Home /News /nation /

मोदी सरकार ने बीते 96 घंटों में बदली कोरोना के खिलाफ लड़ाई की रणनीति, लेने पड़े सख्त फैसले, जानें क्यों और कैसे?

मोदी सरकार ने बीते 96 घंटों में बदली कोरोना के खिलाफ लड़ाई की रणनीति, लेने पड़े सख्त फैसले, जानें क्यों और कैसे?

भारत ने बीते 96 घंटों में कोविड को लेकर अपनी लड़ाई में बड़ा सुधार किया है.

भारत ने बीते 96 घंटों में कोविड को लेकर अपनी लड़ाई में बड़ा सुधार किया है.

Covid Fight Plan: भारत ने बीते 96 घंटों में कोरोना वायरस ( Corona Virus) बीमारी से निपटने के लिए अपनी नीति में जबर्दस्‍त सुधार किया है. इन दिनों अधिकारी टीकाकरण अभियान में जुटे हुए हैं तो विशेषज्ञों ने सवाल उठाना शुरू कर दिया है कि प्रीकॉशनरी डोज और बूस्‍टर डोज ( Booster Dose) में क्‍या अंतर है?

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. भारत ने बीते 96 घंटों में कोरोना वायरस ( Corona Virus) बीमारी से निपटने के लिए अपनी नीति में जबर्दस्‍त सुधार किया है. नए साल आने के पहले ही टीकाकरण अभियान में अब टीनएजर्स को भी शामिल कर लिया गया है. इसके साथ ही हेल्‍थ और फ्रंट लाइन वर्कर्स, बुजुर्गों और लंबे समय से बीमार लोगों के लिए प्रीकॉशनरी शॉट्स भी लगाने की घोषणा हो गई है. इन दिनों अधिकारी टीकाकरण अभियान में जुटे हुए हैं तो विशेषज्ञों ने सवाल उठाना शुरू कर दिया है कि प्रीकॉशनरी डोज और बूस्‍टर डोज ( Booster Dose) में क्‍या अंतर है? टीनएजर्स को कौन सी वैक्‍सीन लगाई जाएगी और क्‍या भारत मिक्‍स एंड मैच जैसा कुछ करने जा रहा है. आखिर क्‍या होने वाला?

    क्‍या आने वाला साल 2022 अच्‍छा होगा? बीती अन्‍य महामारी को देखते हुए अभी कुछ कहा नहीं जा सकता. विशेषज्ञों का कहना है कि लोगों का व्‍यक्तिगत व्‍यवहार बहुत हद तक मायने रखेगा. वैक्‍सीन लगवाने भी जरूरी है, लेकिन हमेशा सावधानी बरतनी होगी. वैक्‍सीन विशेषज्ञ और वैज्ञानिक डॉ गगनदीप कांग कहते हैं कि एक समय ऐसा ही आएगा कि यह कोरोना बीमारी, एक आम सर्दी और बुखार जैसी रह जाएगी. हालांकि कोरोना वायरस के नए वेरिएंट्स आते रहेंगे और हमें सावधानी बरतनी होगी.

    ये भी पढ़ें :  गैंगरेप से आहत युवती ने किया सुसाइड, अंतिम संस्कार के समय हुआ खुलासा, कपड़ों में मिला सुसाइड नोट

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सरप्राइज
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) का क्रिसमस के मौके पर दिया गया भाषण लोगों के लिए बड़ा सरप्राइज रहा. इस भाषण में मोदी ने टीकाकरण को लेकर घोषणा की थी. वहीं लोगों से कहा था कि अभी कोरोना गया नहीं है, इसलिए सावधानी के लिए मास्‍क और सोशल डिस्‍टेंसिंग जैसे नियमों का पालन जरूर करें. यह भाषण कई मायनों में जरूरी भी था. देश में 21 राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट के मामले तेजी से बढ़कर 653 तक पहुंचे हैं और जिन लोगों को जनवरी में वैक्‍सीन लगाई गई थी उन लोगों की इम्‍युनिटी के स्‍तर में कमी को लेकर भी चिंता है.

    ये भी पढ़ें :  Explained: molnupiravir-एंटीवायरल गोली क्या है? covid-19 में कैसे होगी कारगर?

    टीकाकरण अभियान के दूसरे चरण में कौन होगा शामिल
    सबसे बड़ा सवाल है कि देश में शुरू हो रहे टीकाकरण अभियान के दूसरे चरण में कौन कौन शामिल होने जा रहा है. इसमें करीब 20.4 करोड़ लोग लाभांवित होंगे. इसमें 15 से 18 वर्ष वाले टीनएजर्स की संख्‍या करीब 7.4 करोड़ होगी तो हेल्‍थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स की संख्‍या करीब 3 करोड़ होगी जिन्‍हें प्रीकॉशनरी डोज लगाई जाए. वहीं 60 साल की उम्र से अधिक आयु के लोगों और दवा के सहारे बीमारी से लड़ रहे लोगों को भी वैक्‍सीन देनी होगी, जिनकी संख्‍या करीब 10 करोड़ हो सकती है.

    प्रीकॉशनरी डोज, बूस्‍टर डोज से अलग हैं
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के बाद यह जिज्ञासा थी कि बूस्‍टर डोज क्‍यों नहीं लग रहे हैं और सरकार प्रीकॉशनरी डोज क्‍यों लगाना चाहती है. इन दोनों में क्‍या अंतर है? जबकि देखा जा रहा है कि दोनों समान ही हैं. हालांकि केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी ने News18.com को बताया कि प्रीकॉशनरी डोज, बूस्‍टर डोज से अलग हैं. उन्‍होंने कहा कि वैक्‍सीन लेने के बाद भी बुजुर्गों में नए वेरिएंट के लिए प्रतिरक्षा होने के कमी न रह जाए, इसलिए सावधानी के लिए यह वैक्‍सीन डोज दिया जाना है, इसलिए इसे प्रीकॉशनरी नाम दिया गया है.

    फिलहाल टीनएजर्स को केवल कोवाक्सिन
    अभी तक की बात करें तो टीनएजर्स को भारत बायोटेक की कोवैक्सिन ही दी जाएगी. अगले महीने से 15 से 18 साल के किशोरों को वैक्‍सीन लगाना शुरू होगा. कोविन के प्रमुख आरएस शर्मा ने कहा था कि स्‍कूल आईडी या आधार कार्ड के आधार पर टीनएजर्स अपने वैक्‍सीन के लिए ऑनलाइन पंजीयन करा सकते हैं.

    बूस्‍टर डोज का क्‍या होगा
    सूत्रों का कहना है कि बूस्‍टर डोज को लेकर विश्‍लेषण और प्रक्रिया चल रही है. केंद्र ने स्थिति का जायजा लेने के लिए बूस्‍टर डोज की जरूरत विषय एक अध्‍ययन भी कराया था. इसमें 3000 प्रतिभागी शामिल हुए थे जिन्‍हें 6 माह पहले ही वैक्‍सीन का दूसरा डोज लग चुका था.

    Tags: Booster Dose, Corona Virus, Covid-19 Vaccinations, Prime Minister Narendra Modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर