कोटा के मैकेनिकों की जुगाड़ से नया आविष्कार, CNG लगाकर रोड पर दौड़ा दी बाइक

कोटा के मैकेनिकों की जुगाड़ से नया आविष्कार, सीएमजी लगाकर रोड पर दौड़ा दी बाइक.

कोटा के मैकेनिकों की जुगाड़ से नया आविष्कार, सीएमजी लगाकर रोड पर दौड़ा दी बाइक.

कोटा में सीएनजी ऑटो मैकेनिकों ने जुगाड़ तकनीक से एक नया आविष्कार किया है. सीएनजी (CNG) से चलने वाले ऑटो रिक्शा के साथ-साथ अब बाइक्स और मोपेड में भी सीएनजी किट फिट कर दिया है. सीएनजी किट लगने से दोपहिया वाहन का सफर किफायती के साथ पॉल्यूशन मुक्त हो गया है.

  • Share this:
कोटा. राजस्थान के कोटा (Kota) में सीएनजी (CNG) ऑटो मैकेनिकों (Auto Mechanic) ने जुगाड़ तकनीक से एक नया आविष्कार किया है. उन्होंने सीएनजी से चलने वाले ऑटो रिक्शा के साथ-साथ अब बाइक (Bike) और मोपेड में भी सीएनजी किट फिट कर कमाल कर दिया है. सीएनजी किट लगने से दोपहिया वाहन का सफर किफायती के साथ पॉल्यूशन मुक्त करने का जुगाड़ तैयार कर दिया है.

कोटा में करीब 2 साल तक मैकेनिकों द्वारा इस प्रोजेक्ट पर रिसर्च की गई. इसके बाद उन्होंने आखिरकार सीएनजी से बाइक को रोड पर दौड़ाने का सफलतापूर्वक जुगड़ आविष्कार कर दिखाया. जुगाड़ करने वालों ने दावा किया है कि दुपहिया वाहन में सीएनजी के किट को फिट करने के साथ-साथ सुरक्षा का भी पूरा इंतजाम किया है.

मैकेनिक आसिफ चौहान ने बताया कि करीब 2 साल से इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में जुटे हुए थे, लेकिन बीते साल लॉकडाउन के चलते मार्केट से सामान खरीदने में आई परेशानी के बाद अब सीएनजी से मोपेड और बाइक चलाने का किट तैयार कर लिया गया है. इसमें पेट्रोल के साथ सीएनजी का ऑप्शन भी दिया गया है, ताकि सीएनजी खत्म होने पर पेट्रोल से गाड़ी को चलाया जा सके. इसके लिए 4 किलो के दो सीएनजी सिलेंडर मोपेड के अगले हिस्से में फिट किए गए हैं. जिस की वायरिंग को पूरी तरह से सुरक्षित करके फिट किया गया है.

इसके साथ ही एक छोटा सा अग्निशमन यंत्र भी मोपेड में फिट किया गया है, जिससे कभी कोई दुर्घटना की स्थिति में बचाव किया जा सके. हालांकि इसकी संभावनाएं बहुत कम हैं, क्योंकि सीएनजी से चलने वाली बाइक्स व अन्य वाहनों में आग का खतरा न के बराबर रहता है.
कोटा में सीएनजी फोटो के मैकेनिक अनीश राइन ने अपनी टीम के साथ बाइक में सीएनजी लगाने को लेकर भरसक प्रयास किये. अनीस ने बताया कि ऑटो रिक्शा में तो हम सीएनजी किट अक्सर लगाने का काम करते हैं, लेकिन पेट्रोल के बढ़ते दामों और मोपेड का एवरेज कम होने के चलते कई बार जेब पर सफर भारी पड़ता था. इसलिए हमारी टीम ने बाइक्स में सीएनजी लगाने के प्रोजेक्ट पर काम करने का सोचा. करीब 7 बार हमें इसमें असफलता भी हाथ लगी. कभी एवरेज कम आया तो कभी किट की फिटिंग में दिक्कतें आईं, लेकिन अब हमने पूरी तरह से सुरक्षित और किफायती उपाय सफलतापूर्वक अंजाम तक पहुंचा दिया.

मैकेनिक के अनुसार पेट्रोल से करीब आधी कीमत में सीएनजी से हमें वाहन का अच्छा एवरेज भी मिल रहा है.  करीब 60 रुपये की सीएनजी में 70 किलोमीटर तक मोपेड ,बाइक्स चल रही हैं. जबकि यह पुरानी दुपहिया वाहन हैं नये वाहनों में इसका प्रति किलोमीटर और अच्छा एवरेज निकलने की उम्मीद है. हमारे पास कई दुपहिया चालक सीएनजी किट फिट करवाने के लिए संपर्क कर रहे हैं.

किट का परिवहन विभाग में करवाएगें परीक्षण



किट दुपहिया वाहन में लगाने के बाद वहां के अगले हिस्से में कुछ बदलाव नजर आ रहा है. किफायती सफर के साथ प्रदूषण मुक्त दुपहिया वाहन तैयार हो जाने पर अब किट का परिवहन विभाग के अधिकारियों से संपर्क कर टेस्ट करवाने के प्रयास किए जाएंगे. ताकि दूसरे वाहन चालकों को भी सीएनजी किट की सुविधा प्रदान की जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज