से 58 करोड़ डॉलर की संपत्ति तक की कहानी

MapmyIndia IPO के लिए 1,000-1,033 रुपये का प्राइस बैंड तय किया गया.

MapmyIndia IPO के लिए 1,000-1,033 रुपये का प्राइस बैंड तय किया गया.

MapmyIndia IPO: 1970 के समय भारत के बड़े इंजीनियरिंग संस्थानों से शिक्षा हासिल करने के बाद दोनों ने अमेरिका का रुख किया. वहां, उन्होंने ग्रेजुएट डिग्री पूरी की और सफल करियर की शुरुआत की. राकेस जनरल मोटर्स में सफलता की कहानी लिख रहे थे, तो रश्मि इंटरनेशनल बिजनेस मशीन्स कॉर्प. में कंप्यूटर डेटाबेस पर काम कर रही थीं. जब दंपति भारत पहुंचे, तो उन्होंने यहां डिजिटल मैपिंग क्षेत्र को देखा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. डिजिटल मैपिंग (Digital Mapping) कंपनी मैपमायइंडिया की मूल इकाई सीई इंफो सिस्टम्स लिमिटेड का शेयर मंगलवार को कारोबार के पहले दिन अपने निर्गम मूल्य 1,033 रुपये के मुकाबले 35 प्रतिशत की बढ़त के साथ बंद हुआ. इससे पहले, कंपनी का शेयर 53 प्रतिशत उछलकर सूचीबद्ध हुआ था. कंपनी की शुरुआत करने वाले राकेश औऱ रश्मि वर्मा की संपत्ति नए आंकड़ों के साथ 58.6 करोड़ डॉलर हो गई. हालांकि, भारत के डिजिटल मैप तैयार करने की कल्पना से लेकर इसे साकार करने का सफर वर्मा दंपति के लिए आसान नहीं था.

    71 वर्षीय राकेश औऱ 65 साल की रश्मि ने कंपनी की शुरुआत 1990 के मध्य में की थी. तब कारोबार मैपिंग डेटा खरीदने में कम ही दिलचस्पी दिखाते थे. उस दौरान भारत में पब्लिक इंटरनेट की पहुंच नहीं थी. वहीं, स्टार्टअप भी अपनी आधुनिक पहचान बनाने के लिए मेहनतर कर रहे थे. जब भारत में उद्यमिता के क्षेत्र का विकास हुआ, तो वर्मा दंपति भी तैयार हुए. कंपनी में चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर के तौर पर रश्मि ने तकनीक के क्षेत्र में कमान संभाली, तो राकेश कंपनी के विस्तार में लग गए.

    1970 के समय भारत के बड़े इंजीनियरिंग संस्थानों से शिक्षा हासिल करने के बाद दोनों ने अमेरिका का रुख किया. वहां, उन्होंने ग्रेजुएट डिग्री पूरी की और सफल करियर की शुरुआत की. राकेस जनरल मोटर्स में सफलता की कहानी लिख रहे थे, तो रश्मि इंटरनेशनल बिजनेस मशीन्स कॉर्प. में कंप्यूटर डेटाबेस पर काम कर रही थीं. जब दंपति भारत पहुंचे, तो उन्होंने यहां डिजिटल मैपिंग क्षेत्र को देखा.

    दंपति का कहना है कि भारत की मैपिंग के शुरुआत कुछ साल बुरे सपने की तरह थे. राकेश कई बार मुंबई की सड़कों पर निकले, जहां सर्वे टीम के साथ मिलकर पते मैनुअली रिकॉर्ड किए. जैसे-जैसे तकनीक बेहतर हुई, तो डेटा ने देश के अन्य हिस्सों की जानकारी हासिल करने में मदद की.

    यह भी पढ़ें: आलीशान हवेलियां, महंगी छुट्टियां और असीमित दौलत; पढ़ें दुबई के ‘शाही’ तलाक की इनसाइड स्टोरी

    वर्मा दंपति की मेहनत यहां रंग लाई. बमुश्किल एक साल बाद ही कोका कोला ने वर्मा को अपने डिस्ट्रिब्यूटरशिप चार्ट करने के लिए हायर कर लिया. साल 2004 में राकेश और रश्मि ने भारत के पहले इंटरेक्टिव मैप्स प्लेटफॉर्म की शुरुआत की. राकेश कहते हैं, ‘…हमने हर शहर, हर गांव, बस्ती के साथ 99.99 फीसदी भारत को मैप किया है.’

    नकद निवेश के साथ ही वर्मा कंपनी के विस्तार की योजना बना रहे हैं. दंपति का कहना है कि मंगलवार को मिली सफलता का उनकी जीवनशैली पर कोई असर नहीं पड़ेगा. रश्मि कहती हैं, ‘मेरा काम औऱ मेरा परिवार, जिसमें चार पोते-पोतियां शामिल है, मेरा जुनून है.’ उन्होंने कहा, ‘कुछ नहीं बदलेगा.’

    Tags: Business news, Corporate Kahaniyan

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर