यस बैंक केस: स्पेशल PMLA कोर्ट ने राणा कपूर को जमानत देने से किया इनकार

ईडी ने आरोप लगाया है कि कर्ज को मंजूरी देने में कपूर, उनके परिवार के सदस्यों और अन्य को फायदा हुआ.

ईडी ने आरोप लगाया है कि कर्ज को मंजूरी देने में कपूर, उनके परिवार के सदस्यों और अन्य को फायदा हुआ.

स्पेशल पीएमएलए (Prevention of Money Laundering Act) अदालत ने बैंक से करोड़ों रुपये की कथित जालसाजी के मामले में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किए गए यस बैंक (Yes Bank) के संस्थापक राणा कपूर (Rana Kapoor) की जमानत याचिका मंगलवार को खारिज कर दी.

  • Share this:
मुंबई. स्पेशल पीएमएलए (Prevention of Money Laundering Act) अदालत ने बैंक से करोड़ों रुपये की कथित जालसाजी के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) द्वारा गिरफ्तार किए गए यस बैंक (Yes Bank) के संस्थापक राणा कपूर (Rana Kapoor) की जमानत याचिका मंगलवार को खारिज कर दी. कपूर ने मामले के गुण-दोष के आधार पर जमानत देने का अनुरोध किया था.

कोर्ट में राणा कपूर के वकीलों ने दलील दी कि मामले में जांच पूरी हो चुकी है इसलिए उन्हें जेल में रखने का कोई कारण नहीं है. इसके अलावा ज्यादातर साक्ष्य दस्तावेजी किस्म के हैं और इससे आरोपी छेड़छाड़ नहीं कर सकते. हालांकि, विशेष न्यायाधीश पी पी राजवैद्य ने कपूर की याचिका को खारिज कर दिया.

न्यायिक हिरासत में हैं राणा कपूर

धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत मार्च में गिरफ्तार किए गए कपूर फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं. प्रवर्तन निदेशालय कपूर, उनकी पत्नी और तीन बेटियों को एक कंपनी द्वारा मिले 600 करोड़ रुपये से ज्यादा के मामले में जांच कर रहा है. इस कंपनी का संचालन कथित तौर पर कपूर द्वारा किया जा रहा था और इसका संबंध दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (डीएचएफएल) से था.
ईडी ने आरोप लगाया है कि कर्ज को मंजूरी देने में कपूर, उनके परिवार के सदस्यों और अन्य को फायदा हुआ. कुछ कॉरपोरेट घरानों को भी आसान कर्ज देने का आरोप है जो बाद में गैर निष्पादित संपत्तियां (एनपीए) बन गई. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) भी संबंधित मामले में जांच कर रहा है.

यस बैंक लोन घोटाले से वधावन बंधुओं का क्या है जुड़ाव?

ED की ओर से यस बैंक मामले में दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड (DHFL) की भूमिका की जांच की जा रही है. इसमें 3700 करोड़ का लेनदेन जांच के दायरे में है. जांच एजेंसियों का आरोप है कि DHFL ने यस बैंक से कर्ज लेने के लिए बैंक के संस्थापक राणा कपूर के परिवार की कंपनियों को 600 करोड़ रुपये घूस में दिए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज