होम /न्यूज /राष्ट्र /किसानों की आय को 2022 तक दुगुनी करेगी मोदी सरकारः अमित शाह

किसानों की आय को 2022 तक दुगुनी करेगी मोदी सरकारः अमित शाह

अमित शाह (फाइल फोटो).

अमित शाह (फाइल फोटो).

अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने कृषि फसलों की एमएसपी को लागत मूल्य का डेढ़ गुना करने का बड़ा फैसला लिया.

    किसान के मुद्दे पर विपक्ष के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार का 2022 तक किसानों की आय को दुगुना करने का लक्ष्य महज एक राजनीतिक बयान नहीं है बल्कि एक मिशन है और इसे प्रतिबद्धता से पूरा किया जाएगा.

    'कृषि आधारित अर्थव्यवस्था से जुड़ा सुधार: बीमा की भूमिका' विषय पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में किसानों के लिए पहली बार केंद्र की बीजेपी सरकार के दौरान ही पूरे तरीके से इस मुद्दे पर सोचना शुरू हुआ. उन्होंने कहा, ‘‘हमारे किसान दुनिया के सबसे मेहनती किसान हैं. उन्हें बेहतर जीवन जीने का अधिकार और देश के अर्थतंत्र में वर्षों से योगदान देने का पुरस्कार भी मिलना चाहिए, ये हमारी जिम्मेदारी है.’’

    ये भी पढ़ेंः कांग्रेस के गढ़ पर BJP की नजर, अमेठी के लिए शाह ने बनाया ये प्लान!

    किसानों के मुद्दे पर विपक्ष की आलोचनाओं को खारिज करते हुए शाह ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री द्वारा 2022 तक किसानों की आय को दुगुना करने का लक्ष्य महज एक राजनीतिक बयान नहीं है बल्कि एक मिशन है. इसकी शुरुआत हो चुकी है.’’

    अमित शाह ने कहा कि इस बात पर कोई शक नहीं है कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में हम 2022 तक किसानों की आय को दुगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल होंगे. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि जिस दिन किसानों की आय दुगुनी हो जायेगी, देश की जीडीपी में कृषि का योगदान खुद-ब-खुद तीस फीसदी हो जाएगा. उन्होंने कहा कि इससे देश के अर्थतंत्र को बहुत बड़ा लाभ होगा. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना इस दिशा में उठाया गया सबसे महत्वपूर्ण कदम है.

    ये भी पढ़ेंः जयपुर में बोले शाह: कहा, पूरे देश की नजर राजस्थान पर, सरकार बदलने की धारणा तोड़ेंगे

    शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने फसल बीमा योजना का कवरेज बुआई से लेकर खलिहान तक बढ़ाया और उसके सभी मानकों में बदलाव लाकर उसे तर्कसंगत बनाया. उन्होंने कहा कि अगले वित्तीय वर्ष तक इस योजना का कवरेज चालीस फीसदी से अधिक हो जाएगा जो भारत जैसे विशाल देश के लिए एक बड़ी है.

    अमित शाह ने दावा किया कि साल 2014 से पहले जो फसल बीमा योजनाएं चलती थीं, उनमें वास्तव में बैंकों के ऋण का बीमा होता था, वह व्यावहारिक रूप से किसानों और उनकी फसल के लिए तो था ही नहीं. फसलों के बीमा की शुरुआत तो वर्तमान केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से हुई है.

    किसान कल्याण की केंद्र सरकार की उपलब्धियों का ज़िक्र करते हुए शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने कृषि फसलों की एमएसपी को लागत मूल्य का डेढ़ गुना करने का बड़ा फैसला लिया. कई फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) तो लागत मूल्य का तीन-तीन, चार-चार गुना तक बढ़ाया गया है.

    उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पहली बार जैविक खादों पर भी सब्सिडी देने का फैसला लिया है जो भूमि सुधार, किसानों की आय को दुगुना करने और पशुपालन के विकास की दिशा में एक बड़ा कदम साबित होगा.

    बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार हमेशा सुधारों एवं सुझावों का स्वागत करती है ताकि योजनाओं को और बेहतर बनाया जा सके. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को और अधिक प्रभावी और लाभकारी बनाने के लिए निरंतर सुझावों और सलाहों पर ईमानदारी से अमल हो रहा है.

    Tags: Amit shah, Farmer Agitation, Farmer suicide attempt, Narendra modi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें