बुलेट ट्रेन को अन्य शहरों से भी जोड़ने की तैयारी कर रही है सरकार

रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगाडी ने राज्यसभा में बताया कि दिल्ली को कोलकाता और मुंबई से जोड़ने के अलावा अन्य प्रमुख शहरों के बीच बुलेट ट्रेन चलाने के बारे में विस्तृत अध्ययन कराया जा रहा है.

भाषा
Updated: July 26, 2019, 5:53 PM IST
बुलेट ट्रेन को अन्य शहरों से भी जोड़ने की तैयारी कर रही है सरकार
बुलेट ट्रेन को अन्य शहरों से भी जोड़ने की तैयारी में सरकार (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: July 26, 2019, 5:53 PM IST
मुंबई से अहमदाबाद को जोड़ने वाली बुलेट ट्रेन के नेटवर्क में अन्य शहरों को भी जोड़ने को लेकर अध्ययन कराया जा रहा है. रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगाडी ने शुक्रवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान एक सवाल के जवाब में बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा स्वीकृत मुंबई से अहमदाबाद के बीच 508 किमी दूरी की बुलेट रेल परियोजना को 2023 तक पूरा कर लिया जायेगा.

उन्होंने बताया कि दिल्ली को कोलकाता और मुंबई से जोड़ने के अलावा अन्य प्रमुख शहरों के बीच बुलेट ट्रेन चलाने के बारे में विस्तृत अध्ययन कराया जा रहा है. अध्ययन रिपोर्ट मिलने के बाद ही मंत्रालय यह तय करेगा कि किन शहरों को बुलेट ट्रेन के नेटवर्क से जोड़ा जायेगा.

अंगाडी ने कहा कि विशेष उद्देशीय कोष के रूप में गठित नेशनल हाई स्पीड रेल कार्पोरेशन 1.08 लाख करोड़ रुपये की लागत से मुंबई अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना को पूरा करेगा. इसमें गुजरात और महाराष्ट्र सरकार के अलावा केन्द्र सरकार की भी भागीदारी है.

36 हजार यात्री प्रतिदिन करेंगे यात्रा

हाई स्पीड रेल परियोजना की उपयोगिता पर उठते सवालों को नकारते हुये अंगाडी ने इस बारे में करायी गयी अध्ययन रिपोर्ट के हवाले बताया कि एक अनुमान के मुताबिक 36 हजार यात्री प्रतिदिन बुलेट ट्रेन से यात्रा करेंगे. मुंबई से अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन का संभावित किराया तीन हजार रुपये होगा.

297 गांव बुलेट ट्रेन के दायरे में आएंगे
उन्होंने परियोजना के काम में आ रही रुकावटों से जुड़े सवाल के जवाब में बताया कि गुजरात के 297 गांव इस रेल मार्ग के दायरे में आयेंगे. इन गांवों के 97 प्रतिशत से अधिक किसानों ने परियोजना के लिये अपनी जमीन अधिग्रहण के लिये देने की सहमति प्रदान कर दी है. इस आधार पर उन्होंने जमीन अधिग्रहण संबंधी बाधाओं के कारण परियोजना विलंबित होने की आशंकाओं को नकार दिया.
Loading...

2018-19 में हुई 139.20 करोड़ रुपये की आय
रेलवे को प्लेटफार्म टिकट की बिक्री से जुड़े एक अन्य सवाल के लिखित जवाब में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि इस मद में विभाग को 2018-19 में 139.20 करोड़ रुपये की आय हुई. जबकि इसी अवधि में रेलवे को प्लेटफार्मों पर विज्ञापनों और दुकानों से 230.47 करोड़ रुपये की आय हुई.
First published: July 26, 2019, 5:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...