भारत पर हुए कई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड है अजहर, पाक में आज भी घूम रहा है खुला

मसूद अजहर को 1994 में भारत ने पुर्तगाल के फर्जी पासपोर्ट पर यात्रा के लिए गिरफ्तार किया गया था लेकिन उसे 17 साल पहले 1999 में कंधार विमान अपहरण के वक्त भारत को रिहा करना पड़ा था.

News18Hindi
Updated: March 14, 2019, 12:31 AM IST
भारत पर हुए कई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड है अजहर, पाक में आज भी घूम रहा है खुला
मसूद अजहर
News18Hindi
Updated: March 14, 2019, 12:31 AM IST
भारत मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी बनाने के लिए वैश्विक तौर पर प्रयास कर रहा है लेकिन हमेशा की तरह इस बार भी भारत को निराशा हासिल हुई. कई देशों ने इस मुहिम में भारत का साथ दिया है लेकिन चीन हमेशा भारत का विरोध करता आया है. इस बार भी चीन ने भारत का साथ देने इनकार कर दिया है.

ऐसे में यह जानना जरूरी है कि आतंकी अजहर कौन है. मसूद  1968 में जन्मा मसूद अजहर (जिसे अक्सर मौलाना मसूद अजहर भी कहा जाता है) 'जैश-ए-मोहम्मद' नाम के आतंकी संगठन का संस्थापक है.

भारत के अलावा यह आतंकी संगठन अमेरिका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में भी अपनी आतंकी गतिविधियों के चलते जाना जाता है. संयुक्त राष्ट्र इस संगठन को ब्लैकलिस्ट भी कर चुका है. यह संगठन पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से चलाया जाता है. मसूद अजहर अपनी भारत विरोधी गतिविधियों के चलते जाना जाता है. और भारत के मोस्ट वांटेड आतंकियों में एक है.



मसूद अजहर को 1994 में भारत ने पुर्तगाल के फर्जी पासपोर्ट पर यात्रा के लिए गिरफ्तार किया गया था लेकिन उसे 17 साल पहले 1999 में कंधार विमान अपहरण के वक्त भारत को रिहा करना पड़ा था.  भारत कई बार दावा कर चुका है कि मसूद अजहर को पाकिस्तानी खूफिया एजेंसी ISI से मदद मिलती है.

जानिए कब-कब मसूद के संगठन जैश ने भारत पर आतंकी हमलों को अंजाम दिया.


Loading...

जैश के भारत पर बड़े आतंकी हमले
1. जैश-ए-मोहम्मद ने कश्मीर में अपनी पहली दस्तक 19 अप्रेल 2000 को दी जब 17 साल के एक स्कूली लड़के ने विस्फोटकों से लदी एक कार को 15 कॉर्प्स हेडक्वॉर्टर के गेट पर उड़ा दिया.

2. 25 दिसंबर 2000 को कश्मीर में सेना के मुख्यालय के बाहर कार बम से हमला किया गया.

3. 2001 में श्रीनगर विधानसभा भवन पर फिदायीन हमला किया गया. पाकिस्तान ने इस हमले की निंदा करते हुए इसे आतंकवाद बताया था. जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली. हमला करने वाले की पहचना वजाहत हुसैन के तौर पर हुई.

4. दिसंबर 2001 में जैश-ए-मोहम्मद ने राजधानी दिल्ली में संसद भवन पर हमला किया. इस हमले में दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में मसूद अजहर क नाम भी शामिल किया था.

5. नवंबर 2005 में जैश के आतंकी ने तब के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के घर पर कार बम से हमला किया. इस हमले में 5 लोग मारे गए.

(यह भी पढ़ें: मसूद अजहर को 'ग्लोबल आतंकवादी' घोषित करने पर चीन लगा सकता है अड़ंगा)

6. 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमले के सिलसिले में मसूद को मुजफ्फराबाद से गिरफ्तार किया गया. हालांकि आधिकारिक तौर पर इस गिरफ्तारी की कभी पुष्टि नहीं की गई.

7. 6 साल बाद 2014 में अजहर मसूद मुजफ्फराबाद में फिर सार्वजनिक तौर पर नजर आया. यहां अपने भाषण में मसूद ने कश्मीर में जेहाद की बात कही.

8. जनवरी 2016 में जैश के आतंकियों ने पठानकोट एयरबेस पर हमला किया जिसमें 7 सैनिक शहीद हो गए.

9. सितंबर 2016 में उड़ी आतंकी हमले में भी जैश-ए-मोहम्मद का ही हाथ बताया जाता है. हालांकि जैश ने खुद कभी इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली.

10. दिसंबर 2016 में एनआई ने पठानकोट हमला मामले में दायर चार्जशीट में मसूद समेत उसे भाई अब्दुल रउफ असगर और दो अन्य का नाम भी शामिल किया.
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...