एल्फिंस्टन हादसे मे रेल अधिकारियों को क्लीन चिट के विरोध में एमआईएम

Alisha Nair | News18Hindi
Updated: October 12, 2017, 7:44 PM IST
एल्फिंस्टन हादसे मे रेल अधिकारियों को क्लीन चिट के विरोध में एमआईएम
हादसे में 23 लोगों की मौत हो गई थी.
Alisha Nair | News18Hindi
Updated: October 12, 2017, 7:44 PM IST
एल्फिंस्टन मामले मे रेल अधिकारियों को क्लीन चिट के विरोध में एमआईएम के नेता और कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए हैं. भारी संख्या में लोग इस हल्ला बोल आंदोलन में शामिल हुए.

एल्फिंस्टन स्टेशन ब्रिज हादसे में रेलवे अधिकारियों को पश्चिम रेलवे प्रशासन द्वारा क्लीन चिट दिए जाने के विरोध में एमआईएम पार्टी के विधायक वारिस पठान के नेतृत्व में रे रोड स्टेशन भायखला में हल्ला बोल धारणा आंदोलन किया गया. इसमें एमआईएम के भारी संख्या में कार्यकर्ता समेत स्थानीय लोग भी शामिल थे.

वारिस पठान का आरोप है कि एल्फिंस्टन स्टेशन ब्रिज हादसे में 23 लोगों की जान गंवाने के बाद भी मोदी सरकार और उनकी रेल प्रशासन के दोषी रेल अधिकारियों पर कार्रवाई करने के बजाय उनकी जांच समिति उन्हें क्लीन चिट दे रही है. जबकि उनके खिलाफ पुलिस में एफआईआर दर्ज होना चाहिए. लेकिन प्रशासन तेज बारिश और अफवाह का हवाला देकर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे हैं.

वारिस पठान का कहना है कि रेल प्रशासन अगर इस हादसे के दोषी अधिकारियों के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज नहीं करती है तो आज का यह संताप आंदोलन कल पूरे मुंबई मे तोड़-फोड़ आंदोलन का होगा जिसकी जिम्मेदार रेल प्रशासन और मोदी सरकार होगी. हमें इस हादसे में मरे लोगों के परिजनों को न्याय दिलाना है और दोषियों को सजा. आगे ऐसी परिस्थिति का निर्माण न हो इसके लिए सरकार को तत्काल मुंबई के सभी रेलवे स्टेशनों का दुरुस्त करना चाहिए.

बता दें कि 29 सितंबर को एल्फिंस्टन स्टेशन ब्रिज पर भगदड़ हादसा मामले की जांच पश्चिम रेलवे के मुख्य सुरक्षा के अधिकारी की अध्यक्षता में बनाई गई समिति द्वारा मामले की पूरी जांच करने के बाद उसकी रिपोर्ट रेल महाव्यवस्थापन के सामने रखा गया जिसमें रेल अधिकारियों को निर्दोष बताते हुए उन्हें क्लीन चिट दे दी गई है.

ये भी पढ़ें-
रेलवे! कुछ तो शर्म करो... अपना दोष बरसात पर कैसे डाल सकते हो?
मुंबई भगदड़ में 22 की मौत, केंद्र और राज्य ने दिया 5-5 लाख का मुआवजा


 
First published: October 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर