होम /न्यूज /राष्ट्र /महिलाओं से छेड़छाड़ और कोविड-19 नियमों के उल्लंघन मामले में असम राइफल्स से माफी की मांग

महिलाओं से छेड़छाड़ और कोविड-19 नियमों के उल्लंघन मामले में असम राइफल्स से माफी की मांग

देश के सबसे पुराने अर्धसैनिक बल ने इस आरोप से इनकार किया है (सांकेतिक फोटो, PTI)

देश के सबसे पुराने अर्धसैनिक बल ने इस आरोप से इनकार किया है (सांकेतिक फोटो, PTI)

वाईएमए ने आरोप लगाया कि असम राइफल्स (Assam Rifles) के जवानों ने भारत-म्यामांर सीमा (India-Myanmar border) से लगे चम्फई ...अधिक पढ़ें

    एजल. मिजोरम (Mizoram) में एक संगठन ने स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर दो महिलाओं से कथित छेड़छाड़ और कोविड-19 के सुरक्षा नियमों (Covid-19 safety regulations) के उल्लंघन (violation) को लेकर असम राइफल्स (Assam Rifles) से माफी की मांग की है. हालांकि देश के सबसे पुराने अर्धसैनिक बल (country's oldest paramilitary force) ने इस आरोप से इनकार किया है. संगठन ने रविवार को एक बयान में कहा कि यंग मिजो एसोसिएशन (YMA) की केंद्रीय समिति (central committee) ने असम राइफल्स से इस महीने के अंत तक माफी मांगने को कहा है. संगठन ने ऐसा नहीं करने पर ‘कड़ी कार्रवाई’ की चेतावनी (warning) दी है.

    वाईएमए ने आरोप लगाया कि असम राइफल्स (Assam Rifles) के जवानों ने भारत-म्यामांर सीमा (India-Myanmar border) से लगे चम्फई जिले के सेशीह गांव में 15 अगस्त को दो महिलाओं (women) के साथ छेड़छाड़ (molestation) की थी. वाईएमए नेता ने कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय सीमा (International border) की रक्षा कर रहे असम राइफल्स के जवानों ने खेत से लौट रही महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की.’’ इकाई ने असम राइफल्स पर आरोप लगाया है कि वे अनिवार्य चिकित्सा जांच (compulsory medical examination) से इनकार करके राज्य सरकार द्वारा तय किए गए कोविड-19 दिशानिर्देशों (Covid-19 Guidelines) का उल्लंघन कर रहे हैं.

    केंद्रीय गृह मंत्रालय को पत्र लिखने की कही गई बात
    एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री जोरमथंगा ने शनिवार को वाईएमए नेताओं के साथ असम राइफल्स जवानों की कथित ‘अभद्रता’ को लेकर बैठक की. यह निर्णय लिया गया कि राज्य सरकार और वाईएमए अलग-अलग केंद्रीय गृह मंत्रालय को असम राइफल्स द्वारा सुरक्षा निर्देशों के कथित उल्लंघन के अनुचित व्यवहार और स्वतंत्रता दिवस उत्सव में शामिल नहीं होने को लेकर पत्र लिखेंगे.

    राज्य गृह विभाग ने 19 अगस्त को असम राइफल्स के सेक्टर 23 के डीआईजी को पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि उसके 46वीं बटालियन के 15 कर्मी 18 अगस्त को अनिवार्च जांच प्रक्रिया का पालन किए बगैर मिजोरम में घुस आए.

    यह भी पढ़ें: राहुल गांधी के खंडन और आज़ाद के इस्तीफे की पेशकश के बाद कांग्रेस में ऑल इज वेल

    असम राइफल्स ने इस आरोप से इनकार करते हुए कहा कि मिजोरम सरकार ने सुरक्षाकर्मियों की अंतर-राज्य गतिविधि को रोककर केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश का उल्लंघन किया है. 46 असम राइफल्स के कमांडेंट कर्नल विप्लव त्रिपाठी ने दावा किया कि असम के सिल्चर से आए इन 15 कर्मियों ने जोर दिया था कि अधिकारी उनकी त्वरित एंटीजन जांच करें.

    Tags: Assam Rifles, Coronavirus, COVID-19 pandemic, Mizoram, Sexual Harassment

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें