NIA का डर दिखाकर PDP विधायकों पर बनाया जा रहा दबाव- महबूबा मुफ्ती

महबूबा मुफ्ती ने बिना नाम लिए बीजेपी पर हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी के कुछ विधायकों ने पार्टी छोड़ने का जबर्दस्त दबाव बनाया जा रहा है.

News18Hindi
Updated: July 21, 2018, 2:17 PM IST
NIA का डर दिखाकर PDP विधायकों पर बनाया जा रहा दबाव- महबूबा मुफ्ती
जम्मू और कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 21, 2018, 2:17 PM IST
जम्मू और कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि पीडीपी के विधायकों को एनआईए की छापेमारी के जरिए डराया जा रहा है. मुफ्ती ने आरोप लगाया है पार्टी विधायकों को धमकी दी जा रही है. बीजेपी की ओर से समर्थन वापस लेने के बाद पहली बार पीडीपी अध्यक्ष ने अपनी पार्टी के भीतर संकट पर बात की है.

महबूबा मुफ्ती ने बिना नाम लिए बीजेपी पर हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी के कुछ विधायकों ने पार्टी छोड़ने का जबर्दस्त दबाव बनाया जा रहा है. News18 से बात करते हुए मुफ्ती ने कहा, 'मैं यह नहीं कह रही कि ऐसा नई दिल्ली कर रही है, लेकिन दिल्ली में मौजूद कुछ लोगों से मैंने बात की और उन्हें बताया कि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के जरिये ऐसा माहौल बनाया जा रहा है कि वह महत्वपूर्ण मंत्री पद या पैसे लेकर पीडीपी छोड़ने के लिए प्रेरित हों और अगर वह इसे रिजेक्ट कर रहे हैं तो उन्हें NIA के छापे की धमकी दी जा रही है.'

यह भी पढ़ें: कुपवाड़ा में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया पाकिस्तानी आतंकवादी

महबूबा ने कहा, कश्मीर ऐसी जगह है जहां अलगाववाद, मुख्यधारा की राजनीति और आतंक है, लेकिन NIA की ओर से दी जा रही धमकी घाटी में नए खतरे की ओर इशारा कर रही है.

पीडीपी तोड़ने के परिणामस्वरूप सलाहुद्दीन जैसे और भी आतंकी पैदा होने की टिप्पणी पर महबूबा ने कहा, 'अगर आप पीडीपी को तोड़ेंगे तो आप उन लोगों का सामना कैसे कर पाएंगे, जिन्होंने पीडीपी या कांग्रेस या नेशनल कांफ्रेंस को वोट देने के लिए गोलियां झेली हैं? आप लोकतंत्र मे उनका विश्वास तोड़ देंगे.' उन्होंने कहा कि ऐसी कोशिश फिर से साल 1984 की स्थिति पैदा कर देगी.

यह भी पढ़ें: VIDEO: कश्मीर में पत्थरबाजों से लड़ते पुलिस के हजारों ‘औरंगजेब’

बता दें कि News18 ने 2 जुलाई को खबर दी थी कि अमरनाथ यात्रा के बाद सरकार बनाने के लिए पीडीपी में संभावित टूट हो सकती है और बागी लोग बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. जम्मू-कश्मीर विधानसभा में 87 सदस्य हैं, जिसका अर्थ है सरकार बनाने के लिए 44 विधायकों चाहिए.
Loading...

पीडीपी 28 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है, इसके बाद 25 विधायकों के साथ बीजेपी, नेशनल कांफ्रेंस के 15 और कांग्रेस के 12 विधायक हैं, दो विधायक सजाद लोन के नेतृत्व वाले पीपुल्स कॉन्फ्रेंस से संबंधित हैं, एक सीपीआई (एम), एक पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट के  और शेष तीन निर्दलीय हैं.

यह भी पढ़ें: आतंकी संगठनों में शामिल होने वाले कश्मीरी युवाओं की संख्या बढ़ी, इस साल 82 कश्मीरी बन चुके हैं आतंकी
First published: July 21, 2018, 2:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...