Monsoon Update: जुलाई में अच्छी बारिश की संभावना, दिल्‍ली में उमस से बेहाल लोग

Monsoon Update: जुलाई में अच्छी बारिश की संभावना, दिल्‍ली में उमस से बेहाल लोग
जून में हुई अत्‍यधिक बारिश.

मौसम विभाग (Monsoon 2020) के आंकड़ों के अनुसार, जून महीने में दीर्घकालिक आवधिक औसत (एलपीए) की 118 प्रतिशत वर्षा हुई जिसे अत्यधिक बारिश (Heavy rain) माना जाता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बुधवार को कहा कि जून महीने में अत्यधिक बारिश हुई और जुलाई में भी अच्छी वर्षा का अनुमान है. मौसम विभाग (Monsoon 2020) के आंकड़ों के अनुसार, जून महीने में दीर्घकालिक आवधिक औसत (एलपीए) की 118 प्रतिशत वर्षा हुई जिसे अत्यधिक बारिश (Heavy rain) माना जाता है. विभाग ने कहा कि पिछले 12 साल में, इस साल जून सबसे अधिक भीगा रहा.

मौसम विभाग के मध्य भारत उपसंभाग में जून में हुई वर्षा एलपीए की 131 फीसदी रही. इस क्षेत्र में गोवा, कोंकण, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ आते हैं. पूर्वी और पूर्वोत्तर उप संभाग में हुई वर्षा एलपीए की 116 फीसदी रही. असम में बाढ़ आई और बिहार में भी अत्यधिक बरसात हुई. हालांकि मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि इन इलाकों में अगले पांच से दस दिन के भीतर बरसात में कमी आएगी.

उत्तर-पश्चिम उप संभाग में वर्षा एलपीए की 104 फीसदी रही और दक्षिण में यह एलपीए की 108 फीसदी रही. मौसम विभाग ने जुलाई माह में एलपीए की 103 फीसदी वर्षा का अनुमान जताया है. महापात्र ने कहा, 'जुलाई में अच्छी बारिश होने की उम्मीद है.' उन्होंने बताया कि गुजरात के तट के निकट तथा पूर्वी-मध्य भारत के ऊपर दो चक्रवात बन रहे हैं. इससे मध्य तथा दक्षिण भारत में अगले पांच से दस दिन में अच्छी बारिश होगी.



दिल्ली में गर्मी और उमस से बेहाल रहे लोग
दिल्ली वाले बारिश नहीं होने से बुधवार को उमस (उच्च आर्द्रता) और गर्मी से परेशान रहे. हालांकि, भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में इस सप्ताहांत बारिश हो सकती है. सफदरजंग वेधशाला, जहां के आंकड़ों को पूरे शहर का प्रतिनिधि माना जाता है, ने अधिकतम तापमान 38.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया जो सामान्य से एक डिग्री अधिक है. दिल्ली के अधिकतर इलाकों में अधिकतम तापमान 38 से 40 डिग्री के बीच रहा. आईएमडी ने दिल्ली में मानसून के सामान्य रहने का पूर्वानुमान जताया है लेकिन 25 जून को राष्ट्रीय राजधानी में मानसून के दस्तक देने के बावजूद पर्याप्त बारिश नहीं हुई है.

यूपी में जल्द ही फिर जोर पकड़ेगा मानसून
पिछले करीब एक हफ्ते से उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में खासा सक्रिय मानसून अब कुछ हल्का पड़ गया है. मगर एक-दो दिन बाद इसके फिर से जोर पकड़ने की संभावना है. आंचलिक मौसम केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में कुछ स्थानों पर वर्षा हुई. वहीं, राज्य के पश्चिमी भागों में मौसम आमतौर पर सूखा रहा.

यह भी पढ़ें: पुलिस का दावा- पाकिस्तानी आतंकी उस्मान ने किया सीआरपीएफ पर हमला

अगले 24 घंटों के दौरान भी राज्य के कुछ स्थानों पर बारिश होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की सम्भावना है. कुछ स्थानों पर तेज हवा भी चल सकती है. अगली तीन जुलाई को मानसून फिर से जोर पकड़ेगा और प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में ज्यादातर स्थानों और पश्चिमी भागों में कुछ जगहों पर वर्षा हो सकती है. चार जुलाई को राज्य के अधिकतर स्थानों पर बारिश होने की प्रबल सम्भावना है.

लू की चपेट में राजस्थान
मानसून के दस्तक देने के बावजूद राजस्थान के अनेक इलाके लू यानी गर्म हवाओं की चपेट में हैं. वहीं बीकानेर में बुधवार को दिन का अधिकतम तापमान 44.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग के अनुसार विशेषकर पूर्वी राजस्थान में अनेक जिलों में तेज गर्मी पड़ रही है और यह क्रम गुरुवार को भी जारी रहने का अनुमान है.

इस बीच बीते चौबीस घंटे में राज्य के कई हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई. सबसे अधिक बारिश भीलवाड़ा के बिजोलिया में 63 मिमी दर्ज की गई. इसके अलावा झालावाड़,कोटा, करौली, बारां, चित्तौड़गढ़, अलवर व जोधपुर जिलों कई जगह बारिश हुई. मौसम विभाग का कहना है कि बृहस्पतिवार को पूर्वी राजस्थान में अलवर, बांसवाड़ा, बारां, भीलवाड़ा, बूंदी, भरतपुर, चित्तौड़गढ़, धौलपुर व जयपुर में कहीं कहीं बारिश होने व बादल छाये रहने की उम्मीद है. वहीं पश्चिमी राजस्थान में बीकानेर, चुरू, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, जैसलमेर व जोधपुर में गर्म हवाएं यानी लू चलने की संभावना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज