‘प्रधानमंत्री के खोदे आर्थिक गड्ढे’ से गरीबों को बाहर निकाल रहा है मनरेगा: राहुल गांधी

‘प्रधानमंत्री के खोदे आर्थिक गड्ढे’ से गरीबों को बाहर निकाल रहा है मनरेगा: राहुल गांधी
राहुल गांधी ने कहा, मनरेगा के बिना ग़रीबी नहीं, ग़रीब मिट जाएगा. (File Photo)

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते देश में मनरेगा (MNREGA) के तहत रोजगार की मांग बढ़ने से संबंधित आंकड़े का एक ग्राफ भी शेयर किया.

  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के समय देश में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजना (Mahatma Gandhi National Rural Employment Act) के तहत रोजगार की मांग बढ़ने को लेकर गुरुवार को सरकार पर निशाना साधा और दावा किया कि ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा खोदे गए आर्थिक गड्ढे’ से गरीबों को मनरेगा (MNREGA) ही बाहर निकाल रहा है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ मोदी जी ने कभी कहा था कि मनरेगा में लोगों से बस गड्ढे खुदवाए जाते हैं. पर सच्चाई यह है कि मोदी जी ने जो आर्थिक गड्ढा खोदा है उससे ग़रीबों को आज मनरेगा ही निकाल रहा है.’’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘मनरेगा के बिना ग़रीबी नहीं, ग़रीब मिट जाएगा.’’

राहुल गांधी ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते देश में मनरेगा के तहत रोजगार की मांग बढ़ने से संबंधित आंकड़े का एक ग्राफ भी शेयर किया. बेरोजगारी की स्थिति को देखते हुए सरकार ने कुछ महीने पहले मनरेगा के लिए 40 हजार करोड़ रुपये के अतिरिक्त आवंटन की घोषणा की थी. इससे पहले मौजूदा वित्त वर्ष के बजट में सरकार ने मनरेगा के लिए 61,000 करोड़ रुपये के बजट का ऐलान किया था.


ये भी पढ़ें- Rajasthan: स्पीकर के नोटिस पर HC पहुंचा पायलट खेमा, पढ़ें दिन भर की हर अपडेट



लगातार सरकार पर निशाना साधते रहे हैं राहुल
राहुल गांधी कोरोना वायरस के चलते लगाए गए लॉकडाउन के बाद से ही सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते रहे हैं. लॉकडाउन के चलते देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों के पैदल सैकड़ों किलोमीटर का सफर करने पर राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे थे. लॉकडाउन के दौरान राहुल गांधी ने अलग-अलग क्षेत्रों के विशेषज्ञों के इंटरव्यू की एक सीरीज भी जारी की. इस सीरीज में उनका खास फोकस अर्थव्यवस्था पर रहा. जिन लोगों से राहुल ने बात की इनमें नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी, पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन, उद्योगपति राजीव बजाज जैसे बड़े नाम शामिल थे.

ये भी पढ़ें- प्लाज्मा दान करने वालों को हवाई जहाज से बुलाएगा ये राज्य, राजकीय अतिथि बनाएगा

वैश्विक रणनीति पर भी राहुल ने उठाए थे सवाल
राहुल गांधी ने बुधवार को भी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था इस समय भारत की वैश्विक रणनीति मुश्किल में है, लेकिन सरकार बेखकर है कि उसे क्या करना है. उन्होंने एक खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ‘‘ भारत की वैश्विक रणनीति मुश्किल में है. हम हर जगह शक्ति और सम्मान खो रहे हैं. भारत सरकार बेखबर है कि उसे क्या करना है.’’

कांग्रेस नेता ने जिस खबर का हवाला दिया उसके मुताबिक, ईरान ने चाबहार परियोजना से भारत को अलग कर दिया है. यह परियोजना चाबहार को अफगानिस्तान सीमा के करीब ज़हेदान तक रेल नेटवर्क से जोड़ने की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज