जम्मू पहुंचीं महबूबा मुफ्ती, एयरपोर्ट पर दिखाए काले झंडे, लगे मुफ्ती गो-बैक के नारे

जम्मू हवाई अड्डे पर महबूबा मुफ्ती को दिखाये गये काले झंडे (AP)
जम्मू हवाई अड्डे पर महबूबा मुफ्ती को दिखाये गये काले झंडे (AP)

Mehbooba Mufti shown black flags at Jammu airport: प्रदर्शनकारी 'महबूबा हाय हाय' और 'महबूबा वापस जाओ' के नारे लगा रहे थे. उन्होंने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से सात नवंबर को जम्मू में गुपकर गठबंधन की बैठक नहीं होने देने की अपील की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 11:18 PM IST
  • Share this:
जम्मू. पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (PDP President Mehbooba Mufti) को तिरंगे को लेकर दिए उनके बयान का विरोध करते हुए गुरुवार को यहां जम्मू हवाई अड्डे (Jammu Airport) पर स्थानीय शिवसेना (Shiv Sena) और राष्ट्रीय बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने काले झंडे दिखाये. कार्यकर्ताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री से वापस जाने को कहा तथा जम्मू में गुपकर एजेंडा बढ़ाने की इजाजत दिये जाने पर कानून व्यवस्था बाधित करने की धमकी दी. युवा नेताओं राकेश कुमार और मनीष कुमार की अगुवाई में शिवसेना और राष्ट्रीय बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जम्मू हवाई अड्डे जाने वाली सड़क को जाम कर दिया और मुफ्त के आगमन पर काले झंडे दिखाये. हालांकि बाद में पुलिस ने सड़क से जाम हटा दिया.

प्रदर्शनकारी 'महबूबा हाय हाय' और 'महबूबा वापस जाओ' के नारे लगा रहे थे. उन्होंने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से सात नवंबर को जम्मू में गुपकर गठबंधन की बैठक नहीं होने देने की अपील की. नेशनल कांफ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) समेत जम्मू कश्मीर की मुख्य धारा के सात दलों ने जम्मू कश्मीर राज्य के विशेष दर्जे की बहाली और इस मुद्दे पर संबंधित पक्षों के साथ संवाद शुरू करने के लिए 15 अक्टूबर को गुपकर घोषणापत्र गठबंधन बनाया था.

पीडीपी कार्यालय पर तिरंगा फहराने का प्रयास करने वाले सिख कार्यकर्ता को हिरासत में लिया गया
तिरंगा के बारे में महबूबा मुफ्ती के बयान के विरोध में अभी कुछ दिन पहले ही पीडीपी कार्यालय में राष्ट्रीय ध्वज फहराने का प्रयास कर रहे एक सिख कार्यकर्ता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था. अधिकारियों ने बताया था कि 24 अक्टूबर को अमनदीप सिंह ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के मुख्य द्वार के पास दीवार पर तिरंगा फहराया था और एक दिन बाद उन्होंने कुछ युवा कार्यकर्ताओं के साथ पार्टी के मुख्यालय में इसे फहराने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया.
जम्मू के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) श्रीधर पाटिल ने सिंह की हिरासत की पुष्टि की. उन्होंने कहा कि सिंह को कानून-व्यवस्था में गड़बड़ी के लिए नहीं बल्कि कुछ अन्य मामलों के तहत हिरासत में लिया गया. हालांकि, पुलिस ने सिख कार्यकर्ता के खिलाफ आरोपों के बारे में विवरण नहीं दिए. सूत्रों ने बताया कि कोविड-19 के नियमों और आपदा प्रबंधन कानून के प्रावधानों या अनाधिकार प्रवेश के लिए सिंह पर मामला दर्ज किया गया. कार्यकर्ता को एक वाहन से वहां से ले जाया गया. सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि पीडीपी के दबाव के बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया. पीडीपी प्रमुख और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने पिछले महीने कहा था कि संवैधानिक बदलावों को वापस लिए जाने तक वह चुनाव लड़ने या तिरंगा उठाने को इच्छुक नहीं हैं. उनके इस बयान के बाद पीडीपी के कार्यालय के बाहर कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज