लाइव टीवी

हाईकोर्ट ने करार दिया था जुवेनाइल, मैरेज सर्टिफिकेट ने खोला पत्नी की हत्या का राज़

Utkarsh Anand | News18Hindi
Updated: June 1, 2018, 11:43 AM IST
हाईकोर्ट ने करार दिया था जुवेनाइल, मैरेज सर्टिफिकेट ने खोला पत्नी की हत्या का राज़
आरोपी अबसेर मलिक की उम्र को लेकर तस्वीर साफ नहीं थी. लिहाजा कोर्ट ने ये मान लिया कि जिस दिन उसने मर्डर किया वो नाबालिग था.

आरोपी अबसेर मलिक की उम्र को लेकर तस्वीर साफ नहीं थी. लिहाजा कोर्ट ने ये मान लिया कि जिस दिन उसने मर्डर किया वो नाबालिग था.

  • Share this:
किसी ने शायद सच ही कहा है कि कानून के हाथ लंबे होते हैं. कोलकाता में एक शख्स ने दहेज के लिए अपनी बीवी को परेशान किया और फिर उसका मर्डर कर दिया. मामला कोर्ट पहुंचा तो आरोपी ने जुवेनाइल होने का दावा किया, जिससे कि उन्हें जेल में कम सजा काटनी पड़े. लेकिन मैरेज सर्टिफिकेट ने उसकी जुवेनाइल होने की झूठी कहानी पर पानी फेर दिया.

ये मामला पश्चिम बंगाल का है. आरोपी अबसेर मलिक की उम्र को लेकर तस्वीर साफ नहीं थी. लिहाजा कोर्ट ने ये मान लिया कि जिस दिन उसने मर्डर किया वो नाबालिग था. ऐसे में इस केस को किशोर न्यायालय (चाइल्ड कोर्ट) रेफर कर दिया गया.

आपको बता दें कि जुवेनाइल उस व्यक्ति को माना जाता है, जिसकी उम्र 18 साल से कम है. इससे तहत जघन्य अपराधों के मामले में न्यूनतम 3 साल से लेकर 7 साल तक कैद की सजा का प्रावधान है. जबकि सामान्य अपराधों के लिए न्यूनतम सजा 3 साल कैद है. लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी अबसेर मलिक के केस को एक बार फिर से रेगुलर कोर्ट भेज दिया है.

पिछले साल कलकत्ता हाई कोर्ट ने कहा था कि मलिक ने अपराध 10 सितंबर, 2014 को किया था. घटना की तारीख के दिन वो जुवेनाइल था. हाई कोर्ट ने 2016 में मलिक का ऑसिफिकेशन टेस्ट (उम्र की जांच) करवया. इस टेस्ट से पता चला कि उसकी उम्र 20 साल के आस-पास है.

ऐसे में कलकत्ता हाई कोर्ट ने मलिक की केस को जुवेनाइल एक्ट में रखा. लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट में न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस फैसले को खारिज कर दिया है. यहां मलिक की उम्र की असली जानकारी उसकी मैरेज सर्टिफिकेट से मिली. बेंच ने स्कूल के प्रमाण पत्र को मानने से इनकार कर दिया. ये भी कहा गया कि स्कूल प्रमाण पत्र को ट्रायल कोर्ट के सामने पहले क्यों नहीं रखा गया इसलिए, अब ये सुप्रीम कोर्ट के सामने रिकॉर्ड का हिस्सा नहीं बन सकता है.

ये भी पढ़े:

मेनका गांधी की मांग, ‘दहेज कैलकुलेट करने वाली’ वेबसाइट हो बैनDowry Calculator वेबसाइट को प्रतिबंधित करने पर सरकार जल्द ले सकती है फ़ैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 1, 2018, 11:24 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर