महबूबा और उमर को सुरक्षा कारणों के मद्देनजर एहतियातन हिरासत में लिया

महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला अनुच्‍छेद-370 और 35ए हटाने को लेकर लगातार बयानबाजी कर रहे थे. प्रशासन ने दोनों की बयानबाजी पर हिंसा भड़कने की आशंका के चलते उन्‍हें हिरासत में लेकर श्रीनगर के हरि निवास गेस्ट हाउस में रखा है.

News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 6:02 AM IST
महबूबा और उमर को सुरक्षा कारणों के मद्देनजर एहतियातन हिरासत में लिया
महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को रविवार रात को ही उनके आवास पर नजरबंद कर दिया गया था. उनके अलावा घाटी में कई अलगाववादी नेता नजरबंद हैं.
News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 6:02 AM IST
जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद-370 और 35ए हटाए जाने के बाद रविवार रात से अपने-अपने घरों में नजरबंद सूबे की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्‍दुल्‍ला को एहतियातन हिरासत में ले लिया गया है. हिरासत में लेने के बाद उन्हें श्रीनगर के हरि निवास गेस्ट हाउस में रखा गया है. वहीं, घाटी में निषेधाज्ञा (धारा-144) लागू है. दरअसल, महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला अनुच्‍छेद-370 और 35ए को हटाने को लेकर लगातार बयानबाजी कर रहे थे. सूत्रों की मानें तो प्रशासन ने दोनों की बयानबाजी पर हिंसा भड़कने की आशंका के चलते उन्‍हें एहतियातन हिरासत में लिया है.

कई अलगाववादी नेता पहले से ही हैं नजरबंद

इससे पहले रविवार रात को महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को उनके आवास पर नजरबंद कर दिया गया था. उनके अलावा घाटी में अभी भी कई अलगाववादी नेता नजरबंद हैं. नजरबंद नेताओं में सज्जाद लोन समेत कई अलागवादी नेता और राजनीतिक दलों के नेता शामिल हैं. घाटी में पूरी तरह से मोबाइल, लैंडलाइन, ब्रॉडबैंड समेत सभी इंटरनेट सेवा शनिवार रात से ही बंद कर दिए गए थे. वहीं, घाटी में सभी अधिकारियों को सैटेलाइट फोन दिए गए हैं, ताकि आपस में बातचीत होती रहे.

राज्‍यों-केंद्रशासित प्रदेशों को सतर्क रहने को कहा

अनुच्छेद 370 खत्म करने के फैसले के बाद देश भर में सुरक्षा चिंताएं बढ़ गई हैं. आशंका है कि असामाजिक तत्व देश में गड़बड़ी पैदा कर सकते हैं. इसके मद्देनजर केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को अधिकतम सतर्क रहने को कहा है. गृह मंत्रालय ने सोमवार को जारी आदेश में कहा कि असामाजिक तत्वों को देश के किसी भी हिस्से में सुरक्षा, शांति और जन सद्भाव के माहौल को खराब करने की अनुमति नहीं दी जाए.

सौहार्द बनाए रखने को सभी जरूरी कदम उठाएं

इसमें सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को सुरक्षा व्यवस्था के किसी भी उल्लंघन को रोकने के लिए सुरक्षाबलों को सतर्क रहने का निर्देश जारी करने को कहा है. इसमें कहा गया है, 'यह अनुरोध किया जाता है कि देश के सभी हिस्सों में शांति और सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा सकते हैं. सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया जा सकता है.'
Loading...

ये भी पढ़ें: 

संविधान की प्रति फाड़ने वाले पीडीपी नेताओं की छीनी जा सकती है नागरिकता

Article 370: अमित शाह ने एक तीर से साधे कई निशाने, अब ये होंगे बदलाव
First published: August 6, 2019, 5:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...