3 दिन पहले एंटीगुआ से फरार भगोड़ा मेहुल चोकसी डोमिनिका में पकड़ा गया, भारत किया जा सकता है प्रत्यर्पित

पीएनबी घोटाले के आरोपी मेहुल चौकसी को 23 मई से ढूंढ रही थी एंटीगुआ पुलिस. File pic)

मेहुल चोकसी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में वांछित है. चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी पर कुछ बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत देश से फरार आरोपी और गुमशुदा कारोबारी मेहुल चौकसी (Mehul Choksi) डोमिनिका (Dominica) में क्रिमिनल इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (सीआईडी) की गिरफ्त में है. एंटीगुआ (Antigua) की मीडिया ने इस बात की जानकारी दी है. मेहुल चोकसी को कैरिबियाई देश डोमिनिका में देखा गया ,उसके बाद डोमिनिका आइलैंड की पुलिस ने उसे हिरासत में लेने के बाद उससे कई घंटों तक पूछताछ करने के बाद उसे वापस एंटीगुआ भेजने के लिए डिप्लोमेटिक तरीके से बातचीत में जुट गई है. वहीं एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउने ने सीएनएन न्यूज 18 से कहा कि "हमने डोमिनिकन सरकार से उसे (भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी) अवैध रूप से अपने देश में प्रवेश करने के लिए हिरासत में लेने के लिए कहा है और उसे अवांछित व्यक्ति बताकर सीधे भारत भेज दिया जाए."

    दरअसल मेहुल चोकसी पिछले रविवार को यानी 23 मई  शाम साढ़े पांच बजे अचानक अपने आवास से अपने कार से बाहर निकला था, लेकिन कुछ देर के बाद उसकी कार वहीं आसपास लावारिस हालात में पाई गई थी, उसके बाद उसके परिजनों और मेहुल चोकसी के भारत में स्थित वकील विजय अग्रवाल के द्वारा मीडिया सहित अन्य एजेंसियों को बताया गया कि वो एंटीगुआ से लापता हो गया है ,जिसके लिए वो सभी बेहद परेशान हैं. हालांकि उस घटना के बाद वहां की रॉयल पुलिस फोर्स तत्काल प्रभाव से सबसे पहले  मेहुल चोकसी को तलाशने के लिए उसके एक स्टील तस्वीर के साथ एक बयान जारी करके उसको तलाशने  में जुट गई थी.

    ये भी पढ़ें- देश में टीकाकरण को लेकर केंद्र की बड़ी बैठक, कोविन पोर्टल पर स्पूतनिक को भी जोड़ा गया

    पीएनबी घोटाले में वांछित है चोकसी
    भारत से फरार कारोबारी मेहुल चोकसी पिछले काफी समय से एंटीगुआ के जॉली हार्बर इलाके में रह रहा है. उसके बाद से भारत देश की जांच एजेंसी सीबीआई (CBI ) और ईडी (ED ) की टीम उसे वापस भारत में प्रत्यर्पित कराने के लिए प्रयत्नशील है. बता दें चोकसी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में वांछित है. चोकसी से खिलाफ इंटरपोल ने भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया हुआ है.

    चोकसी के वकील का दावा है कि उनका मुवक्किल एंटीगुआ का नागरिक है. ऐसे में उसके पास एंटीगुआ के सभी लोगों से मिलने के अधिकार हैं. बता दें कैरेबियाई देश एंटीगुआ के बगल में ही डोमिनिका है जहां से अब मेहुल चोकसी को पकड़ा गया है.

    ये भी पढ़ें- IMA का PM को पत्र, कहा- रामदेव के खिलाफ राजद्रोह के आरोपों के तहत लें एक्शन

    चोकसी ने जनवरी 2018 में भारत से भागने से पहले ही, 2017 में कैरेबियाई द्वीपीय देश एंटीगुआ एवं बारबुडा की नागरिकता हासिल कर ली थी.

    चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी पर कुछ बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है.

    नीरव मोदी अभी लंदन की एक जेल में बंद है. दोनों के खिलाफ केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जांच कर रहा है.