Home /News /nation /

monkeypox unlike coronavirus wont spread like wildfire says icmr dr nivedita gupta

कोरोना के बाद कहीं मंकीपॉक्स तो जंगल में आग की तरह नहीं फैलेगा? जानें ICMR की शीर्ष वायरोलॉजिस्ट की राय

दुनिया के 19 देश इस समय मंकीपॉक्स से प्रभावित हो चुके हैं. (फाइल फोटो)

दुनिया के 19 देश इस समय मंकीपॉक्स से प्रभावित हो चुके हैं. (फाइल फोटो)

Monkeypox Infection, Monkeypox Symptoms: बता दें कि देश की शीर्ष स्वास्थ्य अनुसंधान मंकीपॉक्स वायरस के वैश्विक उछाल की बारीकी से निगरानी कर रही है, और इससे बचाव के संभावित विकल्पों का मूल्यांकन कर रही है. कोविड महामारी के बीच 12 से अधिक देशों में लगभग 100 मामलों की पुष्टि के बाद मंकीपॉक्स वायरस ने स्वास्थ्य संकट पर एक नई चिंता पैदा कर दी है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) से अभी दुनिया को राहत नहीं मिली थी कि अब मंकीपॉक्स (Monkeypox) का खतरा बढ़ता जा रहा है. मंकीपॉक्स (Monkeypox Virus) को लेकर विश्वव स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि अब तक 19 देश मंकीपॉक्स से प्रभावित हो चुके हैं जबकि इस वायरस से अब तक 131 लोग संक्रमित हो चुके हैं. भारत में भी इस वायरस के संक्रमण के कुछ मामले सामने आए हैं. इस बीच मंकीपॉक्स (Monkeypox Symptoms) को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) में वायरोलॉजी की प्रमुख डॉ. निवेदिता गुप्ता ने बड़ी बात कही है. उन्होंने कहा कि मंकीपॉक्स वायरस जंगल में आग की तरह फैलेगा नहीं लेकिन इसके बढ़ते मामलों को देखते हुए पूरे भारत में सतर्कता बढ़ा दी गई है.

बता दें कि देश की शीर्ष स्वास्थ्य अनुसंधान मंकीपॉक्स वायरस के वैश्विक उछाल की बारीकी से निगरानी कर रही है, और इससे बचाव के संभावित विकल्पों का मूल्यांकन कर रही है. कोविड महामारी के बीच 12 से अधिक देशों में लगभग 100 मामलों की पुष्टि के बाद मंकीपॉक्स वायरस ने स्वास्थ्य संकट पर एक नई चिंता पैदा कर दी है.

संक्रमण के लिए देर तक संपर्क की आवश्यकता
डॉक्टर गुप्ता ने मंकीपॉक्स संक्रमण को लेकर कहा कि वायरस को संक्रमण पैदा करने के लिए बड़ी बूंदों की आवश्यकता होती है और इसलिए मंकीपॉक्स बहुत अधिक संक्रामक नहीं है. इसके साथ ही इसको फैलने के लिए किसी व्यक्ति को किसी रोगी के साथ लंबे समय तक संपर्क की आवश्यकता होती है इसलिए इसका प्रसार कोविड-19 जैसा तेजी नहीं हो सकता.

नया वायरस नहीं है मंकीपॉक्स
डॉक्टर निवेदिता ने कहा कि मंकीपॉक्स कोई नया वायरस नहीं है और कुछ अफ्रीकी देशों में यह अस्तित्व में हैं. आईसीएमआर ने इस वायरस को विदेशी वायरस के रूप में चिन्हित किया है और इसके संक्रमण के नमूमों को परीक्षण के लिए पुणे की प्रयोगशाला भेजा जा रहा है. उन्होंने कहा कि जो वायरस भारत में मौजूद नहीं है ऐसे सभी वायरस को विदेशी लेबल दिया जाता है और उनके नमूने पुणे स्थिति नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजे जाते हैं.

सभी एयरपोर्ट को भेजा गया संदेश
उन्होंने कहा कि यहां इस बात की जांच की जाती है कि वायरस के स्प्रेड होने या रिसाव की संभावना कितनी अधिक है और इससे प्रकोप की संभावना है या नहीं. उन्होंने बताया कि इस संबंध में सभी हवाई अड्डों को संदेश भेज दिया गया है कि विदेश से आने वाले यात्रियों के नमूने एनआईवी को भेजे जाएंगे.

Tags: Coronavirus, Covid19, ICMR

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर