बंगाल में अम्फान से हुए नुकसान के आकलन के लिए केंद्रीय टीम भेजेगा गृह मंत्रालय

बंगाल में अम्फान से हुए नुकसान के आकलन के लिए केंद्रीय टीम भेजेगा गृह मंत्रालय
अम्फान के चलते बंगाल में जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है, कई मकान ढह गए हैं, पेड़ उखड़ गए हैं और बिजली के तार टूट गए हैं

सरकार की ओर से बताया गया कि गृह मंत्रालय (Home Ministry) चक्रवात अम्फान (Cyclone Amphan) के कारण बंगाल में हुए नुकसान का आकलन करने के लिए एक केंद्रीय टीम भेजेगा.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. पिछले दिनों ओडिशा (Odisha) और पश्चिम बंगाल (West Bengal) में आए चक्रवात अम्फान (Cyclone Amphan) के कारण बंगाल में भारी तबाही हुई है. इस स्थिति को ठीक करने के लिए गृह मंत्रालय (Home Ministry) जल्द ही बंगाल में एक टीम भेजेगा. केंद्र सरकार की ओर से सोमवार को जानकारी दी गई कि चक्रवात अम्फान से प्रभावित पश्चिम बंगाल के क्षेत्रों में समन्वय प्रयासों और बहाली के उपायों को जारी रखते हुए, राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति ने आज चौथी बार फिर से मुलाकात की. सरकार की ओर से बताया गया कि गृह मंत्रालय बंगाल में हुए नुकसान का आकलन करने के लिए एक केंद्रीय टीम भेजेगा.

बता दें आपदा प्रबंधन (Disaster Management) में विशेषज्ञता रखने वाले एनडीआरएफ (NDRF) के दल चक्रवात ‘अम्फान’(Amphan) से बुरी तरह प्रभावित हुए पश्चिम बंगाल (West Bengal) में हालात पुन: सामान्य करने के अभियान में दिन-रात मदद कर रहे हैं. बल के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि एनडीआरएफ कर्मी राज्य में स्थिति सामान्य करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं. राज्य में चक्रवात (Cyclone) के कारण जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है, कई मकान ढह गए हैं, पेड़ उखड़ गए हैं और बिजली के तार टूट गए हैं.





कई जगहों पर सेना तैनात



पश्चिम बंगाल सरकार ने चक्रवात अम्फान से राज्य में क्षतिग्रस्त हुए आवश्यक बुनियादी ढांचों और सेवाओं को तत्काल बहाल करने के लिए सेना की मदद मांगी थी जिसके कुछ घंटों बाद शनिवार को कोलकाता और पड़ोसी जिलों में सेना को तैनात किया गया. एक रक्षा अधिकारी ने बताया कि कोलकाता और उत्तर तथा दक्षिण 24 परगना जिलों के विभिन्न हिस्सों में सेना की पांच टुकड़ियों को तैनात किया गया.

राज्य के तीन हिस्सों में हुआ ज्यादा नुकसान
राज्य के तीन हिस्सों में चक्रवात के कारण सबसे अधिक नुकसान पहुंचा है. चक्रवात से 86 लोगों की मौत हो गई, कई मकान क्षतिग्रस्त और फसलें बर्बाद हो गई. वन विभाग और कोलकाता नगर निगम ने सड़क साफ कराने के काम में अपने कर्मचारियों को भी लगाया है. शहर के कई हिस्सों में बिजली और जल आपूर्ति अब भी बाधित है. गुस्साए निवासियों ने दक्षिण कोलकाता में कई इलाकों में सड़कों को बाधित कर दिया. उन्होंने बिजली और जल आपूर्ति बहाल करने की मांग की जो बुधवार दोपहर से ही उन्हें उपलब्ध नहीं है.

पीएम मोदी ने किया था दौरा
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने स्थिति को ‘‘राष्ट्रीय आपदा से कहीं अधिक’’ बताया था और एक लाख करोड़ रूपये से अधिक के नुकसान का अनुमान जताया था. उन्होंने बताया था कि चक्रवात से छह करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बनर्जी ने शुकव्रार को दक्षिण और उत्तर 24 परगना जिलों के प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया था.

(भाषा के इनपुट के साथ)

News18 Polls- लॉकडाउन खुलने पर ये काम कब से करेंगे आप?


ये भी पढ़ें-
राज ठाकरे की योगी को दो टूक, कहा- बिना इजाजत यहां नहीं आने चाहिए प्रवासी मजदूर
First published: May 25, 2020, 5:14 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading