यूपी चुनाव से दो साल पहले तैयारी में जुटी पार्टियां, विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद 'ब्राह्मण वोट बैंक' पर नजर

यूपी चुनाव से दो साल पहले तैयारी में जुटी पार्टियां, विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद 'ब्राह्मण वोट बैंक' पर नजर
गैगस्टर विकास दुबे को पिछले शुक्रवार की सुबह एनकाउंटर में मार गिराया गया था

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में दलों की रणनीतिक तैयारी गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) के एनकाउंटर के बाद शुरू हुई जब 'ब्राह्मण वोट बैंक' आकर्षण का केंद्र बन गया.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अभी विधानसभा चुनाव होने को 2 साल बाकी हैं. हालांकि पार्टियों ने अपने-अपने खेमे की रणनीति तैयार करनी शुरू कर दी है. अचानक रणनीति तैयार करने की शुरुआत गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) के एनकाउंटर के बाद हुई जब 'ब्राह्मण वोट बैंक' आकर्षण का केंद्र बन गया है. राज्य के लगभग सभी विपक्षी दल जैसे - कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी, भारतीय जनता पार्टी के पारंपरिक वोटबैंक माने जाने वाले ब्राह्मणों को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं.

हालांकि पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जितिन प्रसाद यूपी में लगातार ब्राह्मण चेहरा रहे हैं. वह राज्य में रहे हैं और कुछ हद तक खुद को कांग्रेस के ब्राह्मण चेहरे के रूप में स्थापित करने में सफल रहे हैं. उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों से जुड़े मुद्दों को उठाने के अलावा, प्रसाद ने हाल ही में बसपा सुप्रीमो मायावती को जाति के आधार पर दुबे की मौत पर भेदभाव के मुद्दे पर एक ट्वीट के लिए धन्यवाद दिया था. मायावती के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस नेता ने लिखा- 'मायावती जी, आपने हमारे समाज के बारे में जो कहा है, उसके लिए मैं अपने समाज की ओर से आपका आभार व्यक्त करता हूं.'

बीएसपी प्रमुख ने सोशल इंजीनियरिंग को बेहतर बनाने की कोशिश में ट्वीट किया था. उन्होंने लिखा था- 'बीएसपी का मानना है कि किसी गलत व्यक्ति के अपराध की सजा के तौर पर उसके पूरे समाज को प्रताड़ित व कटघरे में नहीं खड़ा करना चाहिए. इसीलिए कानपुर पुलिस हत्याकांड के आरोपी दुर्दान्त विकास दुबे व उसके गुर्गों के जुर्म को लेकर समाज में भय व आतंक की जो चर्चा गर्म है उसे दूर करना चाहिए. साथ ही, यूपी सरकार अब खासकर विकास दुबे कांड की आड़ में राजनीति नहीं बल्कि इस संबंध में जनविश्वास की बहाली हेतु मजबूत तथ्यों के आधार पर ही कार्रवाई करे तो बेहतर है.'



मायावती ने कहा था - 'सरकार ऐसा कोई काम नहीं करे जिससे अब ब्राह्मण समाज भी यहां अपने आपको भयभीत, आतंकित व असुरक्षित महसूस करे. इसी प्रकार, यूपी में आपराधिक तत्वों के विरूद्ध अभियान की आड़ में छांटछांट कर दलित, पिछड़े व मुस्लिम समाज के लोगों को निशाना बनाना, यह भी काफी कुछ राजनीति से प्रेरित लगता है जबकि सरकार को इन सब मामलों में पूरे तौर पर निष्पक्ष व ईमानदार होना चाहिए, तभी प्रदेश अपराध-मुक्त होगा.'
कांग्रेस से जितिन प्रसाद और आचार्य प्रमोद कृष्णण लगा रहे जोर
प्रसाद ने पहले समुदाय से संबंधित मुद्दों को उठाने के लिए ब्राह्मण चेतना अभियान शुरू किया था. इसी क्रम में उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो जारी करते हुए कहा, 'पिछले कुछ वर्षों में हमारे समाज को हाशिए पर डालने का काम योजनाबद्ध तरीके से किया जा रहा है. हमारे समाज को दुर्भावनापूर्ण और सौतेला व्यवहार के रूप में देखा जा रहा है. हम सभी को इस चुनौती का सामना करना पड़ रहा है. हम सभी ने देखा है कि हमारे समाज के कई लोगों की बेरहमी से हत्या कर दी गई है. मैं खुद कई स्थानों पर पीड़ितों के परिवारों तक पहुंचा हूं. हमारे समुदाय के लोगों को न्याय के लिए भटकना पड़ा है. महसूस हो रहा है कि सरकार समाज के प्रति गलत इरादे से काम कर रही है. हमें इस चुनौती का सामना करने के लिए एकजुट होना होगा.'

सीएसडीएस के अनुसार, 2019 के लोकसभा चुनावों में, केवल छह प्रतिशत ब्राह्मणों ने यूपी में कांग्रेस को वोट दिया जबकि भाजपा को 82 प्रतिशत समर्थन प्राप्त था. यूपी में, लगभग 10 प्रतिशत आबादी वाले ब्राह्मण पूर्वांचल में अधिक प्रभावी हैं और लगभग 30 जिलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इसे 'डिसाइडिंग शिफ्टिंग' वोट माना जाता है. यही मुख्य कारण है कि कांग्रेस ब्राह्मण वोटों को वापस जीतने की पुरजोर कोशिश कर रही है, जिसे कभी कांग्रेस के प्रति वफादार माना जाता था.

जितिन प्रसाद के अलावा, कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने भी विकास दुबे के एनकाउंटर के मुद्दे पर योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ पूरा जोर लगाया और सरकार को 'ब्राह्मणों का हत्यारा' करार दिया. उन्होंने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर लिखा 'यह सरकार ब्राह्मणों की हत्यारी है. ब्राह्मण होना एक अभिशाप है, क्या सरकार ब्राह्मणों को बहिष्कृत कर देगी.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading