Assembly Banner 2021

मेट्रोमैन ई. श्रीधरन का भाजपा में होने का कोई प्रभाव नहीं : तारिक अनवर

कांग्रेस महासचिव व केरल कांग्रेस प्रभारी तारिक अनवर

कांग्रेस महासचिव व केरल कांग्रेस प्रभारी तारिक अनवर

कांग्रेस की केरल इकाई के प्रभारी तारिक अनवर ( Tariq Anwar) ने कहा है कि केरल में होने वाले विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Election) में मेट्रोमैन ई. श्रीधरन (Metroman E. Sreedharan) के भाजपा ( BJP) में शामिल होने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. चुनाव में यूडीएफ और सत्तारूढ़ एलडीएफ के बीच सीधी टक्कर रहेगी. चुनाव में भाजपा अहम भूमिका में नहीं होगी. स्थितियां यूडीएफ के पक्ष में हैं क्योंकि पांच वर्षों से यहां सरकार के खिलाफ लहर है.

  • Share this:
नयी दिल्ली.  कांग्रेस की केरल इकाई के प्रभारी तारिक अनवर (congress leader Tariq Anwar) ने मेट्रोमैन ई. श्रीधरन के भाजपा में शामिल होने को महज ‘‘हथकंडा’’ करार दिया और कहा कि राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Election)  में यूडीएफ और सत्तारूढ़ एलडीएफ के बीच सीधी टक्कर रहेगी और लोग भाजपा पर अपना ‘‘वोट’’ बर्बाद नहीं करेंगे. साथ ही अनवर ने कहा कि राज्य में भाजपा अहम भूमिका में नहीं होगी.

कांग्रेस महासचिव ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम की घोषणा करना पार्टी की परंपरा नहीं है और मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार का नाम चुनाव बाद आपसी सहमति से तय होगा. अनवर ने उम्मीद जताई कि कांग्रेस की अगुवाई वाले यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) केरल में अगली सरकार बनाएगी और चुनाव में मुख्य मुद्दा पिछले पांच वर्षों में लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) की सरकार का ‘भ्रष्टाचार और कुप्रबंधन’’ रहेगा.

येे भी पढ़ें  :  केरल: LDF की जीत से टूटेगा 40 साल का रिकॉर्ड या कांग्रेस गठबंधन करेगा वापसी, समझें समीकरण



उन्होंने कहा,‘‘ परिणाम यूडीएफ के पक्ष में आएगा. पिछली बार लोगों ने एलडीएफ को बहुमत दिया था लेकिन पिछले पांच वर्ष में उनका कामकाज अच्छा नहीं रहा और हाल ही में तीन-चार घोटाले भी सामने आए हैं जिनमें माकपा का कार्यालय भी संदेह के घेरे में आ गया है.’’
ये भी पढ़ें  Assembly Elections 2021: बंगाल में किसकी जीत, केरल-तमिलनाडु में कौन मारेगा बाजी? देखें ओपिनियन पोल के नतीजे

यह पूछे जाने पर कि ऐसे कौन से मुद्दे हैं जिनसे एलडीएफ को आने वाले चुनावों में झटका लग सकता है, उन्होंने कहा कि अमेरिका की कंपनी से हाल ही में हुए करार से मछुआरों में असंतोष है और कोविड-19 के दौरान ‘कुप्रबंधन’ से भी लोगों में नाराजगी है. उन्होंने कहा,‘‘ स्थितियां यूडीएफ के पक्ष में हैं क्योंकि पांच वर्षों से यहां सरकार के खिलाफ लहर है.’’

मेट्रोमैन ई श्रीधरन के भाजपा के शामिल होने और चुनाव पर इसके असर के बारे में पूछे जाने पर अनवर ने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि इससे कोई खास प्रभाव पड़ेगा. वह अच्छे टेक्नोक्रेट हो सकते हैं लेकिन उनका जनता के साथ कोई संबंध नहीं है.’’ कांग्रेस नेता ने कहा,‘‘ केरल की जनता राजनीतिक रूप से बेहद सजग है और मुझे नहीं लगता कि अचानक से कोई नाम आगे कर देने से कोई खास अंतर पड़ेगा.’’ उन्होंने कहा कि भाजपा की राज्य में मौजूगी सीमित है इसलिए वे इस प्रकार के ‘‘हथकंडों’’ से अपनी मौजूदगी का एहसास कराना चाहते हैं. अनवर ने कहा भाजपा राज्य में अहम भूमिका में नहीं होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज