लाइव टीवी

राज ठाकरे बोले- उत्तर भारतीयों में अगर आत्मसम्मान है तो क्यों अपने नेताओं से सवाल नहीं करते

भाषा
Updated: December 3, 2018, 4:06 PM IST
राज ठाकरे बोले- उत्तर भारतीयों में अगर आत्मसम्मान है तो क्यों अपने नेताओं से सवाल नहीं करते
एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे पहली बार हिंदी में भाषण दिया. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने मुंबई में रह रहे उत्तर भारतीयों के संगठन 'उत्तर भारतीय मंच' की एक रैली को संबोधित करते हुए यह बात कही.

  • Share this:
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे ने कहा कि उत्तर प्रदेश और बिहार से मुंबई आए लोगों को अपने-अपने राज्यों में नेताओं से वहां विकास की कमी पर सवाल पूछना चाहिए.

ठाकरे ने मुंबई में रह रहे उत्तर भारतीयों के एक संगठन 'उत्तर भारतीय मंच' द्वारा आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए यह कहा, जहां ठाकरे ने संभवत: पहली बार हिंदी में भाषण दिया. उन्होंने कहा कि वह अपनी पार्टी के पिछले विरोध प्रदर्शनों के लिए कोई स्पष्टीकरण देने नहीं आए हैं, बल्कि हिंदी में अपने विचार रखने आए हैं, ताकि वह बड़ी संख्या में लोगों तक अपनी बात पहुंचा सकें.

ये भी पढ़ें- महाराष्‍ट्र: भाजपा ने कार्टून बनाकर दिया राज ठाकरे को जवाब

ठाकरे ने कहा, 'उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों ने देश को वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (जो वाराणसी से सांसद हैं) सहित कई प्रधानमंत्री दिए हैं. अगर आप में आत्मसम्मान है, तो उनसे (नेताओं से) क्यों नहीं पूछते कि उनका राज्य औद्योगीकरण में क्यों पीछे छूट रहा है और क्यों वहां कोई रोजगार नहीं मिल रहा है.' उन्होंने कहा, 'मुंबई आने वाले लोगों में ज्यादातर लोग यूपी, बिहार, झारखंड और बांग्लादेश से हैं. मैं सिर्फ यह चाहता हूं कि अगर लोग आजीविका की तलाश में महाराष्ट्र आ रहे हैं, तो उन्हें स्थानीय भाषा और संस्कृति का सम्मान करना चाहिए.'

ये भी पढ़ें: उत्तर भारतीयों को लेकर राज ठाकरे का 'बदला मिज़ाज', बड़े गेम पर है नज़र

राज ठाकरे ने कहा, 'जब भी मैं अपना पक्ष रखता हूं, जिससे यूपी और बिहार के लोगों के साथ विवाद हो जाता है, तो हर कोई मेरी आलोचना करता है. लेकिन हाल में गुजरात में बिहारी लोगों पर हुये हमलों के बाद, किसी ने भी सत्तारूढ़ दल (बीजेपी) या प्रधानमंत्री (जिनका गृह राज्य गुजरात है) से सवाल नहीं किया.' उन्होंने कहा, 'इसी तरह के विरोध असम और गोवा में भी हुए, लेकिन मीडिया ने उसे कभी भी तरजीह नहीं दी, लेकिन मेरे विरोध को हमेशा ही मीडिया में बढ़ा-चढ़ाकर कर पेश किया जाता है.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 3, 2018, 1:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...