जम्मू-कश्मीर में मोदी सरकार ने लोकतंत्र और संघीय ढांचे की हत्या की: माकपा

माकपा ने कहा कि सरकार के इस कदम से लोकतंत्र और संघीय ढांचे की हत्या हुई है.

भाषा
Updated: August 5, 2019, 6:32 PM IST
जम्मू-कश्मीर में मोदी सरकार ने लोकतंत्र और संघीय ढांचे की हत्या की: माकपा
सीपीआई महासचिव डी राजा (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: August 5, 2019, 6:32 PM IST
जम्मू-कश्मीर से जुड़े संविधान के अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी बनाने के मोदी सरकार के फैसले को वामदलों ने जनविरोधी बताता है. माकपा ने कहा कि सरकार के इस कदम से लोकतंत्र और संघीय ढांचे की हत्या हुई है.

माकपा पोलित ब्यूरो द्वारा सोमवार को जारी बयान के अनुसार ‘मोदी सरकार ने अनुच्छेद 370 खत्म कर लोकतंत्र और संविधान पर कुठाराघात किया है.’ पार्टी ने कहा कि कश्मीर के लोगों ने इस विश्वास के साथ खुद को भारत के साथ हमेशा एकजुट रखा कि उनके राज्य को मिली स्वायत्तता और विशेष राज्य का दर्जा बरकरार रहेगा.

पार्टी ने कहा कि मोदी सरकार ने इस विश्वास को तोड़कर जम्मू कश्मीर की जनता के साथ विश्वासघात किया है. पोलित ब्यूरो ने सरकार के इस फैसले को गैरकानूनी और असंवैधानिक बताते हुए कहा कि यह महज जम्मू कश्मीर को ही प्रभावित नहीं करेगा, बल्कि यह लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता और स्वयं संविधान पर हमला है.

‘कश्मीर को बांटना जनता पर जालिमाना हमला’

भाकपा के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अंजान ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की जनता शुरु से ही सभी प्रकार की विषम परिस्थितियों के बावजूद भारत के साथ एकजुटता से खड़ी रही. जम्मू-कश्मीर का इस प्रकार से बंटवारा करना वहां की जनता पर जालिमाना हमला है.

‘देश के अन्य राज्यों को भी बांट सकती है सरकार’
अनजान ने कहा, ‘जरूरत इस बात की थी कि इतना बड़ा फैसला करने से पहले उपयुक्त माहौल बनाया जाता. इससे यह संदेश गया है कि मोदी सरकार देश के अन्य राज्यों को भी कश्मीर की तर्ज पर कभी भी बांट सकती है. देश की एकता और अखंडता के लिये यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण दिन है.’
Loading...

ये भी पढ़ें- राज्यसभा में पीडीपी सांसदों ने फाड़े कपड़े, धरने पर बैठे गुलाम नबी आजाद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2019, 4:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...