• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • MOBILE OPEN SECRETS OF THE DEATH OF CCD FOUNDER VG SIDDHARTHA

मोबाइल खोलेंगे CCD संस्थापक वीजी सिद्धार्थ की मौत का राज

मोबाइल खोलेंगे CCD संस्थापक वीजी सिद्धार्थ की मौत का राज

जांच अधिकारियों की ओर से इस मामले में कंपनी के अधिकारियों और कर्मचारियों से भी पूछताछ की जा रही है.

  • Share this:
    कैफे कॉफी डे (सीसीडी) के संस्थापक वीजी सिद्धार्थ की कथित आत्महत्या की जांच में पुलिस जुट गई है. पुलिस को सिद्धार्थ के पैंट और उनकी कार से दो मोबाइल मिले हैं. पुलिस को उम्मीद है कि इन मोबाइल से कई बड़े सुराग हाथ लग सकते हैं. जांच अधिकारियों की ओर से इस मामले में कंपनी के अधिकारियों और कर्मचारियों से भी पूछताछ की जा रही है.

    मेंगलुरु के पुलिस आयुक्त संदीप पाटिल ने बताया कि बेंगलुरु गए पुलिस दल ने कंपनी के अधिकारियों और कर्मचारियों से पूछताछ कर काफी जानकारियां जुटा ली हैं. आने वाले दिनों में हम कुछ अन्य लोगों से भी पूछताछ करेंगे. उन्होंने बताया कि सिद्धार्थ और उनकी कार से दो मोबाइल फोन जब्त किए गए हैं. पुलिस उन्हें खंगालकर जानकारियां जुटा रही है.

    गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा के दामाद और अरबपति उद्योगपति सिद्धार्थ कर्नाटक में दक्षिण कन्नड़ जिले के उल्लाला में नेत्रावति पुल के नजदीक से सोमवार को लापता हो गए थे. सरकारी एजेंसियों ने उन्हें खोजना शुरू किया, लेकिन वह नहीं मिले. इसके बाद बुधवार सुबह उनका शव मिला था. बाद में चिकमंगलूर में सिद्धार्थ का अंतिम संस्कार किया गया.

    Karnataka, police investigation, Suicide, Bengaluru,

    CCD के कर्मचारियों को सिद्धार्थ ने लिखा था पत्र
    कैफे काफी डे के निदेशक मंडल और कर्मचारियों को कथित रूप से लिखे अपने पत्र में सिद्धार्थ ने आयकर विभाग के पूर्व महानिदेशक के उन्हें बहुत परेशान किये जाने की बात लिखी थी. हालांकि, आयकर विभाग ने इन आरोपों से इनकार किया है. पुलिस के मुताबिक, ऐसा लगता है कि 59 वर्षीय सिद्धार्थ ने सोमवार को मेंगलुरु के समीप नदी में छलांग लगाकर खुदकुशी कर ली.

    Karnataka, police investigation, Suicide, Bengaluru,

    कर्ज से ज्यादा थी सिद्धार्थ की कुल संपत्ति
    वीजी सिद्धार्थ की मौत से उद्योग जगत सकते में है. हर तरफ इस बात को लेकर कई तरह की बातें चल रही है कि उन्होंने ऐसा कदम क्यों उठाया? चर्चा है कि उत्पीड़न की वजह या फिर संभावित अघोषित ऋण की वजह से उन्होंने ऐसा किया हो. हालांकि, जानकारी के मुताबिक उनकी संपत्ति उनके कर्ज से काफी ज्यादा थी.