कश्मीर के इस 'छोटा डॉन' ने पुलिस की नाक में कर रखा था दम, अब भेजा गया जुवेनाइल होम

News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 8:54 AM IST
कश्मीर के इस 'छोटा डॉन' ने पुलिस की नाक में कर रखा था दम, अब भेजा गया जुवेनाइल होम
सांकेतिक तस्वीर

कश्मीर (Kashmir) में छोटा डॉन नाम से मशहूर ये लड़का 10 साल की उम्र में ही पत्थरबाजों के एक गिरोह में शामिल हो गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2019, 8:54 AM IST
  • Share this:
श्रीनगर. पिछले दिनों कश्मीर (Kashmir) में पुलिस ने एक 13 साल के बच्चे को गिरफ्तार कर जुवेनाइल होम (Juvenile Home) भेज दिया. घाटी में इस बच्चे को लोग 'छोटा डॉन' के नाम से जानते थे. नवभारत टाइम्स के मुताबिक वो 10 साल की उम्र में ही पत्थरबाजों के एक गिरोह में शामिल हो गया था.

सरकारी कर्मचारियों की आईडी चेक करता था
पिछले दिनों इस लड़के को उस वक्त गिरफ्तार किया गया जब वो शोपियां में काम पर जाने वाले शिक्षकों और सरकारी कर्मचारियों को परेशान कर रहा था. शोपियां के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संदीप चौधरी ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि जब उसे पकड़ा गया उसके हाथ में एक लंबी सी छड़ी थी, जिसकी लंबाई उसकी लंबाई से भी ज्यादा थी. वो छड़ी ले कर काम पर जाने वाले शिक्षकों और कुछ सरकारी कर्मचारियों की आईडी चेक कर रहा था.


Loading...

पत्थरबाज़ी में शामिल
पुलिस के मुताबिक ये लड़का घाटी में हंगामा खड़ा करने वाले लोगों का हथियार बन गया था. परिवार के करीबी सूत्रों के मुताबिक साल 2016 से ये लड़का लगातार विरोध-प्रदर्शनों में शामिल हो रहा था. वो अपनी उम्र से दोगुनी उम्र के लड़कों के साथ दिखता था. एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक 'छोटा डॉन' सुरक्षा बलों और निजी गाड़ियों पर पत्थर फेंककर भागता नहीं था.

हालात से अंजान
पुलिस के मुताबिक 13 साल के इस छोटे से लड़के को घाटी के हालात के बारे में कोई जानकारी नहीं है. वो ये भी नहीं जानता है कि आर्टिकल 370 क्या है. वो सिर्फ स्कूल जाने से बचने के लिए नौजवान लड़कों के इशारे पर लोगों को परेशान करता था.

ये भी पढ़ें:

J&K: तनाव के दावे फेल, भारतीय सेना में भर्ती होने पहुंचे 29,000 युवा

रेल यात्री ध्यान दें, Online टिकट बुक करते हुए जानें किस कोच में खाली है सीटें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 8:36 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...