लाइव टीवी

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के लिए अधिकतम आयु सीमा 65 वर्ष तय

भाषा
Updated: December 29, 2019, 9:09 PM IST
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के लिए अधिकतम आयु सीमा 65 वर्ष तय
रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक अधिसूचना के अनुसार सैन्य नियमावली, 1954 में बदलाव किए गए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति ने मंगलवार को ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए सीडीएस (CDS) के सृजन को मंजूरी प्रदान की थी जो तीनों सेनाओं से संबंधित सभी मामलों के लिये रक्षा मंत्री के प्रमुख सैन्य सलाहकार के तौर पर काम करेंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief of Defence Staff) के पद के लिए अधिकतम आयु सीमा 65 वर्ष रखने के लिए नियमों में संशोधन किया है. रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) द्वारा जारी एक अधिसूचना के अनुसार सैन्य नियमावली, 1954 में बदलाव किए गए हैं.

सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति ने मंगलवार को ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए सीडीएस (CDS) के सृजन को मंजूरी प्रदान की थी जो तीनों सेनाओं से संबंधित सभी मामलों के लिये रक्षा मंत्री के प्रमुख सैन्य सलाहकार के तौर पर काम करेंगे. नियमों के अनुसार सैन्य प्रमुख अधिकतम तीन साल या 62 वर्ष की आयु तक, जो भी पहले आये, सेवा कर सकते हैं.

इससे पहले सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति ने मंगलवार को ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) के सृजन मंजूरी प्रदान कर दी जो तीनों सेनाओं से संबंधित सभी मामलों के लिये रक्षा मंत्री के एकल सैन्य सलाहकार के तौर पर काम करेगा. आधिकारिक सूत्रों ने इस आशय की जानकारी दी. सीडीएस चार स्टार जनरल के रैंक का अधिकारी होगा.

बनेगा सैन्य मामलों का नया विभाग



सरकार ने रक्षा मंत्रालय के तहत सैन्य मामलों का नया विभाग भी बनाने का निर्णय किया है और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ सैन्य मामलों के विभाग के प्रमुख होंगे और वह इसके सचिव के रूप में काम करेंगे.

1999 में करगिल समीक्षा समिति ने सरकार को एकल सैन्य सलाहकार के तौर पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के सृजन का सुझाव दिया था. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई.

अधिकारियों ने बताया कि सीडीएस का मुख्य कार्य संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल के लिए सैन्य कमानों का पुनर्गठन करना, साथ ही संयुक्त थियेटर कमान के गठन के माध्यम से अभियानों को संयुक्त रूप से चलाना होगा. उन्होंने कहा कि तीन वर्षों के अंदर तीनों सेनाओं के अभियानों, साजो-सामान, परिवहन, प्रशिक्षण, सहायक सेवाओं, संचार, देखभाल और मरम्मत को संयुक्त करना सीडीएस का प्रमुख कार्य होगा. दुनिया की सभी बड़ी शक्तियों की सेनाओं में यह पद है.

सैन्य मामलों के प्रमुख होंगे CDS
रक्षा मंत्रालय ने बताया कि साइबर और अंतरिक्ष से जुड़े तीनों सेनाओं की एजेंसियों, संगठनों और कमान सीडीएस के तहत आएंगे और वह नाभिकीय कमान प्राधिकरण के सैन्य सलाहकार के तौर पर भी काम करेंगे. सीडीएस रक्षा मंत्री की अध्यक्षता वाले रक्षा अधिग्रहण परिषद् और एनएसए की अध्यक्षता वाली रक्षा योजना समिति के भी सदस्य होंगे.

बैठक के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने संवाददाताओं से कहा कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, सैन्य मामलों के प्रमुख होंगे और वह चार स्टार जनरल होंगे. उनका वेतन सेना प्रमुख के समान होगा.

सूत्रों ने बताया कि सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडल की समिति ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के नेतृत्व वाली उच्च स्तरीय समिति की रिपोर्ट को मंजूरी दे दी. इस समिति ने सीडीएस की जिम्मेदारियों और ढांचे को अंतिम रूप दिया था.

रक्षा मंत्रालय ने कहा, 'चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ सैन्य मामलों के विभाग के प्रमुख के अलावा चीफ्स ऑफ स्टाफ कमिटी के स्थायी अध्यक्ष भी होंगे.' चीफ्स ऑफ स्टाफ कमिटी में तीनों सेनाओं के प्रमुख होते हैं और उनसे से सबसे वरिष्ठ व्यक्ति इसके अध्यक्ष के रूप में काम करते हैं.

सैन्य कमान में नहीं होंगे CDS
मंत्रालय ने कहा, 'तीनों सेना प्रमुख अपनी सेना से जुड़े मामलों पर रक्षा मंत्री को सलाह देते रहेंगे. सीडीएस किसी सैन्य कमान में नहीं होंगे ताकि राजनीतिक नेतृत्व को निष्पक्ष सलाह देते रहें.' इसने कहा कि सीडीएस के नेतृत्व वाले सैन्य मामलों का विभाग थल सेना, नौसेना और भारतीय वायुसेना सहित कई क्षेत्रों को देखेगा. साथ ही वह रक्षा मंत्रालय के समन्वित मुख्यालय को भी देखेगा.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त को घोषणा की थी कि भारत में तीनों सेना के प्रमुख के रूप में सीडीएस होगा. समझा जाता है कि सरकार अगले कुछ दिनों में पहले सीडीएस की नियुक्ति कर सकती है और सेना प्रमुख विपिन रावत का नाम इस पद के लिये सबसे आगे बताया जा रहा है जो 31 दिसंबर को सेना से सेवानिवृत हो रहे हैं.

अधिकारियों ने बताया कि सीडीएस अन्य सेना प्रमुखों के समान ही होंगे हालांकि प्रोटोकाल की सूची में सीडीएस, सेना प्रमुखों से ऊपर होंगे.

ये भी पढ़ें-
रंगोली बनाकर CAA-NRC का विरोध करने वाले 8 लोगों को हिरासत में लिया गया

संसद सत्र में रिकॉर्ड कामकाज पर PM मोदी ने राजनीतिक दलों, सांसदों को दी बधाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 29, 2019, 8:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर