कुलभूषण जाधव की समीक्षा याचिका का भारतीय वकील करे प्रतिनिधित्व: विदेश मंत्रालय

कुलभूषण जाधव (फाइल फोटो)

भारतीय नौसेना (Indian Navy) से अवकाश प्राप्त अधिकारी कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) को पाकिस्तान (Pakistan) की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में जासूसी और आतकंवाद के जुर्म में मौत की सजा सुनायी थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत (India) चाहता है कि कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) को पाकिस्तान (Pakistan) में उनकी मौत की सजा के खिलाफ एक समीक्षा याचिका दायर करने के लिए भारतीय वकील द्वारा प्रतिनिधित्व किया जाए. विदेश मंत्रालय (Ministry of Foreign Affairs) के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव (Anurag Srivastava) ने गुरुवार को यह जानकारी दी. श्रीवास्तव ने बताया कि “हम राजनयिक चैनलों के माध्यम से पाकिस्तान के संपर्क में हैं. श्रीवास्तव ने मंत्रालय की साप्ताहिक रिपोर्टिंग के दौरान समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि हमें विश्वास है कि कुलभूषण जाधव मामले में अंतर्राष्ट्रीय अदालत (International Court of Justice) के फैसले के पत्र और भावना को ध्यान में रखते हुए एक स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच होगी, जिसके लिए हमने जाधव का प्रतिनिधत्व भारतीय वकील द्वारा किये जाने को लेकर पाकिस्तान से पूछा है.

    उन्होंने कहा “हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि पाकिस्तान को मुख्य मुद्दों को संबोधित करने की आवश्यकता है; इन मुद्दों में प्रासंगिक दस्तावेजों का प्रावधान और जाधव तक अप्रभावित कांसुलर पहुंच प्रदान करना शामिल है.” इससे पहले पाकिस्तान की सेना ने पिछले सप्ताह को दावा किया कि उनका देश मौत की सजा काट रहे भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के प्रति अपने सभी अंतरराष्ट्रीय दायित्वों को पूरा कर रहा है. भारतीय नौसेना से अवकाश प्राप्त अधिकारी जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में जासूसी और आतकंवाद के जुर्म में मौत की सजा सुनायी थी. इसके एक सप्ताह बाद ही भारत इस मामले को अंतरराष्ट्रीय अदालत में ले गया. जहां उसने जाधव की मौत की सजा को चुनौती देते हुए कहा कि पाकिस्तान ने उन्हें राजनयिक पहुंच मुहैया नहीं करायी है. इसपर अंतरराष्ट्रीय अदालत ने पाकिस्तान को उनकी मौत की सजा तामिल करने पर रोक लगा दी.

    ये भी पढ़ें- सोशल मीडिया दुरुपयोग केस: संसदीय समिति ने फेसबुक को किया तलब, 2 सितंबर को बैठक

    पाकिस्तान ने कहा था हम कर रहे कानून का पालन
    जाधव से जुड़े एक सवाल के जवाब में पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने कहा था, ‘‘कुलभूषण पर अंतरराष्ट्रीय अदालत के फैसले को लागू किया जा रहा है.’’ रावलपिंडी में उन्होंने कहा, ‘‘हम अंतरराष्ट्रीय कानून का पालन कर रहे हैं, अंतरराष्ट्रीय अदालत के फैसले से जुड़े दायित्वों का पालन करते हुए राजनयिक पहुंच मुहैया करायी गई.’’



    पाकिस्तान ने जुलाई में जाधव को राजनयिक पहुंच उपलब्ध करायी गयी. उससे कुछ ही दिन पहले उसने दावा किया कि जाधव ने फैसले के खिलाफ अपील करने से इंकार कर दिया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.