PM Modi in Bihar: मोदी ने रोहतास में खोला राज, देश को बताया आखिर क्यों लालू से अलग हुए थे नीतीश

नीतीश को डर था कि बिहार 15 साल पीछे चला जाएगा: पीएम मोदी
नीतीश को डर था कि बिहार 15 साल पीछे चला जाएगा: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi), राहुल गांधी, नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव जैसे कई बड़े नेता राज्य में चुनावी रैलियों को संबोधित कर रहे हैं. बिहार में 28 अक्टूबर, 3 और 7 नवंबर को चुनाव होने हैं. मतगणना 10 नवंबर को की जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2020, 3:40 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार में चुनावी माहौल चरम पर है. भारतीय सियासत के कई दिग्गज गद्दी पाने की जद्दोजहद में लगे हुए हैं. पूरे राज्य में सभाएं जारी हैं. खास बात है कि पीएम मोदी, नीतीश कुमार (Nitish Kumar), राहुल गांधी (Rahul Gandhi) जैसे बड़े नामों ने शुक्रवार को ही मंच से चुनावी अभियान (Election Campaign) का आगाज किया. इस दौरान सभी नेताओं ने बिहार की जनता के सामने अपनी बातें रखीं, लेकिन इस दौरान सबसे खास था पीएम मोदी का वह संबोधन जहां उन्होंने नीतीश और लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के अलग होने का कारण बताया.

'आपने इन्हें भरोसे के साथ सत्ता सौंपी थी'
पीएम मोदी बिहार के रोहतास (Rohtas) में बोल रहे थे. उन्होंने इस दौरान राज्य में धीमे विकास के पीछे विपक्ष की भूमिका को उजागर किया. उन्होंने कहा, 'बिहार के विकास की हर योजना को अटकाने और लटकाने वाले ये लोग हैं. जिन्होंने अपने 15 साल के शासन में लगातार बिहार को लूटा. आपने बहुत विश्वास के साथ इन्हें सत्ता सौंपी थी, लेकिन इन्होंने सत्ता को अपनी तिजोरी भरने का माध्यम बना लिया. जब बिहार के लोगों ने इन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया, नितीश जी को मौका दिया तो ये बौखला गए.'

नीतीश जी करते थे विनती- बिहार का विकास मत रोकिए
प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे कई मौके आए जब नीतीश इन लोगों से बिहार का विकास होने देने की विनती करते थे. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के सीएम बनने के बाद इन लोगों को गुस्सा आ गया था और इनके अंदर एक जहर भर गया था. उन्होंने कहा, 'इन लोगों ने 10 साल तक दिल्ली में यूपीए की सरकार (UPA Government) में रहते हुए बिहार पर, बिहार के लोगों पर अपना गुस्सा निकाला.' पीएम ने अपने गुजरात के सीएम कार्यकाल को याद करते हुए कहा कि मुझे याद है जब मैं भी गुजरात का सीएम था नितीश जी बिहार के सीएम थे. जब हम भारत सरकार की मीटिंग में जाया करते थे. नीतीश जी बार-बार उनको कहते थे कि आप बिहार के काम में रोड़े मत डालिए.



पूरे 10 साल किए बर्बाद
मोदी ने कहा कि नीतीश इन लोगों से कहा करते थे कि आप दिल्ली को बिहार की राजनीति का अखाड़ा मत बनाइए. उन्होंने कहा, '10 साल तक यूपीए सरकार में बैठे लोगों ने हार के गुस्से में नीतीश जी को एक काम नहीं करने देते थे. 10 साल बर्बाद कर दिए नितीश जी के.' पीएम ने कहा कि जब नीतीश कुमार राजनेताओं के खेल को समझ गए तो उन्होंने सत्ता छोड़ने का फैसला कर लिया.

बिहार में भाजपा और जनता दल (यूनाईटेड) के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) का गठबंधन है. राजग के मुकाबले राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेतृत्व में कांग्रेस और वामपंथी दलों का महागठबंधन मैदान में है. केंद्र में भाजपा की सहयोगी और पूर्व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान द्वारा गठित लोक जनशक्ति पार्टी अकेले चुनाव मैदान में है, जबकि पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सहित कुछ छोटे दलों का गठबंधन भी चुनावी मैदान में ताल ठोक रहा है. बिहार विधानसभा चुनाव तीन चरणों में, 28 अक्टूबर (71 सीटों), 3 नवंबर (94 सीटों) और 7 नवंबर (78 सीटों) को होगा. मतगणना 10 नवंबर को होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज