Home /News /nation /

मोदी कैबिनेट का विस्तार: 5 राज्यों से 55% मंत्री, बंगाल और उत्तर प्रदेश को खास तरजीह, पढ़ें मंत्रिमंडल का लेखा-जोखा

मोदी कैबिनेट का विस्तार: 5 राज्यों से 55% मंत्री, बंगाल और उत्तर प्रदेश को खास तरजीह, पढ़ें मंत्रिमंडल का लेखा-जोखा

कहा जा रहा है कि अगले साल कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए ये बदलाव किए गए हैं. (फोटो- AP)

कहा जा रहा है कि अगले साल कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए ये बदलाव किए गए हैं. (फोटो- AP)

PM Modi Cabinet Expansion: आखिर क्या खास है मोदी की कैबिनेट में. क्या कहते हैं मंत्रियों के आंकड़े ? कौन है सबसे अमीर? और नए मंत्रिमंडल से क्या मिल रहे हैं संकेत... आईए इन तमाम आंकड़ों और तथ्यों पर डालते हैं नज़र...

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 के बाद अपनी कैबिनेट (PM Modi Cabinet Expansion) में सबसे बड़ा बदलाव किया है. 12 पुराने मंत्रियों को बाहर का रास्ता दिखाया गया. जबकि 36 नए चेहरों को कैबिनेट में जगह दी गई. यानी अब कैबिनट में मंत्रियों की कुल संख्या 78 हो गई है. कहा जा रहा है कि अगले साल कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए ये बदलाव किए गए हैं. लिहाज़ा जिन राज्यों में चुनाव होने हैं वहां के नेताओं को बड़ी संख्या में मंत्रिमंडल में जगह दी गई है.

    आखिर क्या खास है मोदी की कैबिनेट में. क्या कहते हैं मंत्रियों के आंकड़े ? कौन है सबसे अमीर? और नए मंत्रिमंडल से क्या मिल रहे हैं संकेत... आईए इन तमाम आंकड़ों और तथ्यों पर डालते हैं नज़र...
    साल 2014 में सरकार गठन के समय मंत्रियों की कुल संख्या 46 थी. साल 2017 में ये बढ़कर 76 पर पहुंच गई. 2019 में शपथ लेते वक्त पीएम मोदी ने अपनी कैबिनेट में 58 मंत्रियों को जगह दी थी. अब ये बढ़ कर 78 हो गई है.
    अगले साल उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में चुनाव होने हैं. लिहाज़ा इन राज्यों के नेताओं को कैबिनेट में तरजीह दी गई है. उत्तर प्रदेश के 7 और मंत्रियों को कैबिनेट में जगह दी गई है. यानी उत्तर प्रदेश से कुल मंत्रियों की संख्या बढ़कर 16 हो गई है.
    मोदी कैबिनेट की औसत उम्र 58 साल है. 12 मंत्रियों की उम्र 50 साल से कम है. 40 साल से कम उम्र के मंत्रियों के लिस्ट पर नज़र डालें तो इसमें- निशीथ प्रमाणिक (35), शांतनु ठाकुर (38 ) और अनुप्रिया पटेल (40)
    पीएम मोदी ने अपनी कैबिनेट में 6 ऐसे मंत्री को जगह दी है जो पूर्व ब्यूरोक्रेट रहे है. ये हैं- एस जयशंकर, हरदीप सिंह पुरी, सोम प्रकाश, अर्जुन राम मेघवाल, अश्विनी वैष्णव और आरसीपी सिंह
    साल 2014 में कैबिनेट में 91.3 फीसदी मंत्री करोड़पति थे. साल 2019 में ये आंकड़ा 91% था. और अब साल 2021 में ये 89.5% पर पहुंच गया है. 379 करोड़ की संपत्ति के साथ सिंधिया सबसे अमीर मंत्री है.
    नई कैबिनेट के 8 मंत्री ऐसे हैं जिनके पास एक करोड़ से कम की संपत्ति है. ओडिशा के प्रतिमा भौमिक के पास सबसे कम 6.42 लाख की संपत्ति है.
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अपने राज्य गुजरात से मंत्रिमंडल में 7 मंत्री हैं. इनमें गृह मंत्री अमित शाह और विदेश मंत्री एस. जशंकर भी शामिल हैं. बता दें कि एस. जयशंकर गुजरात से राज्यसभा सांसद हैं. पुरुषोत्तम रुपाला और मनसुख मांडविया को भी प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री बनाया गया है.
    पश्चिम बंगाल से चार नेताओं को मंत्रिमंडल में जगह दी गई है. इन नेताओं में निशिथ प्रमाणिक, जॉन बराला, शांतनु ठाकुर, सुभाष सरकार हैं. शांतनु ठाकुर मटुआ समुदाय से आते हैं जो बीजेपी का वोटर माना जाता है.
    शिक्षा के मोर्चे पर देखें तो इस बार 13 सदस्य वकील, 6 डॉक्टर और 5 इंजीनियर हैं. साथ ही 7 सिविल सर्वेंट मिलाकर कहा जा सकता है कि टीम में 31 सदस्य उच्च शिक्षित हैं.
    नए मंत्रिमंडल में 5 मंत्री अल्पसंख्यक समुदाय से हैं. जबकि, ओबीसी की संख्या 27 है. खास बात ये है कि इनमें से 5 को कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त होगा. शपथ लेने वाले 8 में अनुसूचित जनताति में से 3 को कैबिनेट का दर्जा मिलेगा. जबकि, अनुसूचित जाति समुदाय से आने वाले 12 नेताओं में से 2 को कैबिनेट मंत्रालय में जगह मिलेगी.

    Tags: Modi cabinet expansion, PM Modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर