भारत और अमेरिका के बीच संबंधों को सामने आने में 6 दशक लग गए: विदेश मंत्री एस जयशंकर

एस जयशंकर ने कही बात.
एस जयशंकर ने कही बात.

विदेश मंत्री एस जयशंकर (S JaiShankar) ने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) और बराक ओबामा, जार्ज डब्ल्यू बुश व बिल क्लिंटन ने भारत के महत्व और द्विपक्षीय संबंध को मजबूत करने की जरूरत को बखूबी समझा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दो बड़े महान लोकतांत्रिक देशों के बीच तेजी से बढ़ते संबंधों के महत्व को रेखांकित करते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर (S JaiShankar) ने शनिवार को कहा कि भारत (India) और अमेरिका (United States) के बीच संबंधों को सामने आने में करीब छह दशक लग गये लेकिन ऐसा करने के बाद गंवा दिये गये समय की भरपाई की जा रही है. इंडिया ग्लोबल वीक में वीडियो संवाद सत्र में उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके तीन पूर्ववर्तियों बराक ओबामा, जार्ज डब्ल्यू बुश और बिल क्लिंटन सभी ने भारत के महत्व और द्विपक्षीय संबंध को मजबूत करने की जरूरत को बखूबी समझा है.

उन्होंने सत्र के संचालक से कहा, ‘पिछले चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों--डोनाल्ड ट्रंप, बराक ओबामा, जार्ज डब्ल्यू बुश और बिल क्लिंटन के बारे में सोचिए. मुझे पक्का यकीन है कि आप मेरी इस बात से सहमत होंगे कि आप दुनिया में एक-दूसरे से इतने कम समान चार व्यक्ति नहीं खोज सकते लेकिन चारों एक बात पर सहमत रहे हैं और वह भारत का महत्व और संबंधों को मजबूत करने की जरूरत है.’

वह भारत के साथ अमेरिका के संबंधों पर वहां के द्विदलीय समर्थन पर पूछे गये सवाल का जवाब दे रहे थे. जयशंकर ने कहा, ‘ यह आपासी रिश्ता ही है जिसके बारे मैं कहूंगा कि उसे सामने आने में छह दशक लग गये लेकिन ऐसा कर गंवा दिये गये समय की भरपाई की जा रही है.’ विदेश मंत्री ने सुरक्षा एवं रक्षा, प्रौद्योगिकी, व्यापार तथा लोगों के आपसी संपर्क समेत इस रणनीतिक संबंध के विभिन्न पक्षों की चर्चा की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज