Home /News /nation /

नरेंद्र मोदी सरकार की मदद से IAS-IPS अफसर बने 22 अल्पसंख्यक

नरेंद्र मोदी सरकार की मदद से IAS-IPS अफसर बने 22 अल्पसंख्यक

मेन एग्जाम- में नौ पेपर होते हैं. जिसमें दो क्वालिफाई करने होते हैं और सात रैंकिंग वाले होते हैं. इन पेपर्स में सवाल एक से 60 नंबर्स तक हो सकते हैं. जिनके जवाब 20 शब्दों से 600 के बीच दिया जा सकता है. क्वालिफाईंग पेपर्स पास करने वाले उम्मीदवारों को अंकों के अनुसार रैंक दी जाती है.

मेन एग्जाम- में नौ पेपर होते हैं. जिसमें दो क्वालिफाई करने होते हैं और सात रैंकिंग वाले होते हैं. इन पेपर्स में सवाल एक से 60 नंबर्स तक हो सकते हैं. जिनके जवाब 20 शब्दों से 600 के बीच दिया जा सकता है. क्वालिफाईंग पेपर्स पास करने वाले उम्मीदवारों को अंकों के अनुसार रैंक दी जाती है.

अल्पसंख्यक युवाओं को यूपीएससी में कामयाबी दिलाने के लिए किस तरह से पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) सरकार मदद कर रही है, इस बारे में केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar abbas naqvi) ने सम्मान समारोह के दौरान उन योजनाओं को भी गिनाया.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. वैसे तो हाल ही में जारी हुए यूपीएससी (UPSC) के रिज़ल्ट में दर्जनों अल्पसंख्यक युवाओं (Minority youth) ने कामयाबी पाई है, लेकिन इन सबके बीच 22 युवा ऐसे हैं, जिन्हें हाल ही में अल्पसंख्यक मंत्रालय की ओर से सम्मानित भी किया गया है. यह वो युवा हैं जो अपनी जीतोड़ मेहनत और सरकारी मदद से आईएएस (IAS) और आईपीएस (IPS) बने हैं.

    अल्पसंख्यक युवाओं को यूपीएससी में कामयाबी दिलाने के लिए किस तरह से पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सरकार मदद कर रही है. इस बारे में केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar abbas naqvi) ने सम्मान समारोह के दौरान उन योजनाओं को भी गिनाया. गौरतलब रहे कि केन्द्र सरकार यूपीएससी की तैयारी के लिए अल्पसंख्यक युवाओं को एक लाख रुपये की मदद देती है.

    ये भी पढ़ें: जानिए, कानून बनने के बाद कहां घटे और कहां बढ़ रहे Triple talaq के मामले

    नकवी बोले- कमजोर तबकों के लिए रोल मॉडल हैं यह युवा

    यूपीएससी में कामयाबी पाने वाले युवाओं के लिए आयोजित सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, 'अल्पसंख्यक समुदायों के नौजवानों में प्रतिभा की कोई कमी नहीं. यूपीएससी में चयनित ये 22 अल्पसंख्यक युवा कमजोर तबकों के लिए रोल मॉडल हैं. लेकिन इससे पूर्व ऐसा माहौल बनाने की कोशिश नहीं हुई, जिससे उनकी काबिलियत की कद्र हो सके. सरकार द्वारा बिना भेदभाव के प्रतिभाओं को सम्मान एवं सशक्तिकरण का परिणाम है कि आजादी के बाद पहली बार इतनी बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के नौजवान शीर्ष प्रशासनिक सेवाओं में चुने जा रहे हैं. पिछले 3 साल से इसी तरह उत्साहजनक आंकड़े आ रहे हैं.'

    ये भी पढ़ें : इन अस्‍पतालों में शुरू हो गया है मोबाइल OPD, यहां जानें कैसे उठा सकते हैं फायदा



    minority youth, PM Narendra Modi, UPSC, scholarship, mukhtar abbas naqvi, अल्पसंख्यक युवा, पीएम नरेंद्र मोदी, यूपीएससी, छात्रवृत्ति, मुख्तार अब्बास नकवी
    ज़कात फाउंडेशन भी युवाओं को यूपीएससी की तैयारी कराती है.


    नकवी बोले सरकार युवाओं की ऐसे कर रही है मदद

    अल्पसंख्यक मामलों के मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, "नई उड़ान", "नया सवेरा" योजनाओं के तहत गरीब, कमजोर, पिछड़े अल्पसंख्यक वर्ग के युवाओं को विभिन्न संस्थानों के माध्यम से यूपीएससी एवं अन्य प्रशासनिक, मेडिकल, इंजीनियरिंग, बैंकिंग सेवा परीक्षाओं आदि के लिए बड़े पैमाने पर निशुल्क कोचिंग मुहैया करा रहा है. 2014 से पहले मात्र 2 करोड़ 94 लाख अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दी गई थी, वहीं 2014 के बाद 6 साल में 4 करोड़ 60 लाख छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप दी गई हैं. जिसमे 50 फीसद लड़कियां शामिल हैं.



    6 साल में अल्पसंख्यकों के लिए बने 34 हज़ार से ज़्यादा संस्थान  

    केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी का कहना है, पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार के दौरान भारत में अल्पसंख्यकों की सामाजिक-आर्थिक-शैक्षिक तरक्की पर प्रश्न चिन्ह खड़ा कर दुनिया में भारत को बदनाम करने की सियासी साजिश करने वालों को 6 साल में कड़ा जवाब दिया गया है. 6 साल में अल्पसंख्यकों के लिए 34 हज़ार से ज़्यादा संस्थान तैयार किए गए हैं. इसमे स्कूल-कॉलेज, अस्पताल, हॉस्टल, कम्युनिटी सेन्टर, कॉमन सर्विस सेन्टर, आईटीआई, पॉलिटेक्निक, गर्ल्स हॉस्टल आदि का निमार्ण कराया गया है.undefined

    Tags: Minority Commission, Mukhtar abbas naqvi, Pm narendra modi, Upsc exam

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर