Unlock-2.0: कंटेनमेंट जोन में सख्त रहेगा लॉकडाउन, जानिए किसपर रहेगी पाबंदी

अनलॉक 2 में क्या-क्या मिलेगी राहत (फाइल फोटो)
अनलॉक 2 में क्या-क्या मिलेगी राहत (फाइल फोटो)

गृह मंत्रालय (MHA) की ओर से अनलॉक-2.0 (Unlock-2.0) की गाइडलाइंस में स्कूल-कॉलेज, शैक्षणिक और कोचिंग संस्थान, इंटरनेशनल उड़ाने, मेट्रो पर लगी रोक को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 29, 2020, 11:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने अनलॉक-2.0 (Unlock-2.0) की गाइडलाइंस  जारी कर दी हैं. अनलॉक 2.0 की गाइडलाइंस में सरकार ने कहा कि कंटेनमेंट जोन (Containment Zones) में सख्ती अभी बरकरार रहेगी. गृह मंत्रालय ने कहा कि सभी स्कूल और कॉलेज 31 जुलाई तक बंद रहेंगे. ऑनलाइन और दूरस्थ शिक्षा की अनुमति होगी. सरकार ने कहा कि ऑनलाइन शिक्षा के लिए बढ़ावा दिया जाएगा. इसके अलावा इंटरनेशनल उड़ानें, मेट्रो सेवा पर अभी 31 जुलाई तक रोक रहेगी.

बता दें कि अनलॉक-1 (Unlock-1) की अवधि 30 जून को समाप्त हो रही है. इसी के साथ केंद्र सरकार ने अनलॉक-2 का ऐलान किया है. जिसमें कई गतिविधियों पर पाबंदियों के साथ छूट भी दी गई है. कंटेनमेंट जोन में सख्ती बरकरार रहेगी, जबकि कंटेनमेंट जोन से बाहर के इलाकों में छूट दी जाएगी. सरकार ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए सार्वजनिक स्थानों, कार्यस्थलों और परिवहन के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है. जानिए नई गाइडलाइंस किन-किन चीजों पर रहेगी पाबंदी-

इन चीजों पर 31 जुलाई तक रहेगी रोक



> स्कूल, कॉलेज, शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे. ऑनलाइन और डिस्टेंस लर्निंग जारी रहेगी.
> गृह मंत्रालय के आदेश वाली अंतरराष्ट्रीय विमान यात्राओं को छोड़कर अन्य किसी अंतरराष्ट्रीय विमान यात्रा की अनुमति नहीं होगी.
> मेट्रे सेवाएं बंद रहेंगी.
> सिनेमा हॉल, जिम, स्विमिंग पूल, इंटरटेनमेंट पार्क, थिएटर, बार, ऑडिटोरियम, एसेंबली हॉल और ऐसी अन्य जगहों को भी बंद रखा जायेगा.
> जिम, स्विमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क रहेंगे बंद.
> सामाजिक, राजनीतिक, स्पोर्ट्स, मनोरंजन, अकादमिक, सांस्कृतिक, धार्मिक समारोहों की और बड़े आयोजनों की अनुमति नहीं होगी.

कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन 31 जुलाई तक रहेगा जारी
कंटेनमेंट जोन का निर्धारण जिला प्रशासन, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के दिशानिर्देशों का ध्यान रखते हुए करेगा. जिसका मकसद प्रभावशाली तरीके से संक्रमण की कड़ी को तोड़ना होगा. इन कंटनेमेंट जोन के बारे में संबंधित जिला कलेक्टर और राज्य या केंद्रशासित प्रदेश की वेबसाइट पर जानकारी दी जायेगी और इस जानकारी को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ साझा किया जायेगा.
कंटेनमेंट जोन में सिर्फ जरूरी कामों की अनुमति होगी. कंटेनमेंट जोन के अंदर और बाहर लोगों की आवाजाही को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे. सिर्फ मेडिकल इमरजेंसी के केस और जरूरी सामानों की आपूर्ति को ही मंजूरी दी जाएगी.

कंटेनमेंट जोन के अलावा बनाए जाएंगे बफर जोन
सरकार की ओर से निर्देश दिए गए हैं कि कंटेनमेंट जोन में गहन कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग, घर-घर जांच और जरूरत के हिसाब से अन्य चिकित्सीय एहतियात बरती जाएंगी. इस संबंध में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी सभी दिशानिर्देशों को प्रभावशाली तरीके से लागू किया जाएगा. कंटेनमेंट जोन में होने वाली सभी गतिविधियों पर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की ओर से कड़ी नजर रखी जाएगी और कंटेनमेंट से जुड़े कदमों में नियमों का कड़ाई से पालन कराया जायेगा. राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कंटेनमेंट जोन के अलावा बफर जोन भी तय करने होंगे, जहां पर मामले सामने आ सकते हैं. बफर जोन में जिला प्रशासन के जरिए उन नियमों को लागू किया जायेगा, जिन्हें आवश्यक समझा जायेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज