असम-त्रिपुरा के बाद अब मेघालय, नागरिकता बिल पर बढ़ी बीजेपी की मुश्किलें

भाजपा ने मंत्रिमंडल के फैसले का समर्थन किया है. एमडीए सरकार में भगवा पार्टी के दो विधायक हैं. स्वास्थ्य मंत्री और भाजपा विधायक एएल हेक ने कहा, 'हम राज्य के लोगों के साथ हैं.'

भाषा
Updated: January 11, 2019, 11:33 PM IST
असम-त्रिपुरा के बाद अब मेघालय, नागरिकता बिल पर बढ़ी बीजेपी की मुश्किलें
मेघालय के मुख्यमंत्री कोनार्ड संगमा (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: January 11, 2019, 11:33 PM IST
मेघालय डेमोक्रेटिक अलायंस कैबिनेट ने नागरिकता (संशोधन) विधेयक का विरोध करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया है. सरकार में भाजपा के भी दो मंत्री हैं. प्रदेश में भगवा पार्टी के नेतृत्व ने कहा है कि प्रस्तावित कानून पर वे जातीय मूल के लोगों के साथ हैं. कैबिनेट ने गुरुवार को बैठक के दौरान प्रस्ताव पारित किया.

भाजपा ने मंत्रिमंडल के फैसले का समर्थन किया है. एमडीए सरकार में भगवा पार्टी के दो विधायक हैं. स्वास्थ्य मंत्री और भाजपा विधायक एएल हेक ने कहा, 'हम राज्य के लोगों के साथ हैं.' राज्य कैबिनेट ने सर्वसम्मति से विधेयक के विरोध वाला एक प्रस्ताव पारित किया है और हम सरकार का हिस्सा हैं.'

इस मुद्दे पर क्या वह बीजेपी से इस्तीफा देंगे संबंधित सवाल पर उन्होंने कहा, 'सवाल ही नहीं है. लोगों ने मुझे वोट दिया है. अपने प्रतिनिधि के तौर पर उन्होंने मुझे जिम्मेदारी है और मैं इस दायित्व को निभाता रहूंगा.'

मेघालय तीसरा राज्‍य है जहां इस बिल के चलते बीजेपी को मुश्किलें झेलनी पड़ रही है. इससे पहले असम और त्रिपुरा से बीजेपी को झटका लगा था. असम में उसकी सहयोगी असम गण परिषद ने साथ छोड़ दिया था. वहीं त्रिपुरा में भी बीजेपी की सहयोगी पार्टी आईपीएफटी ने दो-तीन का समय दिया है. इस बिल को लेकर उत्‍तर पूर्व में काफी हंगामा हो रहा है. असम में काफी प्रदर्शन हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें: असम के 70 संगठनों की धमकी- PM मोदी और उनके मंत्रियों को घुसने नहीं दिया जाएगा

ये भी पढ़ें: सिटीजनशिप बिल: साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता हिरेन गोहेन पर राजद्रोह का मुकदमा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर