अवैध टेलीफोन एक्सचेंज मामले में मारन बंधु को CBI कोर्ट ने किया आरोपमुक्त

जब दयानिधी संचार मंत्री थे तब 04 से 06 के बीच उनके स्थानीय आवास पर एक अवैध निजी टेलीफोन एक्सचेंज लगाया गया था

भाषा
Updated: March 14, 2018, 7:17 PM IST
अवैध टेलीफोन एक्सचेंज मामले में मारन बंधु को CBI कोर्ट ने किया आरोपमुक्त
दयानिधि मारन फाइल फोटो
भाषा
Updated: March 14, 2018, 7:17 PM IST
सीबीआई की एक विशेष अदालत ने  ‘‘अवैध’’ टेलीफोन एक्सचेंज मामले में पूर्व संचार मंत्री दयानिधि मारन, उनके भाई कलानिधि एवं दूसरे आरोपियों को आरोपमुक्त कर दिया गया है. मारन बंधु और दूसरे आरोपियों की तरफ से मामले से बरी करने का अनुरोध करते हुये एक आवेदन दिया गया था. सीबीआई के स्पेशल जज ए.नटराजन ने इस आवेदन को स्वीकार कर लिया. इसमें कहा गया था कि उन लोगों के खिलाफ पहली नज़र में कोई मामला नहीं है. जज ने इस आवेदन पर 9 मार्च को सुनवाई पूरी की थी और कहा था कि इस पर 14 मार्च को फैसला सुनाया जायेगा.

सीबीआई ने आरोप लगाया था कि जब दयानिधी संचार मंत्री थे तब 04 से 06 के बीच उनके स्थानीय आवास पर एक अवैध निजी टेलीफोन एक्सचेंज लगाया गया था, इसका इस्तेमाल उनके भाई कलानिधि की कंपनी सन नेटवर्क के व्यापार के लिए किया जाता था. जांच एजेंसी ने आरोप लगाया कि दयानिधि की इस कार्रवाई से 1 करोड़ 78 लाख रूपये के राजस्व का नुकसान हुआ था.

दूसरे आरोपियों को इस मामले से बरी किया गया है उनमें बीएसएनएल के पूर्व महाप्रबंधक के ब्रह्मनाथन, पूर्व उप महा प्रबंधक एम.पी. वेलुसामी, दयानिधि के निजी सचिव गौतमन और सनटीवी के अधिकारी शामिल हैं. इस याचिका पर सुनवाई करते हुए मारन बंधु और दूसरे आरोपियों ने अदालत से कहा कि वे निर्दोष हैं और उन्होंने ऐसी कोई अनियमितता नहीं की है जैसा कि अभियोजन पक्ष आरोप लगा रहा है.

ये भी पढ़ें:

चारा घोटाला : एक और मामले में बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह को नोटिस

दारा सिंह एनकाउंटर केस: कोर्ट ने सुनाया फैसला, 11 साल बाद सभी आरोपी बरी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->