• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • मिलिए कश्मीर के अदनान मंज़ूर से, इनकी रबाब की सुरील धुनों में खो जाएंगे आप

मिलिए कश्मीर के अदनान मंज़ूर से, इनकी रबाब की सुरील धुनों में खो जाएंगे आप

अदनान का वाद्य संगीत वीडियो 'तुम्हे दिल लगे' इतना बड़ा हिट हुआ कि इसे इंटरनेट पर 50 लाख और युट्यूब पर 15 लाख लोगों ने देखा.

अदनान का वाद्य संगीत वीडियो 'तुम्हे दिल लगे' इतना बड़ा हिट हुआ कि इसे इंटरनेट पर 50 लाख और युट्यूब पर 15 लाख लोगों ने देखा.

Adnan Manzoor Youngest Rabab Player: अदनान कहते हैं कि 'इस दौर में लोग पारंपरिक वाद्य यंत्रों को भूल गए हैं. मेरा लक्ष्य ऐसे वाद्ययंत्रों को फिर से जीवित करना है.'

  • Share this:

    परवेज़ बट


    श्रीनगर. श्रीनगर के बेमिना में रहने वाले 21 साल के युवक ने रबाब पर बजाए जाने वाली अपनी सुरीली धुनों के जरिए इंटरनेट पर सनसनी मचा दी है. अदनान मंज़ूर जो कि कश्मीर विश्वविद्यालय के एक इंजीनियरिंग छात्र है, ने 15 साल की उम्र में रबाब को अपने हाथों में थामा था और एक प्रसिद्ध संगीतकार इरफान बिलाल से उसे सीखाना शुरू किया. तब से अदनान ने रबाब में इस तरह महारत हासिल की है कि वह पश्चिमी और लोक संगीत को पूरी तरह से अपनी धुनों में मिला देता है. अदनान का वाद्य संगीत वीडियो (Instrumental Music Video) 'तुम्हे दिल लगे' इतना बड़ा हिट हुआ कि इसे इंटरनेट पर 50 लाख और युट्यूब पर 15 लाख लोगों ने देखा.


    अदनान कहते हैं कि 'इस दौर में लोग पारंपरिक वाद्य यंत्रों को भूल गए हैं. मेरा लक्ष्य ऐसे वाद्ययंत्रों को फिर से जीवित करना और युवा पीढ़ी को उनकी ओर आकर्षित करना है. रबाब पर बजने वाले मेरे कई पश्चिमी धुन (Western Tunes) काफी हिट हो गए हैं.' अदनान मंजूर ने पूरे देश में कई लाइव संगीत समारोहों और कार्यक्रमों में हिस्सा लिया है. उन्होंने मशहूर संगीत निदेशख हिमेश रेशमिया के साथ भी काम किया है. वह फिलहाल जी म्यूजिक इंडस्ट्री के साथ एक नए प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं.


    अदनान ने नेटवर्क 18 से बात करते हुए कहा कि 'मेरा अंतिम सपना अंतरराष्ट्रीय दर्शकों के सामने लाइव परफॉर्मेंस करना है. मैं पूरी दुनिया में रबाब को बढ़ावा देना चाहता हूं और इसे इसकी पुराने गौरव में फिर से जीवित करना चाहता हूं.' अदनान इस समय कई युवाओं को ऑनलाइन रबाब सीखा रहे हैं. उनके पास दुनिया भर के छात्र हैं. उनका कहना है, 'मैं चाहता हूं कि युवा पीढ़ी पारंपरिक संगीत वाद्ययंत्रों के बारे में जाने और वे इन वाद्ययंत्रों को सीखें. जो कोई भी रबाब सीखना चाहता है वह मुझसे कभी भी संपर्क कर सकता है.'


    रबाब एक पारंपरिक संगीत वाद्ययंत्र है, जिसकी उत्पति अफगानिस्तान से हुई है. कई दशकों तक कश्मीर घाटी में सोफी संगीतकारों द्वारा भी इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया गया था, लेकिन नए संगीत वाद्ययंत्रों के आने की वजह से यह अपनी चमक खो रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज