Assembly Banner 2021

पायलट अभिनंदन को पाकिस्‍तान ने इन वजहों से 'हाथ भी नहीं लगाया'

फाइल फोटो.

फाइल फोटो.

सही बात तो ये कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान हमारे पायलट को रिहा कर रहा है. ये कहना है मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा का.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2019, 6:46 PM IST
  • Share this:
हमारा मिग-21 सीमा की सुरक्षा में था. पायलट हमारा वर्दी में है. और पाकिस्तानी सेना मीडिया के सामने ये स्वीकार भी कर चुकी है कि भारतीय वायु सेना का एक पायलट उसके कब्जे में है. ये ही वजह है कि जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान को हमारे पायलट को रिहा करने जा रहा है. इसी वजह से पाकिस्तानी सेना ने हमारे पायलट अभिनंदन को छुआ भी नहीं. क्योंकि हिरासत के दौरान पायलट को चोट लगने का मतलब होगा जेनेवा संधि का उल्लघंन और ये एक क्रीमिनल केस के रूप में दर्ज होगा. ये कहना है मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा का.

न्यूज18 हिन्दी से बात करते हुए मेजर जनरल केके सिन्हा ने कहा कि "कारगिल युद्ध के दौरान फ्लाइट लेफ्टिनेंट नचिकेता का पाकिस्तान में उतरना, पाक सेना द्वारा उन्हें पकड़ना और फिर उनका सही-सलामत वापस आना एक बड़ा उदाहरण देश के सामने है."

सिन्हा ने कहा, "अगर हमारे पायलट को कुछ भी होता तो ये जेनेवा एक्ट का उल्लघंन होता और इंटरनेशनल लेवल पर ये एक क्रीमिनल केस भी बनता. 7 दिन बाद ही पाकिस्तान ने नचिकेता को हमें सही-सलामत लौटाया था. ऐसा ही हमारे मिग के पायलट के साथ भी होगा. वर्ना जेनेवा एक्ट का उल्लंघन पाकिस्तान को बहुत भारी पड़ेगा. दूसरी बात ये कि मेडिकल सुविधा भी उस पायलट को वैसी ही मिलती जैसे डयूटी के दौरान अपने देश में मिलती है."



वहीं विंग कमांडर रिटायर्ड एके सिंह का कहना है कि कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय वायुसेना के फाइटर पायलट नचिकेता पाकिस्तान के कब्जे में चले गए थे. वह कारगिल वार के अकेले युद्धबंदी थे उनकी रिहाई के लिए भारत सरकार ने कोशिश की. तब उन्हें रेडक्रॉस के हवाले कर दिया गया, जो उन्हें भारत वापस लेकर आई. बताया गया है कि जेनेवा संधि के तहत युद्धबंदी को अधिकार मिलते हैं.
ये भी पढ़ें- F-16 की इस खासियत पर इतराता है पाकिस्तान, जिसे आज भारत ने मार गिराया

इसके तहत युद्धबंदी से कुछ पूछने के लिए उसके साथ जबरदस्ती नहीं की जा सकती. उनके खिलाफ धमकी या दबाव का इस्तेमाल नहीं हो सकता. पर्याप्त खाने और पानी का इंतजाम करना उन्हें बंधक रखने वालों की जिम्मेदारी होगी. उन्हें वही मेडिकल सुविधाएं भी हासिल होंगी जो भारत मुहैया करवाता.

ये भी पढ़ें- 

'पाकिस्तान में सिर्फ अभिनंदन ही नहीं ये एयर फोर्स अफसर भी हैं, लेकिन पाक कर रहा इनकार'

'पाकिस्तान को खुश होना चाहिए कि हम उसे आतंकवाद मुक्त बना रहे हैं'

Air strike: 3 विमान भरते हैं उड़ानएक गिराता है बम, 2 ऐसे करते हैं दुश्मन से रक्षा

एयर स्ट्राइक: ये हैं वो चार खास पॉइंट जिस पर टिकी होती एयर स्ट्राइक

एयर स्ट्राइक: इसलिए कारगिल के बाद एयर स्ट्राइक में मिराज एयरक्राफ्ट का हुआ इस्तेमाल 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज