अपना शहर चुनें

States

COVID-19: कोरोना के नए वेरिएंट से बढ़ रही हैं मरीजों की संख्या? महाराष्ट्र और केरल पर सरकार की गहरी नज़र

फाइल फोटो
फाइल फोटो

Coronavirus: कहा जा रहा है कि अब तक अब तक करीब 6000 जीनोम सीक्वेंसिंग हो चुकी है. जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए ये पता चलता है कि वायरस कैसा है, किस तरह दिखता है

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2021, 2:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) की नई लहर ने देश की चिंता बढ़ा दी है. पिछले एक हफ्ते से कोरोना के नए केस में लगातार इजाफा हो रहा है . ऐसे में ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि क्या कोरोना के नए वेरिएंटे के चलते मामले बढ़ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने पिछले एक महीने के दौरान महाराष्ट्र और केरल से करीब एक हजार सैंपल जमा किए हैं. इन सबकी जीनोम सीक्वेंसिंग की जा रही है. अगले 3-4 दिनों में वायरस के नए वेरिएंट को लेकर स्थिति साफ हो जाएगी.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, कहा जा रहा है कि अब तक करीब 6000 जीनोम सीक्वेंसिंग हो चुकी है. जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए ये पता चलता है कि वायरस कैसा है, किस तरह दिखता है. इसी वायरस के विशाल समूह को जीनोम कहा जाता है. केरल और मुंबई में माइक्रो लेवल पर मॉनिटरिंग की जा रही है. इसके अलावा पंजाब और दिल्ली से भी कुछ सैंपल मगांए जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें:- अतीक अहमद के बेटे उमर को सुप्रीम कोर्ट से झटका, अग्रिम जमानत याचिका खारिज



बता दें कि केंद्र ने महाराष्ट्र, केरल, गोवा, आंध्र प्रदेश और चंडीगढ़ को कोरोना पर काबू पाने के लिए खास निर्देश दिए हैं. दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने सोमवार को अधिकारियों को क्लस्टर आधारित जीनोम सीक्वेंसिंग जांच करने का निर्देश दिया. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में विशेषज्ञों ने कोरोना वायरस के नए वेरिएंट के बारे में चर्चा की.

कोशकीय और आणविक जीवविज्ञान केंद्र (सीसीएमबी) के एक अध्ययन के हवाले से दावा किया गया है कि देश में कोरोना वायरस के 7569 परिवर्तित प्रकार हैं. कहा जा रहा है कि हाल में पहचाने गए वायरस के भारतीय वेरिेएंट काफी संक्रामक हैं और विशेषज्ञ इसे चिंता के मुख्य कारण के तौर पर देख रहे हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज