लाइव टीवी

केंद्र सरकार का दावा - अनुच्‍छेद 370 हटाने के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर में सुधरी कानून व्‍यवस्‍था, लेकिन...

News18Hindi
Updated: November 19, 2019, 7:46 PM IST
केंद्र सरकार का दावा - अनुच्‍छेद 370 हटाने के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर में सुधरी कानून व्‍यवस्‍था, लेकिन...
1 जनवरी से 4 अगस्‍त 2019 तक जम्‍मू-कश्‍मीर में पत्‍थरबाजी और कानून-व्‍यवस्‍था से जुड़े 361 मामले दर्ज किए गए थे.

गृह राज्‍यमंत्री (Minister of State for Home) जीके रेड्डी (G Kishen Reddy) ने लोकसभा (Lok Sabha) में बताया कि सरकार ने पत्‍थरबाजी (Stone Pelting) को रोकने के लिए बहु-प्रचारित नीतियां (Multi-pronged Policies) अपनाईं. इसमें सरकार को सफलता भी मिली. उन्‍होंने बताया कि 5 अगस्‍त से 15 नवंबर, 2019 के बीच पत्‍थरबाजी और कानून-व्‍यवस्‍था से जुड़े 190 मामले दर्ज कर 765 लोगों को गिरफ्तार (Arrested) किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2019, 7:46 PM IST
  • Share this:
अरुणिमा

नई दिल्‍ली. गृह मंत्रालय (MHA) ने लोकसभा (Lok Sabha) में बताया कि अनुच्‍छेद-370 (Article 370) हटाने के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) में कानून-व्‍यवस्‍था (Law and Order) के हालात बेहतर हुए हैं. हालांकि, केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से संसद (Parliament) में पेश किए आंकड़े कुछ और ही कहानी कह रहे हैं. जब बीजेपी (BJP) सांसद कनकमल कटारा (Kanakmal Katara) ने पूछा कि 5 अगस्‍त को जम्‍मू-कश्‍मीर को दो केंद्रशासित राज्‍यों (Union Territories) में बांटने के फैसले के बाद पत्‍थरबाजी (Stone Pelting) की घटनाओं में कमी आई है तो गृह राज्‍यमंत्री जीके रेड्डी (GK Reddy) ने हां में जवाब दिया.

1 जनवरी से 4 अगस्‍त 2019 के बीच दर्ज किए गए थे 361 मामले
गृह मंत्रालय ने लोकसभा (Lok Sabha) में लिखित जवाब में बताया कि कश्‍मीर में 5 अगस्‍त से 15 नवंबर, 2019 तक पत्‍थरबाजी और कानून-व्‍यवस्‍था से जुड़े 190 मामले दर्ज कर 765 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इससे पहले 1 जनवरी से 4 अगस्‍त 2019 तक राज्‍य में पत्‍थरबाजी और कानून-व्‍यवस्‍था से जुड़े 361 मामले दर्ज किए गए थे. हालांकि, मंगलवार को लोकसभा में दिए जवाब में स्‍पष्‍ट तौर पर यह नहीं बताया गया कि 5 अगस्‍त से 15 नवंबर के बीच दर्ज मामलों में कितने सिर्फ पत्‍थरबाजी से जुड़े हैं. साथ ही यह भी नहीं बताया कि 5 अगस्‍त से पहले पत्‍थरबाजी के कितने मामले दर्ज हुए. सरकारी अधिकारियों का कहना है कि अनुच्‍छेद-370 हटाने के बाद 2016 में हिजबुल मुजाहिदीन (Hizbul Mujahideen) कमांडर बुरहान वानी (Burhan Wani) को मार गिराने के बाद हुई पथरबाजी की घटनाओं से कम मामले हुए हैं.

गृह राज्‍यमंत्री जीके रेड्डी ने लोकसभा में बताया, सरकार ने बड़ी संख्‍या में समस्‍या खड़ी करने वालों, भड़काने वालों और भीड़ जुटाने वालों की पहचान की. इसके बाद उनके खिलाफ कई सख्‍त एहतियाती कदम उठाए गए.


गृह मंत्रालय ने पत्‍थरबाजी के लिए हुर्रियत को ठहराया जिम्‍मेदार
गृह राज्‍यमंत्री रेड्डी ने लोकसभा में कहा कि सरकार ने पत्‍थरबाजी (Stone Pelting) को रोकने के लिए बहु-प्रचारित नीतियां (Multi-pronged Policies) अपनाईं. इसमें सरकार को सफलता भी मिली. सरकार ने बड़ी संख्‍या में समस्‍या खड़ी करने वालों, लोगों को भड़काने वालों और भीड़ जुटाने वालों की पहचान की. इसके बाद उनके खिलाफ कई सख्‍त एहतियाती कदम उठाए गए. उन्‍हें जनसुरक्षा कानून (PSA) के तहत हिरासत में रखा गया. रेड्डी ने इसके बाद भी हुई पत्‍थरबाजी की घटनाओं के लिए हुर्रियत (Hurriyat) समर्थित संगठनों को जिम्‍मेदार ठहराया. रेड्डी के मुताबिक, जांच में पता चला कि कश्‍मीर घाटी (Kashmir Valley) में हुई पत्‍थरबाजी में कई अलगाववादी संगठनों (Separatist Organisations) और कार्यकर्ताओं का हाथ था.
Loading...

टेरर फंडिंग केस में 18 लोगों के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट
राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने टेरर फंडिग केस में 18 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र (Chargesheet) दाखिल कर दिया है. रेड्डी ने एक दूसरे सवाल के जवाब में बताया कि पिछले छह महीने के भीतर जम्‍मू-कश्‍मीर में कुल 34,10,219 पर्यटक पहुंचे, जिनमें 12,934 विदेशी भी शामिल हैं. इससे राज्‍य को 25.12 करोड़ रुपये की आय हुई. केंद्र सरकार ने अनुच्‍छेद-370 हटाने से पहले ही अमरनाथ यात्रा रद्द कर लोगों को कश्‍मीर से लौटने को कहा था. इस एडवाइजरी को एक महीने पहले निरस्‍त कर दिया गया है. वहीं, स्‍कूलों में अब 99.7 फीसदी स्‍टूडेंट्स लौट आए हैं, जिनकी संख्‍या अनुच्‍छेद-370 हटाने के बाद एकदम घट गई थी. पेलेट गन के इस्‍तेमाल के सवाल पर रेड्डी ने कहा कि अब घाटी में कानून-व्‍यवस्‍था को लेकर गंभीर हालात पैदा होने पर ही इनका प्रयोग किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें:

कश्मीर मुद्दे पर संसद में केंद्र सरकार को घेरने की तैयारी में गुलाम नबी आजाद

क्‍या अमूमन शांत दिखने वाले उद्धव ठाकरे सियासी विरोधियों को कर पाएंगे परास्‍त?

वामपंथी नेता ने कहा- माओवादियों की मदद कर रहे मुस्लिम आतंकी

सुप्रीम कोर्ट मराठा आरक्षण पर अब जनवरी, 2020 में करेगा सुनवाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 7:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...