'बैड बॉय बिलिनियर्स' की प्री स्क्रीनिंग देखना चाहता था मेहुल चोकसी, दिल्ली HC ने खारिज की याचिका

'बैड बॉय बिलिनियर्स' की प्री स्क्रीनिंग देखना चाहता था मेहुल चोकसी, दिल्ली HC ने खारिज की याचिका
मेहुल चोकसी की ‘बैड ब्वॉय बिलियनियर्स’ की प्री स्क्रीनिंग देखने वाली याचिका खारिज (फाइल फोटो)

डॉक्यूमेंट्री की पूर्व स्क्रीनिंग के लिए मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) की दायर याचिका का नेटफ्लिक्स (Netflix) ने जबर्दस्त विरोध करते हुए कहा कि यह पूरी तरह से गलत एवं दुष्टता भरी याचिका है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने पंजाब नेशनल बैंक (PNB) घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) की नेटफ्लिक्स (Netflix) की डॉक्यूमेंट्री ‘बेड ब्वॉय बिलियनियर्स’ की पूर्व स्क्रीनिंग कराने के अनुरोध वाली याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी. जस्टिस नवीन चावला ने मामले पर दो घंटे सुनवाई करने के बाद चोकसी को किसी प्रकार की राहत देने से इनकार करते हुए कहा कि निजी अधिकार लागू कराने के लिए दायर रिट याचिका विचार योग्य नहीं है.

हाईकोर्ट ने कहा कि राहत के लिए उन्हें दीवानी वाद में जाना होगा. साथ ही अदालत ने उन्हें दीवानी वाद में यह मामला उठाने की छूट प्रदान की. जस्टिस चावला ने कहा, “मेरे विचार में निजी अधिकार लागू करने के लिए दायर याचिका विचार योग्य नहीं है. उपयुक्त उपाय दीवानी वाद होगा क्योंकि कथित उल्लंघन एक निजी अधिकार है. याचिका खारिज की जाती है. याचिकाकर्ता को यह मुद्दा दीवानी वाद में उठाने की छूट दी जाती है.”

2 सितंबर को रिलीज होगी वेब सीरीज



गीतांजलि जेम्स का प्रवर्तक मेहुल चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी 13,500 करोड़ रुपये पीएनबी धोखाधड़ी मामले में आरोपी हैं. चोकसी पिछले साल देश छोड़ कर भाग गया था और उसे एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता दी गई थी. इस वेब सीरीज को 2 सितंबर को भारत में रिलीज होना है. नेटफ्लिक्स पर इसके बारे में यह बताया गया है कि “यह खोजी डॉक्यूमेंट्री भारत के सबसे कुख्यात उद्योगपतियों के लालच, फरेब और भ्रष्टाचार को बयां करती है.”
डॉक्यूमेंट्री की पूर्व स्क्रीनिंग के लिए दायर याचिका का नेटफ्लिक्स ने जबर्दस्त विरोध करते हुए कहा कि यह पूरी तरह से गलत एवं दुष्टता भरी याचिका है. नेटफ्लिक्स इंक और नेटफ्लिक्स इंटरटेनमेंट सर्विसेज इंडिया एलएलपी का पक्ष रखते हुए वरिष्ठ अधिवक्ताओं नीरज किशन कौल और दायन कृष्णन ने कहा कि चोकसी घोषित भगोड़ा है और रिलीज से पहले उसे डॉक्यूमेंट्री देखने देने की अनुमति देना “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन” होगा.

चोकसी बोला- मुझे 100 बार भगोड़ा कहा गया

चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने दलील दी कि उसके पास निष्पक्ष मुकदमे का अधिकार है जिस पर डॉक्यूमेंट्री के रिलीज का असर नहीं पड़ना चाहिए और नेटफ्लिक के तर्क का पुरजोर विरोध किया कि चोकसी भगोड़ा है. अग्रवाल ने चोकसी की तरफ से कहा, “मैं भगोड़ा नहीं हूं. बंबई उच्च न्यायालय की ओर से मेरे पक्ष में एक रोक आदेश प्रभावी है. इन्होंने मुझे इस सुनवाई में 100 बार भगोड़ा कहा है और अदालत को गलत सूचना दी है. मैं अदालत से सीरिज को पहले ही देखने और मुझे बचाने की अपील करता हूं.’’



वकील ने दलील दी कि अमेरिकी कंपनी, नेटफ्लिक्स को भारतीय कानून एवं संविधान का सम्मान करना होगा अन्यथा इसे भी चीनी ऐप की तरह प्रतिबंधित कर देना चाहिए. अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल चेतन शर्मा और केंद्र सरकार के स्थायी वकील अजय दिगपॉल ने इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना मंत्रालय का प्रतिनिधित्व करते हए कहा कि ओवर द टॉप (ओटीटी) कंटेंट के नियमन या समीक्षा को लेकर कोई वैधानिक आदेश नहीं है. अधिवक्ता कौल ने कहा कि इस वेब सीरिज में चोकसी द्वारा मीडिया को दिए गए केवल एक या दो साक्षात्कार हैं और उसके नाम पर केवल दो मिनट दिए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading