महबूबा ने वाजपेयी को बताया जम्‍मू-कश्‍मीर का मसीहा, अब्‍दुल्‍ला बोले- वह बड़े दिल वाले थे

फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती ने एक प्रार्थना सभा में वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की और कश्मीर के प्रति उनके रुख की प्रशंसा की.

News18Hindi
Updated: August 20, 2018, 11:27 PM IST
महबूबा ने वाजपेयी को बताया जम्‍मू-कश्‍मीर का मसीहा, अब्‍दुल्‍ला बोले- वह बड़े दिल वाले थे
दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी
News18Hindi
Updated: August 20, 2018, 11:27 PM IST
जम्मू-कश्मीर की दो प्रमुख पार्टियों पीडीपी और नेशनल कान्फ्रेंस के नेताओं ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए उनकी तारीफ की. दोनों दलों के प्रमुख नेताओं ने भाजपा नीत सरकार से कहा कि वह कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के लिए उनके दिखाए रास्ते का अनुसरण करे और घाटी के लोगों तक पहुंच बनाने के साथ ही पाकिस्तान के साथ बातचीत शुरू करे.

जम्मू कश्मीर नेशनल कान्फ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने भाजपा की ओर से आयोजित एक प्रार्थना सभा में वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की और कश्मीर के प्रति उनके रुख की प्रशंसा की.

अब्दुल्ला ने वाजपेयी को एक ‘विशाल हृदय’ वाला व्यक्ति बताया और कहा कि उन्होंने लोगों के बीच अंतर नहीं किया. उन्होंने देशवासियों और पड़ोसियों के बीच द्वेष को हमेशा समाप्त करने का प्रयास किया और इसके लिए विभिन्न कदम उठाए. उन्होंने कहा, ‘कृपया उनके रुख को अपनायें और एक ऐसा देश बनायें जो प्यार से भरा हो और प्यार फैलाये व पड़ोसियों के साथ स्वस्थ एवं मैत्रीय संबंध स्थापित करे.’

उन्‍होंने कहा कि प्रेम बांटना ही वाजपेयी को सच्‍ची श्रद्धांजलि होगी. अब्‍दुल्‍ला ने अपने संबोधन के आखिर में भारत माता की जय और जय हिंद के नारे भी लगाए.

पीडीपी नेता महबूबा ने कहा कि वाजपेयी संभवत: पहले प्रधानमंत्री थे जिन्होंने कश्मीर घाटी के लोगों पर विश्वास किया और उनका विश्वास भी जीता. उन्होंने कहा, ‘वाजपेयी जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए एक मसीहा से कम नहीं थे. उन्होंने दिखाया कि घाटी की समस्याओं को मानवीय रुख अपनाकर सुलझाया जा सकता है. उन्होंने कहा था कि आप अपने मित्र बदल सकते हैं लेकिन पड़ोसी नहीं.’

(भाषा इनपुट के साथ)
First published: August 20, 2018, 11:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...