Home /News /nation /

Molnupiravir: कोरोना के मरीज को 5 दिन तक दी जाएगी एंटीवायरल गोली मोलनुपिरवीर, पूरे कोर्स का खर्च होगा इतना कम

Molnupiravir: कोरोना के मरीज को 5 दिन तक दी जाएगी एंटीवायरल गोली मोलनुपिरवीर, पूरे कोर्स का खर्च होगा इतना कम

भारत ने ओरल ड्रग Molnupiravir को मंजूरी देने की घोषणा की. यह गोली कोरोना के इलाज के लिए बनाई है.

भारत ने ओरल ड्रग Molnupiravir को मंजूरी देने की घोषणा की. यह गोली कोरोना के इलाज के लिए बनाई है.

देश में लगभग 13 दवा कंपनियां MSD और रिजबैक बायोथेरेप्यूटिक्स की तरफ से विकसित इस दवा को लॉन्च करने की तैयारी में हैं. मोलनुपिरवीर की दिन में दो बार 800 mg की डोज पांच दिनों तक लेनी होगी. कंपनियां 200 mg के कैप्सूल लॉन्च करने की योजना बना रही हैं, इसलिए एक मरीज को इलाज के दौरान ऐसे 40 कैप्सूल खाने होंगे.

अधिक पढ़ें ...

    हिमानी चंदन

    कोरोना वायरस के खिलाफ जंग के लिए अब तक कई वैक्सीन को मंजूरी दी गई है. कोरोना का इलाज तेजी से हो सके इसी कड़ी में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने एंटीवायरल गोली, मोलनुपिरवीर (Anti-viral Covid pill, Molnupiravir) को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी है. इस दवा से इलाज का खर्च काफी कम होगा. न्यूज18 इंडिया से बातचीत करते हुए ऑप्टिमस फार्मा के प्रमुख ने दावा किया है कि एंटीवायरल गोली, मोलनुपिरवीर की कीमत 40 से 75 रुपये प्रति टैबलेट हो सकती है. यह टैबलेट कोरोना के मरीजों को लगातार 5 दिनों तक दी जाएगी. यानि की एंटीवायरल गोली, मोलनुपिरवीर की 5 दिन के कोर्स की कीमत लगभग 3000 रुपये होगी.

    देश में लगभग 13 दवा कंपनियां MSD और रिजबैक बायोथेरेप्यूटिक्स की तरफ से विकसित इस दवा को लॉन्च करने की तैयारी में हैं. मोलनुपिरवीर (Molnupiravir) की दिन में दो बार 800 mg की डोज पांच दिनों तक लेनी होगी. कंपनियां 200 mg के कैप्सूल लॉन्च करने की योजना बना रही हैं, इसलिए एक मरीज को इलाज के दौरान ऐसे 40 कैप्सूल खाने होंगे. न्यूज18 के साथ खास बातचीत में  ऑप्टिमस फार्मा के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक डी श्रीनिवास रेड्डी ने कहा कि मोलनुपिरवीर निर्माण के लिए एक जटिल जेनेरिक नहीं है और इसकी कीमत 40 रुपये या 75 रुपये प्रति टैबलेट हो सकती है. 13 दवा निर्माताओं के अनुमान के अनुसार, 200 मिलीग्राम की ताकत में गोली लॉन्च की गई है. मोलनुपिरवीर की अनुशंसित खुराक पांच दिनों के लिए दिन में दो बार 800 मिलीग्राम है, जिसका अर्थ है कि पूरे उपचार के लिए 40 गोलियों की आवश्यकता होगी और कुल लागत 1,600 रुपये से 3,000 रुपये के बीच होगी.

    रेड्डी ने कहा, मोल्नुपिरवीर फेविपिरवीर की तुलना में एक जटिल जेनेरिक नहीं है. इसलिए, हमने पूरे भारत में लगभग 22 दवा निर्माताओं को तैयार दवा की आपूर्ति की. मोलनुपिरवीर के लिए, हम तीन फार्मा कंपनियों को तैयार फॉर्मूलेशन की आपूर्ति करेंगे.

    1000 मरीजों पर होगा गोली का ट्रायल
    मोलनुपिरवीर की सुरक्षा का आकलन करने के लिए 1,000 मरीजों पर इसका ट्रायल किया जाएगा. भारत के ड्रग रेगुलेटर की तरफ से जारी दवा के निर्माण और मार्केटिंग की अनुमति वाले पत्र में कहा गया कि तीन महीने के अंदर क्लीनिकल ट्रायल की अपडेट डिटेल देनी होगी.
    इसमें एक शर्त यह भी है कि, पोस्ट मार्केटिंग सर्विलांस के रूप में, कंपनियों को ड्रग रेगुलटर के सामने समय-समय पर सेफ्टी अपडेट रिपोर्ट पेश करनी होगी. इसके अलावा कंपनियों को स्थिरता पर भी स्टडी जारी रखने के लिए कहा गया है.

    Tags: Coronavirus, Coronavirus Case, Coronavirus Case in India, Molnupiravir, Omicron, Omicron New Case

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर