लाइव टीवी

राज्यसभा में आसानी से पास हो जाएगा सिटिजनशिप बिल, ये है पूरा गणित

अमित पांडेय | News18India
Updated: December 10, 2019, 6:27 PM IST
राज्यसभा में आसानी से पास हो जाएगा सिटिजनशिप बिल, ये है पूरा गणित
राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक को पास कराने के लिए सरकार के पास है जरूरी आंकड़ा.

लोकसभा (Lok Sabha) में भारी बहुमत के साथ नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) पास हो गया है. राज्यसभा (Rajya Sabha) में नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सरकार के पास बहुमत भले न हो, लेकिन विधेयक को पास कराने के लिए एनडीए (NDA) ने जरूरी आंकड़ा जुटा लिया है.

  • News18India
  • Last Updated: December 10, 2019, 6:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लोकसभा (Lok Sabha) में बहुमत के साथ नागरिकता संशोधन विधेयक यानी सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल (Citizenship Amendment Bill) सोमवार को पारित हो गया. बुधवार को इसे राज्यसभा (Rajya Sabha) में पारित होने के लिए लाया जाएगा. लोकसभा में सरकार के पास भारी बहुमत था, लेकिन राज्यसभा में ऐसा नहीं है. बावजूद इसके पिछले कुछ महीनों में ऊपरी सदन में ऐसे समीकरण बने हैं, जिससे नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सरकार के पाले में बाजी आती हुई दिख रही है या फिर हम ये कह सकते हैं कि सरकार यहां भी बेहद मजबूती से खड़ी है. राज्यसभा में विभिन्न पार्टियों के सदस्यों का गणित भी सरकार के समर्थन में ही दिख रहा है.

क्या है राज्यसभा का गणित
राज्यसभा में कुल 245 सीटें हैं. इसमें से पांच सीटें रिक्त हैं यानि 240 सदस्य सदन में मौजूद रहेंगे वोटिंग के दौरान. इसमें से 106 सीटें सत्ताधारी एनडीए के पास हैं. 83 सीट बीजेपी, 6 सीट जेडीयू, 3 सीट शिरोमणि अकाली दल, 1 सीट आरपीआई और 13 अन्य सांसद शामिल हैं. जबकि इसका विरोध कर रहे यूपीए के पास 62 सांसद ही हैं. इसमें से 46 कांग्रेस, 4 आरजेडी, 4 एनसीपी, 5 डीएमके और 3 अन्य 3 सांसद हैं. यूपीए के अलावा इस बिल का विरोध करनेवाली अन्य पार्टियों में- टीएमसी 13, सपा 9, टीआरएस 6, सीपीएम 5, बीएसपी 5, आप 3, पीडीपी 2, सीपीआई 1 और जेडीएस 1 के सांसद हैं.

समर्थन में 134 सदस्य

इस बिल का समर्थन करनेवाली एनडीए के अलावा अन्य पार्टियों में एआईडीएमके 11, बीजेडी 7, शिवसेना 3, वाईएसआर कांग्रेस 2, टीडीपी 2 और अन्य 3 सांसद हैं. यानी फिलहाल राज्यसभा में सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल के मुद्दे पर सरकार के समर्थन में 134 सांसद दिख रहे हैं और विरोध में 106 सांसद नजर आ रहे हैं. एनडीए के मौजूदा घटक दल जेडीयू के भीतर इस बिल को समर्थन देने में मतभेद सामने आए हैं, बावजूद इसके जेडीयू शीर्ष नेतृत्व ने ये दावा किया है कि लोकसभा की तरह राज्यसभा में भी उनकी पार्टी नीतीश कुमार के दिशा-निर्देश में इस बिल का समर्थन करेगी वहीं, शिवसेना ने सरकार के सामने अपनी कुछ शर्तें और रखी हैं. एनडीए के अलावा इस बिल का समर्थन करनेवाली एक अन्य पार्टी बीजेडी-बीजू जनता दल ने ये संकेत दिए हैं कि वो सरकार का इस बिल पर समर्थन कर रही है, जिससे सरकार की राह राज्यसभा में आसान हो गई है.

ये भी पढ़ें -

CAB पर अमेरिका को तीखा जवाब: केंद्र ने USCIRF से कहा- ये आपका अधिकार क्षेत्र नहींनागरिकता बिल: शिवसेना ने कहा- सरकार जब तक सवालों का जवाब नहीं देगी, समर्थन नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 5:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर