अपना शहर चुनें

States

सिविल सर्विसेज का जम्मू-कश्मीर कैडर खत्म, केंद्र ने जारी किया आदेश

सिविल सर्विसेज का जम्मू-कश्मीर कैडर खत्म
सिविल सर्विसेज का जम्मू-कश्मीर कैडर खत्म

केंद्र सरकार (Central government) की ओर से उठाए गए इस कदम के बाद जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के आईएएस, आईपीएस और आईएफस अधिकारी अब एजीएमयूटी कैडर (अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और यूनियन टेरेटरीज कैडर) का हिस्सा होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2021, 8:13 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार की ओर से जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद अब सिविल सर्विसेज (Civil Services) के जम्मू-कश्मीर कैडर को खत्म करने की अधिूसचना जारी कर ​दी गई है. इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर रिऑर्गेनाइजेशन एक्ट 2019 में संशोधन के भी आदेश जारी कर दिए गए हैं. केंद्र सरकार की ओर से उठाए गए इस कदम के बाद जम्मू- कश्मीर के आईएएस, आईपीएस और आईएफस अधिकारी अब एजीएमयूटी कैडर (अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और यूनियन टेरेटरीज कैडर) का हिस्सा होंगे.

जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 के चलते जम्मू-कश्मीर कैडर के अधिकारियों की नियुक्ति अभी तक दूसरे राज्यों में नहीं होती थी. सरकार की ओर से जारी अधिसूचना के बाद से जम्मू-कश्मीर के अधिकारियों को भी दूसरे राज्य में नियुक्त किया जा सकेगा. गौरतलब है कि मोदी सरकार ने साल 2019 में जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का फैसला किया था. साथ ही जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों (जम्मू-कश्मीर और लद्दाख) में बांट दिया था.

जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने और दो केंद्र शासित प्रदेश में बांटे जाने के बाद सरकार का पूरा ध्यान इन दोनों केंद्र शासित प्रदेशों के विकास पर है. सरकार की ओर से इन दोनों ही प्रदेशों को लेकर कई अहम निर्णय लिए जा चुके हैं. कुछ दिन पहले ही गृह मंत्री अमित शाह ने लद्दाख के विकास को लेकर एक अहम बैठक की थी. लद्दाख की संस्कृति क्षेत्रीय संरक्षण और पहचान बरकरार रखने को लेकर ये बैठक की गई थी. गृहमंत्री ने लद्दाख से जुड़े अहम मुद्दों को लेकर एक कमेटी के गठन का ऐलान भी किया है.
इसे भी पढ़ें :- अमित शाह का बड़ा कदम, लद्दाख की विशेष पहचान कायम रखने के लिए किया कमेटी का गठन



बैठक के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार लद्दाख के विकास और उसकी भूमि व संस्कृति के संरक्षण के प्रति संकल्पित है और सरकार ने लद्दाख के लोगों की दशकों से लंबित संघ शासित राज्य की मांग को पूर्ण कर अपनी प्रतिबद्धता को दर्शाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज