• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • यूरोपीय एजेंसी EMA ने मॉडर्ना के कोविड टीके को दी मंजूरी, 12-17 साल के बच्चों को लगेगी वैक्सीन!

यूरोपीय एजेंसी EMA ने मॉडर्ना के कोविड टीके को दी मंजूरी, 12-17 साल के बच्चों को लगेगी वैक्सीन!

कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए वैक्सीन का ट्रायल जारी है.

कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए वैक्सीन का ट्रायल जारी है.

यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) ने कहा, बच्चों में वैक्सीन का उपयोग ठीक वैसे ही होगा जैसा कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में होता है. ईएमए ने कहा कि वैक्सीनेशन के बाद 18 से 25 साल की उम्र के लोगों में एंटीबॉडी प्रतिक्रिया देखने को मिली है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दुनियाभर में कोरोना वायरस की तीसरी लहर की आशंकाओं को देखते हुए वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को तेज कर दिया गया है. सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं बल्कि कई देशों ने अब बच्चों के वैक्सीनेशन की सिफारिश की है. इस बीच राहत की खबर ये है कि यूरोप के दवा नियामक ने 12 से 17 साल के बच्चों के लिए मॉडर्ना की कोविड वैक्सीन के उपयोग को मंजूरी देने की सिफारिश की है. यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) ने कहा, बच्चों में वैक्सीन का उपयोग ठीक वैसे ही होगा जैसा कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में होता है. ईएमए ने कहा कि वैक्सीनेशन के बाद 18 से 25 साल की उम्र के लोगों में एंटीबॉडी प्रतिक्रिया देखने को मिली है.

    ईएमए का कहना है कि कोरोना के डेल्टा वैरिएंट से बच्चों को सुरक्षित करने के लिए वैक्सीनेशन जरूरी है और मॉडर्ना की ये वैक्सीन उनकी इम्यूनिटी को स्ट्रांग बनाने का काम करेगी. जानकारी के लिए बता दें कि मॉडर्ना वैक्सीन की दो डोज लगती हैं और पहली और दूसरी डोज के बीच 4 हफ्तों का गैप होता है.

    आवेदन का मूल्यांकन कर रहा है यूरोपीय संघ
    यूरोपीय संघ के दवा नियामक के टीके रणनीति के प्रमुख डॉ मार्को कैवेलरी ने कहा कि विशेषज्ञ समिति वर्तमान में 12 से 17 साल के बच्चों के लिए कोरोना वायरस वैक्सीन के उपयोग को बढ़ाने के लिए मॉडर्न के आवेदन का मूल्यांकन कर रही है. उन्होंने कहा, हमें उम्मीद है कि समिति अगले सप्ताह के अंत तक किसी नतीजे पर पहुंच जाएगी, जिसके बाद इसे अप्रूवल दिया जा सकता है.

    मॉडर्ना के टीके को जनवरी में 27 देशों के यूरोपीय संघ में 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों में उपयोग के लिए हरी झंडी दी गई थी. इसे ब्रिटेन, कनाडा और अमेरिका सहित देशों में भी लाइसेंस दिया गया है, लेकिन अभी तक इसका उपयोग बच्चों तक नहीं किया गया है। आज तक, फाइजर-बायोएनटेक द्वारा बनाई गई वैक्सीन यूरोप और उत्तरी अमेरिका में 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए स्वीकृत एकमात्र वैक्सीन है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज