MEIL का इंजीनियरिंग करिश्मा, सबसे बड़ी लिफ्ट सिंचाई प्रोजेक्ट लॉन्चिंग के लिए तैयार

पूरी दुनिया में इस तरह की विशाल लिफ्ट परियोजना का निर्माण नहीं हो सका है. यह पूरी दुनिया में अव्वल और सबसे विशाल लिफ्ट परियोजना है. इस परियोजना में हर रोज 3 टीएमसी पानी पंप करने के लिए 7152 मेगावाट बिजली की दरकार होगी.

News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 1:36 PM IST
MEIL का इंजीनियरिंग करिश्मा, सबसे बड़ी लिफ्ट सिंचाई प्रोजेक्ट लॉन्चिंग के लिए तैयार
इंजीनियरिंग फील्ड में सबसे बड़ी लिफ्ट सिंचाई परियोजना लॉन्चिंग के लिए तैयार
News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 1:36 PM IST
इंजीनियरिंग फील्ड में सबसे बड़ी लिफ्ट सिंचाई परियोजना लॉन्चिंग के लिए तैयार है. भारत की जानी-मानी इंफ्रा कंपनी मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (MEIL) ने युद्ध स्तर पर अहम इलेक्ट्रो-मैकेनिकल कार्यों को अंजाम देते हुए इस मुकाम पर अपना नाम स्थापित किया है. रिकॉर्ड समय में तेलंगाना सरकार गोदावरी नदी पर दुनिया की सबसे बड़ी लिफ्ट सिंचाई योजना को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है. इसी सिलसिले में MEIL अपने बेहतरीन अनुभव के साथ कलेश्वरम लिफ्ट सिंचाई परियोजना के लिए भारी पंप हाउस स्थापित में जुटा है.

20 पंप हाउसों के जरिए एक दिन में 3 टीएमसी पानी लेने (लिफ्ट करने) की योजना है, जिसके लिए कुल 120 मशीनें (हरेक मशीन में एक पंप और एक मोटर) स्थापित की जा रही हैं. इनमें से, MEIL अकेले 105 मशीनों की स्थापना कर रही है. इस परियोजना में 22 पंप हाउस शामिल हैं. उनमें से 17 का निर्माण MEIL द्वारा किया जा रहा है.

दुनिया में नहीं है ऐसी लिफ्ट परियोजना
MEIL का मानना है कि इस शानदार सफलता के लिए अहम बेंचमार्क है. 'गुणवत्ता के साथ समयबद्ध कार्यों का संपादन.' अभी तक पूरी दुनिया में इस तरह की विशाल लिफ्ट परियोजना का निर्माण नहीं हो सका है. यह पूरी दुनिया में अव्वल और सबसे विशाल लिफ्ट परियोजना है. इस परियोजना में हर रोज 3 टीएमसी पानी पंप करने के लिए 7152 मेगावाट बिजली की दरकार होगी.

पहले चरण के तौर पर 4992 मेगावाट बिजली का इस्तेमाल 2 टीएमसी पानी पंप करने के लिए किया जा रहा है. MEIL ने इस परियोजना के लिए पावर ट्रांसमिशन के लिए सभी अहम पंप हाउस पर बुनियादी ढांचों का निर्माण कर दिया है. बिजली की बुनियादी जरूरतों के लिहाज से सभी काम पूरे हो चुके हैं। पम्पिंग घरों से जुड़े सिविल कार्य को रिकॉर्ड समय में पूरा किया गया. एमईआईएल ने वर्तमान मौसम में पानी पंप करने के लिए मशीनों को तैयार रखा है.

MEIL की ओर से पैकेज-11 में भी चार मशीनें स्थापित की जा रही है,


फिलहाल अमेरिका का कोलोराडो लिफ्ट योजना, मिस्र का मानव निर्मित नदी पर बनी योजना को दुनिया की सबसे बड़ी लिफ्ट योजना मानी जाती है. इन योजनाओं की क्षमता अश्वशक्ति में है और उन्हें पूरा होने में करीब तीन दशक लग गए.
Loading...

पहले भी वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकी है MEIL
इससे पहले MEIL ने रिकॉर्ड तोड़ समय में पट्टीसीमा परियोजना को पूरा किया और उस उपलब्धि के लिए 'लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड' में अपना नाम दर्ज कराया.

बता दें कि MEIL की ओर से पैकेज-11 में भी चार मशीनें स्थापित की जा रही है, जिनमें से हरेक 135 मेगावाट की क्षमता वाली है. 106-MW की क्षमता वाली ऐसी चार मशीनें पैकेज-10 में स्थापित की जा रही हैं. वहीं, पैकेज- 6 में 7 मशीनें हैं, जिनमें हरेक की क्षमता 124 मेगावाट है. मेदिगड्डा में सबसे अधिक 17 पंप हैं, इसके बाद सुंडीला (14), अन्नाराम (12), पैकेज-14 (12) हैं. पैकेज-21 में दो योजनाओं में 18 पंप लगाने का प्रस्ताव है. भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL) ने इस परियोजना के लिए स्पेयर पार्ट्स के तौर पर जरूरी मशीनें मुहैया कराई हैं. BHEL के अलावा, एंड्रिट्ज़, ज़ाइलम जैसी अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठित कंपनियों ने भी मशीनों के पार्ट्स की आपूर्ति की है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 19, 2019, 1:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...