होम /न्यूज /राष्ट्र /

माव्या सुदान जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले की पहली और देश की 12वीं महिला फाइटर पायलट

माव्या सुदान जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले की पहली और देश की 12वीं महिला फाइटर पायलट

माव्या सुदान जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले की पहली और देश की 12वीं महिला फाइटर पायलट.

माव्या सुदान जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले की पहली और देश की 12वीं महिला फाइटर पायलट.

Mawya Sudan IAF Fighter Pilot: आईएएफ में फाइटर पायलट के तौर पर नियुक्त होने वाली माव्या देश की 12वीं और राजौरी जिले की पहली महिला अधिकारी हैं.

    श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर की रहने वालीं माव्या सुदान भारतीय वायु सेना (आईएएफ) की फाइटर पायलट बन गई हैं और यह कारनामा करने वाली वह राजौरी जिले की पहली महिला हैं. राजौरी में नौशेरा के सीमाई तहसील पर स्थित गांव लाम्बेरी में इस मौके पर खुशी का माहौल है. सुदान आईएएफ में बतौर फ्लाइंग ऑफिसर नियुक्त हुई हैं.


    आईएएफ में फाइटर पायलट के तौर पर नियुक्त होने वाली माव्या देश की 12वीं और राजौरी जिले की पहली महिला अधिकारी हैं. एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने शनिवार को हैदराबाद के डुंडीगल में स्थित वायु सेना अकादमी में आयोजित कम्बाइंड ग्रेजुएशन पासिंग आउट परेड का निरीक्षण किया था.


    माव्या के पिता विनोद सुदान ने अपनी बेटी की खास उपलब्धि पर खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा, 'मैं बहुत गर्व का अनुभव कर रहा हूं. अब वह सिर्फ मेरी बेटी नहीं है, बल्कि देश की भी बेटी है. हमें कल से ही लगातार बधाई संदेश आ रहे हैं.'


    ये भी पढ़ें- SCO बैठक में आमने-सामने होंगे भारत-पाक के NSA, नहीं होगी द्विपक्षीय बातचीत


    बहन है इंजीनियर
    फाइटर पायलट की बहन मान्यता सुदान जो कि श्री माता वैष्णो देवी श्राइन में बतौर जूनियर इंजीनियर काम करती हैं, ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि अपने स्कूल के दिनों से ही माव्या का झुकाव वायु सेना की तरफ था और वह हमेशा से ही फाइटर पायलट बनना चाहती थी.


    उन्होंने कहा, 'मुझे अपनी छोटी बहन पर बेहद गर्व है. बचपन से उसका यही सपना था. मुझे पूरा यकीन है कि जल्द ही वह बहादुरी का पुरस्कार भी अपने नाम के साथ जोड़ेगी. यह सिर्फ एक शुरुआत है. हर कोई उसके साथ अपनी बेटी की तरह व्यवहार कर रहा है. पूरे देश से लोग उसका ना सिर्फ समर्थन कर रहे हैं, बल्कि उसे प्रेरित भी कर रहे हैं. यह हर किसी के लिए एक प्रेरणा देने वाली कहानी है.'




    माव्या की मां सुषमा सुदान ने कहा, मैं बेहद खुश हूं कि उसने कड़ी मेहनत की और अपने लक्ष्य को हासिल किया. उसने हमें गर्व का अनुभव कराया है. वहीं. माव्या की दादी पुष्पा देवी ने कहा, 'गांव में हर कोई उसकी खबर सुनकर खुश है.'

    Tags: Indian air force, Jammu kashmir

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर