Assembly Banner 2021

तब्लीगी जमात को बताया देश में कोरोना फैलने का कारण, MBBS की रेफरेंस बुक ली गई वापस

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात की फाइल फोटो.

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात की फाइल फोटो.

Coronavirus In India: MBBS रेफरेंस बुक में 'एसेंशियल्स ऑफ मेडिकल माइक्रोबायोलॉजी' में तब्लीगी जमात को संक्रमण फैलने का कारण बताया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 11:01 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. साल 2020 में जब कोरोना वायरस (Coroanvirus In India)ने देश में पांव पसारा तो इसका जिम्मेदार तब्लीगी जमात (Tablighi Jamaat)  को ठहाराया जा रहा था. सरकार में केंद्रीय मंत्री से लेकर सत्ताधारी दल के नेता वर्ग विशेष को निशाना बना रहे थे. बाद में राज्यों की हाईकोर्ट्स और देश की सुप्रीम कोर्ट ने तब्लीगी जमात को संक्रमण फैलाने का जिम्मेदार मानने और बदनाम करने के लिए सरकार और मीडिया को कड़ी फटकार लगाई थी. लेकिन डॉक्टरी की पढ़ाई से जुड़ी एक रेफरेंस बुक में भी देश में कोरोना का प्रसार फैलने की वजह तब्लीगी जमात को बताया गया. हालांकि मुद्दे पर विवाद बढ़ने के बाद प्रकाशक ने किताब वापस ले लिया है.

मिली जानकारी के अनुसार MBBS सेकेंड ईयर के लिए रेफरेंस बुक में 'एसेंशियल्स ऑफ मेडिकल माइक्रोबायोलॉजी' में तब्लीगी जमात को संक्रमण फैलने का कारण बताया गया है. इसके बाद किताब की लेखक संध्या भट और अपूर्वा शास्त्री ने माफी मांगी है.

किताब पर लेखकों ने क्या कहा?
लेखकद्वय ने कहा कि अगर उनकी किताब में प्रकाशित अंश से किसी को ठेस पहुंची है तो वह इसके लिए माफी मांगते है. जैसे ही यह मामला सामने आया उन्होंने माफी मांगी और प्रकाशक ने यह किताब वापस ले ली है. शास्त्री ने कहा कि अब किताब में बदलाव अगले संस्करण में होंगे.
अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार   जमात-ए-इस्लामी (हिंद) के छात्र विंग, इस्लामिक स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन (SIO) के एक प्रवक्ता ने कहा कि 'तथ्यों को गलत ढंग से प्रस्तुत करना' है. एसआईओ की महाराष्ट्र इकाई के एक प्रवक्ता ने कहा- कोई महामारी विज्ञान का अध्ययन नहीं है जो इस दावे को पुष्ट करता है कि  तब्लीगी जमात के कारण कोविड -19 फैल गया।. हमें खुशी है कि उन्होंने अपनी गलती स्वीकार की और किताब वापस ले लिया.



सुप्रीम कोर्ट और विभिन्न हाईकोर्ट्स ने तब्लीगी जमात को दोषी ठहराने के लिए अधिकारियों को फटकार लगाई थी. कई मामलों में विदेशियों सहित कई को गिरफ्तार कर जेल में बंद किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज