मेहुल चोकसी केस: डोमिनिका की कोर्ट में कल ED दाखिल कर सकती है हलफनामा

मेहुल चौकसी को भारत लाने की कवायद तेज हो गई है.

मेहुल चौकसी को भारत लाने की कवायद तेज हो गई है.

भारतीय जांच एजेंसी ईडी अब डोमिनिका सरकार से अनुरोध करेगा कि वह बुधवार को अदालत में एक हलफनामा दायर करने की अनुमति दे, जिसमें भगोड़े व्यवसायी मेहुल चोकसी को भारतीय नागरिक बताया गया हो.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय जांच एजेंसी ईडी (ED) अब डोमिनिका सरकार (Dominica government) से अनुरोध करेगी कि वह बुधवार को अदालत में एक हलफनामा दायर करने की अनुमति दे, जिसमें भगोड़े व्यवसायी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) को भारतीय नागरिक बताया गया हो. भारत सरकार के शीर्ष अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि ईडी का हलफनामा मंगलवार को तैयार होगा और आज दोपहर सरकार द्वारा इसकी समीक्षा की जाएगी. इसके बाद डोमिनिका में ईडी के प्रतिनिधियों द्वारा मंजूरी का शपथ पत्र दाखिल किया जाएगा.

एक अधिकारी ने कहा, 'भारत सरकार के रुख की व्याख्या करना अनिवार्य है. यह एकतरफा नहीं हो सकता. चोकसी एक भारतीय नागरिक और अपराधी है. हम डोमिनिका कोर्ट से चोकसी को भारत को सौंपने की गुहार लगाएंगे.'

Youtube Video

 भारतीय अधिकारियों के साथ मैड्रिड के लिए उड़ान भरी
CNN-News18 ने सबसे पहले यह रिपोर्ट दी थी कि भगोड़े आर्थिक अपराधी मेहुल चोकसी को वापस लाने के लिए एक विमान डोमिनिका भेजा गया है. एक निजी विमान को जानबूझकर किसी तीसरे देश से किराए पर लिया गया था. सूत्रों ने खुलासा किया, 'हम तकनीकी कारणों से एक भारतीय विमान का उपयोग नहीं करना चाहते थे.'

विमान कतर से किराए पर लिया गया था और 27 मई को दिल्ली आया था. दिल्ली से इसने भारतीय अधिकारियों के साथ मैड्रिड के लिए उड़ान भरी, जहां यह ईंधन भरने के लिए रुका और डोमिनिका के लिए रवाना हुआ. अदालत या स्थानीय अधिकारियों को किसी संशय की स्थिति में भारतीय अधिकारी अपने साथ चोकसी के भारतीय नागरिक होने के दस्तावेज भी साथ ले जा रहे हैं. कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि मेहुल अपनी कथित गर्लफ्रेंड बारबरा जराबिका के साथ डोमिनिक गया था.

Youtube Video



सूत्रों ने कहा, 'डोमिनिका इमिग्रेशन के लिए आवश्यक आपातकालीन प्रमाण पत्र  के साथ अधिकारियों ने उड़ान भरी. चोकसी की तस्वीरों पर टिप्पणी करते हुए सूत्रों ने कहा- 'चोकसी पर शारीरिक हमले के सभी आरोप गलत हैं. वह मानवाधिकार का मामला बना रहे हैं जो बिल्कुल गलत और झूठा है.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज